दरोगा को रामशंकर कठेरिया ने दी धमकी बोले, नौकरी खा जाउंगा, जेल भेज दूंगा

रामशंकर कठेरिया, Ram Shankar Katheria
दरोगा को रामशंकर कठेरिया ने दी धमकी बोले, नौकरी खा जाउंगा, जेल भेज दूंगा

लखनऊ। सत्ता और पद का नशा कैसा होता है, ये सोशल मीडिया पर वॉयरल हो रहे राष्ट्रीय एससी एसटी कमीशन के चेयरमैन रामशंकर कठेरिया की एक आॅडियों क्लिप को सुनकर समझा जा सकता है। जिस अंदाज में कठेरिया साहब अपने पद और अपनी पार्टी की सरकार का हवाला देते हुए एक दरोगा को धमका रहे हैं, उसे देखकर लगता है मानो उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को संभालने के लिए उनकी जुबान ही काफी है। शायद सड़कों पर जाम लगने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि उससे परेशानी आम लोगों को होती है कठोरिया साहब तो अपनी फ्लीट के साथ सॉयरन दागते हुए रास्ता खाली करवा ही लेते हैं।

मामला आगरा के बोधला इलाके का है जहां जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए एसएसपी के निर्देश पर सड़कों से अतिक्रमण हटवाया गया था। जिन दुकानदारों ने सड़क की पटरी को अपनी दुकान बना लिया था उसे पुलिस ने हटवा दिया। दुकानदारों ने इस विषय को लेकर एससी एसटी आयोग के चेयरमैन रामशंकर कठेरिया के सामने उठाया। जिसके बाद कठेरिया साहब के सहयोगी ने बिना समय गंवाए स्थानीय चौकी इंचार्ज महेश पाल यादव को फोन लगा दिया। कठेरिया के सहयोगी का नंबर देखते ही दरोगा ने जी हुजूरी करते हुए कॉल उठाई और दूसरी ओर से पूछ गए सवालों का सहकारण जवाब दिया। जिसके बाद कठेरिया साहब को फोन दिया गया।

{ यह भी पढ़ें:- रामशंकर कठेरिया होंगे यूपी बीजेपी के नए प्रदेश अध्यक्ष }

कठेरिया साहब ने दारोगा से बातचीत शुरुआत उसकी जाति पर चोट करते हुए कहा, “महेश पाल यादव जी यादव हो तो गुंडा तो नहीं हो ना तुम। योगी को चैलेंज करते हो मुख्यमंत्री को चैलेंज करते हो।…. नौकरी खा जाउंगा, जेल भेज दूंगा…. अगर दोबारा बकवास की तो। ध्यान रखना जिस व्यक्ति की तूने पिटाई की उसकी एप्लीकेशन पर एफआईआर करवाकर आयोग से कार्रवाई कर जेल भेज दूंगा, अगर दोबार ऐसी गुंडई की तो।…. वह व्यक्ति रो रहा है जिसे तूने डंडा मारा है……. डंडा मारा है उसे चोट है, वह एससी है फिर जमानत नहीं होगी और नौकरी में प्रमोशन नहीं होगा।

इस पूरी बात चीत में दरोगा कठेरिया साहब के आगे सर सर करते हुए, अपना पक्ष रखता रहा लेकिन साहब तो इस तरह से अपने मद के मद में चूर थे कि उन्हें होश नहीं रहा कि वह जिस व्यक्ति को धमका रहे हैं वह एक सरकारी कर्मचारी है।

Loading...