1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. राकेश टिकैत ने ममता बनर्जी से मुलाकात का बताया अजेंडा, किसानों के लिए की ये मांग

राकेश टिकैत ने ममता बनर्जी से मुलाकात का बताया अजेंडा, किसानों के लिए की ये मांग

देश में किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे राकेश टिकैत बुधवार को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से मुलाकात करेंगे। इससे पहले टिकैत ने बातचीत के अजेंडे के बारे में खुलासा किया है। टिकैत ने कहा कि मैं करीब 3 बजे ममता बनर्जी से मुलाकात करूंगा। उन्होंने कहा कि हमारी बात कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा और स्थानीय किसानों के मुद्दे पर होगी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। देश में किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे राकेश टिकैत बुधवार को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से मुलाकात करेंगे। इससे पहले टिकैत ने बातचीत के अजेंडे के बारे में खुलासा किया है। टिकैत ने कहा कि मैं करीब 3 बजे ममता बनर्जी से मुलाकात करूंगा। उन्होंने कहा कि हमारी बात कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा और स्थानीय किसानों के मुद्दे पर होगी।

पढ़ें :- Mulayam Singh Yadav jeevan parichay : पिता की ख्वाहिश थी बेटा करे पहलवानी, पर मुलायम सिंह यादव बने सियासत के पक्के​​ खिलाड़ी

भारतीय किसान यूनियन के नेता ने कहा कि सरकार को बंगाल के किसानों से नियमित तौर पर बात करनी चाहिए। टिकैत ने कहा कि यूपी में किसानों की हर महीने जिलाधिकारियों संग बैठक होती है। इसमें सभी विभागों के अधिकारी मौजूद रहते हैं।

टिकैत ने कहा कि इस पॉलिसी को सभी राज्यों में लागू किया जाना चाहिए। इससे पहले राकेश टिकैत ने पश्चिम बंगाल चुनाव के दौरान बीजेपी के खिलाफ प्रचार किया था और टीएमसी का समर्थन किया था। इसके बाद से ही टीएमसी और राकेश टिकैत के बीच नजदीकी बढ़ गई थी। बता दें कि ममता बनर्जी किसान आंदोलन का शुरुआती दौर से ही समर्थन कर रही हैं। बंगाल चुनाव के दौरान राकेश टिकैत खासतौर पर नंदीग्राम सीट पर प्रचार करने के लिए भी गए थे। यहीं से ममता बनर्जी ने चुनाव लड़ा था। हालांकि उन्हें इस सीट पर हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन राज्य में बहुमत टीएमसी को ही मिला है।

नंदीग्राम में प्रचार के दौरान राकेश टिकैत ने स्थानीय लोगों से ममता बनर्जी को वोट देने की अपील की थी। बीजेपी की ओर से इस सीट पर शुभेंदु अधिकारी मैदान में थे, जिन्होंने ममता को मात देकर विधानसभा का रास्ता तय किया है । बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर बीते कई महीनों से जारी आंदोलन का राकेश टिकैत प्रमुख चेहरा बनकर उभरे हैं। 26 जनवरी के मौके पर यूपी बॉर्डर पर किसानों को हटाने के लिए फोर्स के जुटने और उस दौरान राकेश टिकैत के भावुक होने की काफी चर्चा हुई थी। इसके बाद से ही किसान एक बार फिर से एकजुट हो गए थे।

पढ़ें :- 1st anniversary of Lakhimpur Kheri violence : टिकैत बोले- देश 3अक्टूबर 2021 को हुई तिकुनिया हिंसा कभी नहीं भूल सकता, कब मिलेगा न्याय?
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...