1. हिन्दी समाचार
  2. BSNL और MTNL की मुफ्त सेवाओं पर अपनी ही सरकार के मंत्री से भिड़े राजीव प्रताप रूडी

BSNL और MTNL की मुफ्त सेवाओं पर अपनी ही सरकार के मंत्री से भिड़े राजीव प्रताप रूडी

Rajiv Pratap Rudy Confronted With His Own Government Minister In Lok Sabha Debate Over Call Drops Of Bsnl And Mtnl

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। लोकसभा में बुधवार को दूरसंचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद की टिप्पणी का भाजपा के ही सांसद राजीव प्रताप रूडी ने विरोध किया। प्रसाद ने कहा कि आपदा के समय सिर्फ सरकारी दूर संचार कंपनियां ही अपने ग्राहकों को मुफ्त सेवा मुहैया कराती हैं। प्रश्नकाल के दौरान सवालों का जवाब देते हुए प्रसाद ने कहा कि बाढ़ और साइक्लोन जैसी प्राकृतिक आपदाओं के समय केवल बीएसएनएल और एमटीएनएल ग्राहकों को फ्री सर्विसेज देती हैं।

पढ़ें :- योग गुरु बाबा रामदेव ने की गृहमंत्री से मुलाकात, कहा- मोदी की मनसा और नीति एकदम सही

बीजेपी के ही सांसद राजीव प्रताप रूडी ने टेलिकॉम मिनिस्टर के इस बयान का विरोध किया। उन्होंने कहा कि अन्य प्राइवेट ऑपरेटर भी आपदाओं के समय फ्री सर्विसेज देती हैं। इस पर प्रसाद ने दावा किया कि प्राइवेट कंपनियां केवल 2 दिन फ्री सर्विस देती हैं, जबकि बीएसएनएल और एमटीएनएल आपदा का प्रभाव खत्म होने तक मुफ्त सेवाएं देती हैं।

रुडी का दावा, ‘कॉल ड्रॉप होने के बाद भी पैसे काटती हैं सरकारी कंपनियां’

रूडी ने यह दावा भी किया कि बीएसएनएल/एमटीएनएल अक्सर कॉल ड्रॉप होने के बाद भी पैसे काटती रहती हैं। उन्होंने कहा कि चूंकि ये सरकारी कंपनियां हैं, लिहाजा जनता को ये सही सुविधा नहीं देंगी तो लोग आखिर में सरकार को ही दोषी ठहराएंगे। विपक्ष के कुछ सदस्यों ने कहा कि इस मामले में सुधार के लिए रूडी को मंत्री बनाया जाना चाहिए। रूडी पिछली सरकार में राज्य मंत्री थे।

प्रसाद ने कहा, ‘सरकारी कंपनियां वित्तीय संकट से जूझ रहीं’

पढ़ें :- प्रदेश में 3 आईएएस अधिकारियों के तबादले, डीपीआर हरियाणा को अतिरिक्त कार्यभार

प्रसाद ने लोकसभा में कहा कि भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) और महानगर टेलीकॉम निगम लिमिटेड (MTNL) जैसी कंपनियां 4जी सर्विसेज स्पेक्ट्रम की कमी और कर्मचारियों के वेतन पर ज्यादा खर्च होने से प्राइवेट कंपनियों का मुकाबला नहीं कर पा रही हैं। प्राइवेट टेलीकॉम कंपनियों की डेटा प्राइस भी काफी कम है। उन्होंने कहा कि वित्तीय परेशानियों से जूझ रही कंपनियों के रिवाइवल के प्लान तैयार किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...