जलता पंजाब: ‘राम-रहीम के गुंडों’ का तांडव जारी, पंचकुला में दस लोगों की मौत

चंडीगढ़। सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए बाबा राम रहीम को दोषी ठहराया है। जिसके बाद से बाबा के समर्थकों का गुस्सा फूट गया है। समर्थकों के इस तांडव में तीन लोगों की मौत हो गई है। माहौल इतना बेकाबू हो गया है कि प्रशासन को भी पीछे हटना पड़ गया है।
लाइव अपडेट…

  • कई जगहों पर आगजनी जारी
  • इस तांडव ने तीन लोगों ने गंवाई जान
  • पंचकुला में 100 से गाडियाँ फूंकी गई
  • भीड़ और पुलिस में पथराव जारी
  • सोहना के बिजली घर को बाबा के गुंडों ने किया आग के हवाले
  • रमामण्डी के टेलीफोन एक्स्चेंज में भी आगजानी
  • पत्थरबाजी और फायरिंग जारी
  • मोहाली में भी जमकर उपद्रव जारी

ये है आरोप-

{ यह भी पढ़ें:- बलात्कारी बाबा को अदालत से भगाने की साजिश में चार पुलिसकर्मी गिरफ्तार }

गुरमीत राम रहीम सिंह द्वारा कथित रूप से दो साध्वियों का यौन उत्पीड़न किए जाने संबंधी अज्ञात चिट्ठी मिलने के बाद पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के निर्देश पर सीबीआई ने 2002 में डेरा प्रमुख के खिलाफ मामला दर्ज किया था। सीबीआई ब्रांच ने राम रहीम पर धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज किया था। 2005-2006 के बीच में सतीश डागर ने इन्वेस्टिगेशन की और उस साध्वी को ढूंढा जिसका यौन शोषण हुआ था।

सीबीआई ने अंबाला सीबीआई कोर्ट में चार्जशीट फाइल की। यहां से केस पंचकूला शिफ्ट हो गया और बताया गया कि डेरे में 1999 और 2001 में कुछ और साध्वियों का भी यौन शोषण हुआ, लेकिन वे मिल नहीं सकीं। अगस्त 2008 में ट्रायल शुरू हुआ और डेरा प्रमुख के खिलाफ चार्ज तय किए गए।
2011 से 2016 तक लंबा ट्रायल चला।

{ यह भी पढ़ें:- डाक्टरों का दावा: बाबा बलात्कारी राम रहीम है सेक्स एडिक्ट }

जुलाई 2016 में केस के दौरान 52 गवाह पेश हुए। इनमें 15 प्रॉसिक्यूशन और 37 डिफेंस के थे। 25 जुलाई 2017 को कोर्ट ने रोज सुनवाई करने के निर्देश दिए ताकि केस जल्द निपट सके।