कश्मीर दौरे पर गए केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ बोले- ‘बच्चों को पत्थरबाजी के लिए गुमराह किया गया’

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कहा कि बच्चे गलतियां कर सकते हैं, इसीलिए सरकार ने उन युवाओं के खिलाफ मुकदमे वापस लेने का फैसला किया है जिन्हें सुरक्षा कर्मियों पर पत्थर फेंकने के लिए गुमराह किया गया था। राजनाथ ने शेर-ए-कश्मीर इंडोर स्टेडियम में 6,000 से अधिक युवाओं को संबोधित करते हुए कहा, बच्चे गलतियां कर सकते हैं। यही कारण है कि हमने उन बच्चों के खिलाफ मुकदमा वापस लेने का फैसला किया है जिन्हे पत्थरबाजी के लिए गुमराह किया गया था। उन्होंने कहा कि हम और हमारी सरकार चाहती है कि यहां के युवाओं को रोजगार मिले, इसके लिए सरकार कई सारी योजनाएं चला रही हैं

Rajnath Singh Says Will Change The Fate And Face Of Kashmir :

राजनाथ ने कहा कि केंद्र सरकार जम्मू एवं कश्मीर के युवाओं के भविष्य को लेकर चिंतित है। पिछले साल सरकार के पत्थरबाजी करने वाले 6,000 से अधिक युवाओं के खिलाफ मुकदमे वापस लेने के फैसले का बचाव करते हुए उन्होंने कहा, हर जगह के बच्चे एक समान होते हैं। हम समझते हैं कि कुछ युवाओं को पत्थरबाजी करने के लिए गुमराह किया गया था।

उन्होंने कहा, मैं युवाओं से अपील करना चाहता हूं कि उन्हें विकास के मार्ग का पालन करना चाहिए। उन्हें विनाश के रास्ते पर नहीं जाना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जम्मू-कश्मीर से बहुत प्यार है। उन्होंने कहा कि केंद्र जम्मू एवं कश्मीर के युवाओं के भविष्य को लेकर चिंतित है।

राजनाथ सिंह ने कश्मीर के युवाओं से अपील करते हुए कहा कि तबाही और तरक्की में किसी एक का दामन पकड़ना हो तो, कभी तबाही का दामन मत पकडना। हमेशा तरक्की का दामन पकड़ना, क्योंकि आपकी तरक्की में ही आपका भविष्य निर्भर है और मुल्क की तरक्की निर्भर है।

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कहा कि बच्चे गलतियां कर सकते हैं, इसीलिए सरकार ने उन युवाओं के खिलाफ मुकदमे वापस लेने का फैसला किया है जिन्हें सुरक्षा कर्मियों पर पत्थर फेंकने के लिए गुमराह किया गया था। राजनाथ ने शेर-ए-कश्मीर इंडोर स्टेडियम में 6,000 से अधिक युवाओं को संबोधित करते हुए कहा, बच्चे गलतियां कर सकते हैं। यही कारण है कि हमने उन बच्चों के खिलाफ मुकदमा वापस लेने का फैसला किया है जिन्हे पत्थरबाजी के लिए गुमराह किया गया था। उन्होंने कहा कि हम और हमारी सरकार चाहती है कि यहां के युवाओं को रोजगार मिले, इसके लिए सरकार कई सारी योजनाएं चला रही हैं राजनाथ ने कहा कि केंद्र सरकार जम्मू एवं कश्मीर के युवाओं के भविष्य को लेकर चिंतित है। पिछले साल सरकार के पत्थरबाजी करने वाले 6,000 से अधिक युवाओं के खिलाफ मुकदमे वापस लेने के फैसले का बचाव करते हुए उन्होंने कहा, हर जगह के बच्चे एक समान होते हैं। हम समझते हैं कि कुछ युवाओं को पत्थरबाजी करने के लिए गुमराह किया गया था। उन्होंने कहा, मैं युवाओं से अपील करना चाहता हूं कि उन्हें विकास के मार्ग का पालन करना चाहिए। उन्हें विनाश के रास्ते पर नहीं जाना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जम्मू-कश्मीर से बहुत प्यार है। उन्होंने कहा कि केंद्र जम्मू एवं कश्मीर के युवाओं के भविष्य को लेकर चिंतित है। राजनाथ सिंह ने कश्मीर के युवाओं से अपील करते हुए कहा कि तबाही और तरक्की में किसी एक का दामन पकड़ना हो तो, कभी तबाही का दामन मत पकडना। हमेशा तरक्की का दामन पकड़ना, क्योंकि आपकी तरक्की में ही आपका भविष्य निर्भर है और मुल्क की तरक्की निर्भर है।