DRDO कांफ्रेंस में राजनाथ सिंह ने अब्दुल कलाम को किया याद, कहा देश कभी नहीं भूलेगा उनका योगदान

RAJNATH SINGH
DRDO कांफ्रेंस में राजनाथ सिंह ने अब्दुल कलाम को किया याद, कहा देश कभी नहीं भूलेगा उनका योगदान

नई दिल्‍ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को डीआरडीओ निदेशकों के 41 वें सम्मेलन में देश पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइलमैन एपीजे अब्दुल कलाम को उनकी 88 वीं जयंती पर याद किया। रक्षा मंत्री ने कहा कि उनका आभार व्यक्त करता हूं। वह एक महान वैज्ञानिक थे। अनुसंधान और मिसाइल विकास में उनके योगदान ने भारत को विश्व के चुनिंदा देशों की सूची में खड़ा कर दिया। इस दौरान आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने भी 41वें डीआरडीओ डायरेक्‍टर्स कांफ्रेंस को संबोधित किया।

Rajnath Singh Remembers Abdul Kalam At Drdo Conference Says The Country Will Never Forget His Contribution :

आर्मी चीफ ने कहा कि डीआरडीओ का प्रयास है कि तमाम जरूरतें देश में ही पूरी हो जाए। हमें पूरा विश्‍वास है कि अगली बार हम स्‍वदेशी हथियारों से लड़ेंगे और हमारी जीत होगी। भविष्‍य के लिए हम सिस्‍टम के प्रबंधन को देख रहे हैं। हमने साइबर, अंतरिक्ष, लेजर, इलेक्‍ट्रॉनिक और रोबोटिक टेक्‍नोलॉजीज के साथ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर भी ध्‍यान देना शुरू कर दिया है।

इस मौके पर एनएसए अजीत डोभाल ने कहा,’ मॉडर्न वर्ल्‍ड में टेक्‍नोलॉजी और धन दो चीजें ऐसी हैं जो जियो पॉलिटिक्‍स को प्रभावित करेगी। इन दोनों में से अधिक महत्‍वपूर्ण है टेक्‍नोलॉजी। कौन जीतेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि इन दो चीजों को प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद किसने हासिल कर लिया है।’

पूर्व राष्‍ट्रपति अब्‍दुल कलाम आजाद की जयंती पर आज DRDO भवन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत, भारतीय वायु सेना प्रमुख मार्शल आरकेएस भदौरिया और नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

नई दिल्‍ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को डीआरडीओ निदेशकों के 41 वें सम्मेलन में देश पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइलमैन एपीजे अब्दुल कलाम को उनकी 88 वीं जयंती पर याद किया। रक्षा मंत्री ने कहा कि उनका आभार व्यक्त करता हूं। वह एक महान वैज्ञानिक थे। अनुसंधान और मिसाइल विकास में उनके योगदान ने भारत को विश्व के चुनिंदा देशों की सूची में खड़ा कर दिया। इस दौरान आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने भी 41वें डीआरडीओ डायरेक्‍टर्स कांफ्रेंस को संबोधित किया। आर्मी चीफ ने कहा कि डीआरडीओ का प्रयास है कि तमाम जरूरतें देश में ही पूरी हो जाए। हमें पूरा विश्‍वास है कि अगली बार हम स्‍वदेशी हथियारों से लड़ेंगे और हमारी जीत होगी। भविष्‍य के लिए हम सिस्‍टम के प्रबंधन को देख रहे हैं। हमने साइबर, अंतरिक्ष, लेजर, इलेक्‍ट्रॉनिक और रोबोटिक टेक्‍नोलॉजीज के साथ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर भी ध्‍यान देना शुरू कर दिया है। इस मौके पर एनएसए अजीत डोभाल ने कहा,' मॉडर्न वर्ल्‍ड में टेक्‍नोलॉजी और धन दो चीजें ऐसी हैं जो जियो पॉलिटिक्‍स को प्रभावित करेगी। इन दोनों में से अधिक महत्‍वपूर्ण है टेक्‍नोलॉजी। कौन जीतेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि इन दो चीजों को प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद किसने हासिल कर लिया है।' पूर्व राष्‍ट्रपति अब्‍दुल कलाम आजाद की जयंती पर आज DRDO भवन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत, भारतीय वायु सेना प्रमुख मार्शल आरकेएस भदौरिया और नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की।