1. हिन्दी समाचार
  2. बैंकों को 414 करोड़ चूना लगाकर विदेश भागे रामदेव इंटरनेशनल लिमिडेट के मालिक, सीबीआई ने शुरू की जांच

बैंकों को 414 करोड़ चूना लगाकर विदेश भागे रामदेव इंटरनेशनल लिमिडेट के मालिक, सीबीआई ने शुरू की जांच

Ramdev International Ltd The Owner Of The Ramdev International Limited Escaped After Banks Defrauded 414 Crore

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक ने दिल्ली स्थित बासमती चावल निर्यात फर्म के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के पास शिकायत दर्ज कराई है। बैं का आरोप है कि फर्म के प्रवर्तकों ने छह बैंकों के कंसोर्टियम को 414 करोड़ रुपये का धोखा दिया है। फिलहाल वह देश से फरा हैं। एसबीआई द्वारा एक निरीक्षण के बाद राम देव इंटरनेशनल लिमिटेड के मालिक 2016 से लापता बताए जा रहे हैं। आरोपियों ने देश छोड़ने से पहले अपनी अधिकतर संपत्तियां बेच दी थी।

पढ़ें :- रामपुर:मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी की चौदह सौ बीघा जमीन सरकार के नाम करने के आदेश,जाने पूरा मामला

सीबीआई ने 28 अप्रैल को मालिकों के नाम के साथ मामला दर्ज किया। इसमें सुरेश कुमार, नरेश कुमार और संगीता के नाम हैं और उनके खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किए गए हैं। 2018 में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल के आदेश के अनुसार, यह बताया गया कि ये प्रवर्तक दुबई भाग गए हैं। कंपनी के लोन को 2016 में एक गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) के रूप में वर्गीकृत किया गया था। बैंक ने चार साल की देरी के बाद इस साल फरवरी में एजेंसी को शिकायत दर्ज की।

एक विशेष ऑडिट में पता चला है कि उधारकर्ताओं ने खातों में गड़बड़ी कर, बैलेंस शीट को ठग लिया और बैंक धन की लागत पर गैरकानूनी तरीके से हासिल करने के लिए संयंत्र और मशीनरी को अनधिकृत रूप से हटाया है। एसबीआई से बैंकों का एक्सपोजर 414 करोड़ रुपये से 173 करोड़ रुपये, केनरा बैंक का 76 करोड़ रुपये, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का 64 करोड़ रुपये, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का 51 करोड़ रुपये, कॉर्पोरेशन बैंक का 36 करोड़ रुपये और आईडीबीआई बैंक का 12 करोड़ रुपये है। सीबीआई ने अब कंपनी, इसके डायरेक्टर नरेश कुमार, सुरेश कुमार, संगीता और अज्ञात सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इन पर भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी समेत कई आरोप हैं।

दस्तावेजों से सीबीआई को पता चला है कि मुस्सदी लाल कृष्णा लाल नामक कंपनी के डिफॉल्टर होने के बाद रामदेव इंटरनेशनल लिमिटेड को ट्रिब्यूनल में लाया गया था। ट्रिब्यूनल ने रामदेव इंटरनेशनल लिमिटेड के तीनों निदेशकों को तीन बार नोटिस भेजा, लेकिन उनका पता नहीं चला। दिसंबर, 2018 में ट्रिब्यूनल को जानकारी दी गई कि आरोपी दुबई भाग गए हैं और उनका पता नहीं लगाया जा सकता।

पढ़ें :- महराजगंज:सिसवा को हरा बड़हरा की टीम बनी विजेता

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...