7 साल पहले ही आर्मी ने दी थी चेतावनी, डेरा में दी जा रही है हथियार चलाने की ट्रेनिंग

चंडीगढ़। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दुष्कर्म मामले में दोषी करार दिये जाने के बाद डेरा के समर्थकों ने जिस तरह का उत्पात मचाया इसने सरकार की कमर ही तोड़ दी। हालांकि ऐसी नौबत आएगी इस बात पर मुहर सेना ने 2010 में ही लगा दी थी। सेना चेतावनी दे चुकी थी कि डेरा में हथियार्ब चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है जो आने वाले वक़्त में देश के लिए खतरनाक हो सकता है।

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, दिसंबर 2010 में सिरसा के डेरा मुख्यालय में भक्तों को हथियारों की ट्रेनिंग देने की बात सामने आई थी। आर्मी इंटेलिजेंस ने इस बात की आशंका जताई थी। खुफिया टीम ने कहा था कि ट्रेनिंग के लिए पूर्व सैनिकों का इस्तेमाल होने की आशंका जताई थी।इस सूचना के बाद बाकायदा सेना कर्मियों को एडवाइजरी भी जारी की गई थी। उन्हें ऐसी कोई भी ट्रेनिंग न देने की ताकीद की गई थी।

{ यह भी पढ़ें:- पंजाब के मोहाली में वरिष्ठ पत्रकार और मां की हत्या }

हालांकि, इस सूचना के बाद पुलिस डेरा मुख्यालय में तलाशी ली थी। मगर पुलिस को हथियारों की ट्रेनिंग के संबंध में सबूत नहीं मिले। बता दें कि डेरा में हथियारों की ट्रेनिंग का मामला इसलिए गरमाया हुआ है, क्योंकि डेरा सच्चा सौदा चीफ राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद समर्थकों ने हिंसा का अंजाम दे डाला। इसमें करीब 30 लोगों की मौत हो गई, जबकि 300 से ज्यादा घायल हो गए।

{ यह भी पढ़ें:- आसाराम-राम रहीम के बाद अब एक और बलात्कारी बाबा }