1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Rajkumar Pal Jeevan Parichay: संघर्ष की दास्तान और होठों पर मुस्कान, विधायक राजकुमार पाल की यही है पहचान

Rajkumar Pal Jeevan Parichay: संघर्ष की दास्तान और होठों पर मुस्कान, विधायक राजकुमार पाल की यही है पहचान

Rajkumar Pal Jeevan Parichay: होठों पर मुस्कान और प्रणाम की मुद्रा के साथ सरलता ने राजकुमार को प्रतापगढ़ ​248- सदर विधनसभा सीट(assembly seat) का प्रतिनिधि बना दिया। ये बात उस समय की है जब यूपी में 2017 विधानसभा की 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव (by-election)हो रहा था।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Rajkumar Pal Jeevan Parichay: होठों पर मुस्कान और प्रणाम की मुद्रा के साथ सरलता ने राजकुमार को प्रतापगढ़ ​248- सदर विधनसभा सीट(assembly seat) का प्रतिनिधि बना दिया। ये बात उस समय की है जब यूपी में 2017 विधानसभा की 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव (by-election)हो रहा था। अपना दल के प्रत्याशी राजकुमार पाल ने प्रतापगढ़ सीट से जीत दर्ज की। विधायक राजकुमार पाल (MLA Rajkumar Pal)ने जीवन में संघर्ष करते हुए यह मुकाम पाया।

पढ़ें :- Rama Shankar Singh Patel jeevan parichay : रमाशंकर दिग्गज कांग्रेसी को हराकर बने विधायक, योगी ने दिया मंत्री पद

राजकुमार प्रतापगढ़ (Pratapgarh) जिला मुख्यालय से सटे गांव पूरे ईश्वर नाथ गांव के रहने वाले हैं। ककहरा सीखने के लिए पड़ोस के प्राथमिक विद्यालय में जाते थे।आगे की पढ़ाई के लिए प्रतापगढ़ शहर में स्थित तिलक कालेज में दाखिला लिया। स्नातक की शिक्षा के साकेत महाविद्यालय फैजाबाद का रूख किया। लेकिन भाग्य को कुछ और ही मंजूर था। यहां परिस्थितियों ने इनको धोखा दिया। पढ़ाई के बीच में ही किस्मत ने करवट ली। पिता की तबियत खराब होने और घर की आर्थिक तंगी की वजह से बीए सेकंड ईयर में पढ़ाई छोड़ रोजी रोटी के और पारिवारिक जिम्मेदारियों का भार उठाने के लिए मुम्बई कमाने चले गए। वहां कुछ दोस्तों की मदद से एक ऑटो चलाने को मिल गया। 1985 में ऑटो चालक बन गए।

1993 में गांव वापस लौटने के बाद सपा में शामिल होकर राजनीति (Politics)की शुरुआत कर दी। समय का पहिया घूमता रहा राजकुमार कुछ साल बाद भाजपा में शामिल हो गए।

वर्ष 1995 में इनकी पत्नी राज कुमारी पाल ग्राम प्रधान बनीं। इसके बाद राजकुमार ग्राम प्रधान और पत्नी क्षेत्र पंचायत सदस्य निर्वाचित हुईं। पत्नी 2 बार ग्राम प्रधान रहीं। दूसरे कार्यकाल में उनका बीमारी के कारण निधन हो गया। जिसके बाद बेटी प्रियंका निर्विरोध ग्राम प्रधान चुनी गई।

उत्तर प्रदेश की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अपने 10 प्रत्याशियों का एलान किया। यहां से बीजेपी नेता राजकुमार पाल अब अपना दल के टिकट पर चुनाव मैदान में ताल ठोकने उतरे। यह प्रतापगढ़ सीट अपना दल (एस) के विधायक रहे संगमलाल गुप्ता के सांसद चुने जाने के कारण खाली हुई थी। संगमलाल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में इस सीट पर अपना दल (एस) ) Apna Dal(s)  के टिकट पर विधायक चुने गए थे। बीजेपी ने प्रतापगढ़ सीट अपने सहयोगी अपना दल (एस) को दिया। मतगणना के बाद अपना दल-भाजपा के संयुक्त उम्मीदवार (Apna Dal-BJP joint candidate) राजकुमार पाल को 29 हजार 721 वोटों से विजयी घोषित किया गया। राजकुमार पाल को निर्वाचित घोषित किया गया। समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ गई। राजकुमार को 52949 वोट मिले।

पढ़ें :- Ratnakar Mishra jeevan parichay : मां विंध्यवासिनी मंदिर के पुरोहित रत्नाकर मिश्रा बने विधायक, 20 साल बाद खिलाया कमल

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...