राम मंदिर: महंत परमहंस दास की मांग, भागवत को बनाया जाये ट्रस्ट का संरक्षक, बैठे अनशन पर

mahant param hans daas
राम मंदिर: महंत परमहंस दास की मांग, भागवत को बनाया जाये ट्रस्ट का संरक्षक, बैठे अनशन पर

अयोध्या। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केन्द्र सरकार ने राममंदिर निर्माण के लिए बुधवार को ट्रस्ट की घोषणा कर दी है। जिसके बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत को राम मंदिर ट्रस्ट का संरक्षक बनाने की मांग उठने लगी है। अयोध्या की तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास इस मांग को लेकर अनशन पर बैठ गए हैं। उन्होंने अन्न व जल भी त्याग दिया है। आपको बता दें कि इससे पहले भी राम मंदिर के लिए परमहंस दास कई बार अनशन कर चुके हैं और अक्सर अपने बयानो को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं।

Ram Mandir Demand For Mahant Paramhans Das Bhagwat Be Made The Guardian Of The Trust Sitting On Hunger Strike :

बुधवार को पीएम मोदी ने लोकसभा में राम मंदिर निर्माण के लिए श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया है। लोकसभा में राम मंदिर ट्रस्ट से जुड़े ऐलान के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने इस पर जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में 15 ट्रस्टी होंगे। इनमें एक ट्रस्टी हमेशा दलित समाज से रहेगा। यह ट्रस्ट मंदिर से जुड़ा हर निर्णय लेने के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र होगा और 67 एकड़ भूमि ट्रस्ट को हस्तांतरित की जाएगी।

इसी के बाद महंत परमहंस दास ने भागवत को ट्रस्ट का संरक्षक बनाने की मांग उठा दी। आपको बता दें कि परमहंस दास प्रयागराज में संगम स्नान के बाद जब वो चंदौली के बिलारीडीह शिव मंदिर पहुंचे तभी उन्हे पीएम मोदी ने राम मंदिर निर्माण के ल‌िए ट्रस्ट बनाने का ऐलान कर दिया है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के संघर्ष में संघ का अहम योगदान रहा है, इसलिए संघ प्रमुख को ट्रस्ट का संरक्षक बनाया जाना चाहिए। उन्होने कहा है कि नृत्य गेपाल दास जैसे लोगों को ट्रस्ट में जगह ना देकर मोदी सरकार ने अच्छा किया, क्योंकि इन्हीं लोगों ने सालों साल तक राममंदिर के नाम पर लोगों को लूटा है।

अयोध्या। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केन्द्र सरकार ने राममंदिर निर्माण के लिए बुधवार को ट्रस्ट की घोषणा कर दी है। जिसके बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत को राम मंदिर ट्रस्ट का संरक्षक बनाने की मांग उठने लगी है। अयोध्या की तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास इस मांग को लेकर अनशन पर बैठ गए हैं। उन्होंने अन्न व जल भी त्याग दिया है। आपको बता दें कि इससे पहले भी राम मंदिर के लिए परमहंस दास कई बार अनशन कर चुके हैं और अक्सर अपने बयानो को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं। बुधवार को पीएम मोदी ने लोकसभा में राम मंदिर निर्माण के लिए श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया है। लोकसभा में राम मंदिर ट्रस्ट से जुड़े ऐलान के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने इस पर जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में 15 ट्रस्टी होंगे। इनमें एक ट्रस्टी हमेशा दलित समाज से रहेगा। यह ट्रस्ट मंदिर से जुड़ा हर निर्णय लेने के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र होगा और 67 एकड़ भूमि ट्रस्ट को हस्तांतरित की जाएगी। इसी के बाद महंत परमहंस दास ने भागवत को ट्रस्ट का संरक्षक बनाने की मांग उठा दी। आपको बता दें कि परमहंस दास प्रयागराज में संगम स्नान के बाद जब वो चंदौली के बिलारीडीह शिव मंदिर पहुंचे तभी उन्हे पीएम मोदी ने राम मंदिर निर्माण के ल‌िए ट्रस्ट बनाने का ऐलान कर दिया है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के संघर्ष में संघ का अहम योगदान रहा है, इसलिए संघ प्रमुख को ट्रस्ट का संरक्षक बनाया जाना चाहिए। उन्होने कहा है कि नृत्य गेपाल दास जैसे लोगों को ट्रस्ट में जगह ना देकर मोदी सरकार ने अच्छा किया, क्योंकि इन्हीं लोगों ने सालों साल तक राममंदिर के नाम पर लोगों को लूटा है।