1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Rakesh Tikait बोले- धरना खत्म हुआ, आंदोलन नहीं, 6 सितंबर को दिल्ली में संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक

Rakesh Tikait बोले- धरना खत्म हुआ, आंदोलन नहीं, 6 सितंबर को दिल्ली में संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक

संयुक्त किसान मोर्चा (United Kisan Morcha) का विभिन्न मांगो को लेकर चल रहा धरना शनिवार दोपहर तीन बजे डीएम को ज्ञापन देने के बाद खत्म हो गया। इसके साथ ही किसानों की रवानगी शुरू हो गई। मंच से संबोधित करते हुए राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि धरना खत्म हुआ है, आंदोलन नहीं। जब तक मंत्री अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra Teni) की बर्खास्तगी नहीं हो जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखीमपुर खीरी। संयुक्त किसान मोर्चा (United Kisan Morcha) का विभिन्न मांगो को लेकर चल रहा धरना शनिवार दोपहर तीन बजे डीएम को ज्ञापन देने के बाद खत्म हो गया। इसके साथ ही किसानों की रवानगी शुरू हो गई। मंच से संबोधित करते हुए राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि धरना खत्म हुआ है, आंदोलन नहीं। जब तक मंत्री अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra Teni) की बर्खास्तगी नहीं हो जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा। कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा (United Kisan Morcha)  की अगली बैठक छह सितंबर को दिल्ली में होगी।

पढ़ें :- BJP झूठ बोलने में 'Gold Medal' जीत सकती है : राकेश टिकैत

टिकैत ने बताया की समझौता हुआ था कि मारे गए किसानों के परिजनों को सरकारी नौकरी के साथ ही मुआवजा व घायलों को भी मुआवजा की बात थी। इसके अलावा किसानों पर दर्ज मुकदमे की वापसी की बात कही गई थी, लेकिन 11 महीने बीतने के बाद कुछ नहीं हुआ।
वार्ता के बाद टिकैत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि प्रशासन ने सीएम से बात करवाने को लेकर असमर्थता जताई है। साथ ही यह भी कहा कि तिकुनिया हिंसा (Tikunia Violence) के बाद किसानों और सरकार के बीच जो समझौता हुआ था, उसकी पूर्ति करने में वह सक्षम नहीं हैं। अधिकारियों ने अपने ऊपर के अधिकारियों से इस मामले में बात कराने के लिए आश्वासन दिया है।

भाकियू की प्रमुख मांगें-

लखीमपुर खीरी जिला (Lakhimpur Kheri District) के तिकुनियां में चार किसानों और एक पत्रकार की हत्या करने की साजश रचने के मामले में मंत्री अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra Teni) को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाए और गिरफ्तार करके जेल भेजा जाए।

लखीमपुर खीरी हत्याकांड (Lakhimpur Kheri massacre) में ‘निर्दोष होते हुए भी’ जेल में बंद किसानों को तुरंत रिहा किया जाए और उनके ऊपर लगे केस तुरंत वापस लिए जाएं।

पढ़ें :- 'दो कौड़ी' वाले बयान पर राकेश टिकैत बोले- "उनका बेटा एक साल से जेल में है इसलिए गुस्से में है, हम किसी की जुबान बंद नहीं कर सकते

सभी फसलों के ऊपर स्वामीनाथन कमीशन (Swaminathan Commission) के द्वारा सी-2 +50% के फार्मूले से एमएसपी की गारंटी (MSP Guarantee) । एमएसपी पर गारंटी वाला कानून (Guarantee Act on MSP) केंद्र सरकार द्वारा बनाया जाए।

किसान आंदोलन (Peasant Movement)के दौरान केंद्र शासित प्रदेशों व अन्य राज्यों में जो केस किसानों के ऊपर लाद दिए गए थे वो तुरंत वापस लिए जाएं।

बिजली बिल-2022 (Electricity Bill-2022) वापस लिया जाए।

भारत के सभी किसानों का एकमुश्त कर्ज मुक्त किया जाए।

 

पढ़ें :- Ajay Mishra Teni के फिर बिगड़े बोल : राकेश टिकैत दो कौड़ी का आदमी ,लोकतंत्र के चौथे स्तंभ 'मीडिया' पर बोला हमला

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...