प्रियंका चतुर्वेदी को राज्यसभा उम्मीदवार बनाने पर शिवसेना में बगावत!

priyanka
प्रियंका चतुर्वेदी को राज्यसभा उम्मीदवार बनाने पर शिवसेना में बगावत!

नई दिल्ली। आगामी राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) में शिवसेना (Shiv Sena) द्वारा महाराष्ट्र (Maharashtra) से प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) को उम्मीदवार बनाये जाने से पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं औरंगाबाद से पूर्व सांसद चंद्रकांत खैरे नाराज नजर आ रहे हैं।

Rajya Sabha Elections Former Shiv Sena Mp Khaire Angry Over Priyanka Chaturvedi S Nomination :

खैरे ने तंज कसते हुए कहा कि आदित्य ठाकरे की शिवसेना को शायद उनके जैसे पुराने नेताओं की जरूरत नहीं है और प्रियंका चतुर्वेदी हिंदी-अंग्रेजी अच्छा बोलती हैं, अच्छा हैं संसद में प्रभावी तरीके से मुद्दों को रख सकेंगी, हमारा क्या है, हम तो अपना काम करते ही रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़ कर अप्रैल 2019 में शिवसेना में शामिल हुई थी। उस वक्त शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा था कि शिवसेना कार्यकर्ता को चतुर्वेदी के रूप में एक अच्छी बहन मिल गई है।

शिवसेना नेता खैरे ने कहा कि वह दो दशक तक सांसद रहे हैं। चार बार सांसद रहे और पिछले लोकसभा चुनाव में औरंगाबाद सीट पर एआईएमआईएम के इम्तियाज जलील से पराजित हुए खैरे ने कहा, ‘राज्यसभा के लिए मेरी उम्मीदवारी मराठवाड़ा क्षेत्र की मांग की थी और यदि मुझे उम्मीदवार बनाया जाता तो पार्टी को इस क्षेत्र में कहीं अधिक मजबूती मिलती।’ ‘

बेहतरीन ब्लॉगर हैं प्रियंका

प्रियंका ने अपने करियर की शुरुआत मीडिया पीआर और इवेंट मैनेजमेंट कंपनी एमपॉवर कंसल्टेंट्स से बतौर डायरेक्टर की थी। वह प्रयास चैरिटेबल ट्रस्ट की ट्रस्टी हैं , वो बेहतरीन ब्लॉगर लिखने के लिए भी जानी जाती हैं, उनका ब्लॉग किताबों का रीव्यू लिखता है और काफी लोकप्रिय है।

राजनीतिक जीवन की शुरुआत

वाद-विवाद में बेहद ही प्रवीण मानी जाने वाली प्रियंका ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत साल 2010 में कांग्रेस ज्वाइन करके की थी, धीरे-धीरे पार्टी के अंदर इनका कद बढ़ता गया और ये साल 2012 में उत्तर-पश्चिमी मुंबई के भारतीय युवा कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी बना दी गईं और साल 2013 में कांग्रेस पार्टी ने अपना राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया था।

नई दिल्ली। आगामी राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) में शिवसेना (Shiv Sena) द्वारा महाराष्ट्र (Maharashtra) से प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) को उम्मीदवार बनाये जाने से पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं औरंगाबाद से पूर्व सांसद चंद्रकांत खैरे नाराज नजर आ रहे हैं। खैरे ने तंज कसते हुए कहा कि आदित्य ठाकरे की शिवसेना को शायद उनके जैसे पुराने नेताओं की जरूरत नहीं है और प्रियंका चतुर्वेदी हिंदी-अंग्रेजी अच्छा बोलती हैं, अच्छा हैं संसद में प्रभावी तरीके से मुद्दों को रख सकेंगी, हमारा क्या है, हम तो अपना काम करते ही रहेंगे। उल्लेखनीय है कि चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़ कर अप्रैल 2019 में शिवसेना में शामिल हुई थी। उस वक्त शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा था कि शिवसेना कार्यकर्ता को चतुर्वेदी के रूप में एक अच्छी बहन मिल गई है। शिवसेना नेता खैरे ने कहा कि वह दो दशक तक सांसद रहे हैं। चार बार सांसद रहे और पिछले लोकसभा चुनाव में औरंगाबाद सीट पर एआईएमआईएम के इम्तियाज जलील से पराजित हुए खैरे ने कहा, ‘राज्यसभा के लिए मेरी उम्मीदवारी मराठवाड़ा क्षेत्र की मांग की थी और यदि मुझे उम्मीदवार बनाया जाता तो पार्टी को इस क्षेत्र में कहीं अधिक मजबूती मिलती।’ ' बेहतरीन ब्लॉगर हैं प्रियंका प्रियंका ने अपने करियर की शुरुआत मीडिया पीआर और इवेंट मैनेजमेंट कंपनी एमपॉवर कंसल्टेंट्स से बतौर डायरेक्टर की थी। वह प्रयास चैरिटेबल ट्रस्ट की ट्रस्टी हैं , वो बेहतरीन ब्लॉगर लिखने के लिए भी जानी जाती हैं, उनका ब्लॉग किताबों का रीव्यू लिखता है और काफी लोकप्रिय है। राजनीतिक जीवन की शुरुआत वाद-विवाद में बेहद ही प्रवीण मानी जाने वाली प्रियंका ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत साल 2010 में कांग्रेस ज्वाइन करके की थी, धीरे-धीरे पार्टी के अंदर इनका कद बढ़ता गया और ये साल 2012 में उत्तर-पश्चिमी मुंबई के भारतीय युवा कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी बना दी गईं और साल 2013 में कांग्रेस पार्टी ने अपना राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया था।