रामनाथ कोविंद ने भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली

नई दिल्ली। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मंगलवार को भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने के थोड़ी देर बाद संविधान की रक्षा और पालन करने का वचन दिया। उन्होंने साथ ही न्याय, स्वंतत्रता और समानता के मूल्यों के पालन का भी वचन दिया।

कोविंद ने संसद सदस्यों और मुख्यमंत्रियों समेत विभिन्न गणमान्य व्यक्तियों को संबोधित करते हुए कहा कि अनेकता में एकता भारत की ताकत है।

{ यह भी पढ़ें:- राहुल गांधी एक नाकाम वंशवादी : स्मृति ईरानी }

नए राष्ट्रपति ने संसद के केंद्रीय कक्ष में आयोजित समारोह में प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.एस. केहर द्वारा पद की शपथ दिलाए जाने के बाद कहा, हम सभी अलग हैं फिर भी एक और एकजुट हैं। ये हमारे पारंपरिक मूल्य हैं। इसमें न कोई विरोधाभास है और न ही किसी तरह के विकल्प का प्रश्न उठता है।

उन्होंने प्राचीन भारत के ज्ञान और आधुनिक विज्ञान को साथ लेकर चलने की जरूरत पर बल देते हुए कहा, हमें तेजी से विकसित होने वाली एक मजबूत अर्थव्यवस्था, एक शिक्षित, नैतिक और साझा समुदाय, समान मूल्यों वाले और समान अवसर देने वाले समाज का निर्माण करना होगा। एक ऐसा समाज, जिसकी कल्पना महात्मा गांधी और दीन दयाल उपाध्याय जी ने की थी।

{ यह भी पढ़ें:- योगी के शपथ ग्रहण में LDA ने खर्च कर डाले 1.81 करोड़! }

 

 

{ यह भी पढ़ें:- रामनाथ कोविंद आज देश के 14वें राष्‍ट्रपति के रूप में शपथ लेंगे, जानें क्‍या है पूरा शेड्यूल }

Loading...