गुजरात कांग्रेस में बगावत के बाद राज्यसभा में बरपा हंगामा

नई दिल्ली। राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले गुजरात कांग्रेस के विधायकों के इस्तीफा देने से बौखलाए विपक्ष ने शुक्रवार को राज्यसभा में जमकर हंगामा काटा। सभापति पीजे कुरियन की कुर्सी के पास जाकर बार—बार कांग्रेसी सदस्यों द्वारा की गई नारेबाजी के चलते सदन की कार्रवाई को चार बार रोका गया। लेकिन कांग्रेसी सदस्य गुजरात में चल रहे राजनीतिक घटनक्रम को लेकर अपने रुख पर कायम रही जिसके बाद सदन की कार्रवाई को पूरे दिन के लिए स्थगित करना पड़ा।

मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को राज्यसभा में गैरसरकारी कार्रवाई होनी थी। इससे पहले कि कार्रवाई शुरू होती कांग्रेस के सदस्यों ने सदन के भीतर नारेबाजी शुरू कर दी। जिसके चलते शून्यकाल और प्रश्नकाल कांग्रेस के सदस्यों के हंगामें की भेंट चढ़ गया।

कांग्रेस के सदस्यों ने राज्यसभा में बीजेपी पर आरोप लगाया कि गुजरात में सत्ता का गलत प्रयोग करते हुए हुए बीजेपी सरकार ने पुलिस के जरिए एक विधायक का अपहरण कर लिया है। जिसके पीछे की मंशा राज्य में होने वाले राज्यसभा चुनावों को प्रभावित करने की है।

कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि किसी भी चुनाव को पारदर्शी और निष्पक्ष तरीके से करवाने की जिम्मेदारी निर्वाचन आयोग की है। अगर ऐसी कोई भी शिकायत है तो उसे निर्वाचन आयोग के समक्ष दर्ज करवाना चाहिए न कि सदन में, क्योंकि यह सदन के अधिकार क्षेत्र का विषय नहीं है। नकवी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस की ओर से गुलाम नवी आजाद ने कहा कि सदन की जिम्मेदारी है कि वह संविधान की रक्षा करे।

मुख्तार अब्बास नकवी ने कांग्रेस के आरोपों पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि कांग्रेस गुजरात सरकार पर बे​बुनियाद आरोप लगा रही है। वास्तविकता में तो कांग्रेस अपना घर ही नहीं संभाल पा रही है। ऐसे में उसे राज्य सरकार पर आरोप लगाने के लिए मांफी मांगनी चाहिए।

हालांकि इस पूरे मामले पर सभापति पीजे कुरियन ने कहा कि कांग्रेस को गुजरात की परिस्थिति को निर्वाचन आयोग के समक्ष रखना चाहिए क्योंकि यह सभापति के हस्तक्षेप और अधिकार क्षेत्र का का विषय नहीं है।

आपको बता दें कि कांग्रेस अपने गुजरात में अपने तीन विधायकों के इस्तीफा देने के बाद से बौखलाई हुई है। गुजरात के वर्तमान राजनीतिक घटनाक्रमों में राज्यसभा जाने की तैयारी कर रहे अहमद पटेल की जीत खतरे में पड़ती नजर आ रही है। हालांकि कांग्रेस ने राज्यसभा में गुजरात कांग्रेस के विधायक पूनाभाई गामित की गिरफ्तारी को लेकर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस का आरोप है कि गुजरात की बीजेपी सरकार ने पुलिस का गलत फायदा उठाते हुए कांग्रेस की बैठक से वापस लौट रहे पूनाभाई गामित का अपहरण कर लिया है। कांग्रेस ने इस घटना को संविधान का उल्लंघन बताया है।