1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. रामदेव बोले-‘मैं जन्म से पाखंड और अंधविश्वास का घोर विरोधी’, मेरे खिलाफ हिंदू विरोधी रच रहे हैं साजिश

रामदेव बोले-‘मैं जन्म से पाखंड और अंधविश्वास का घोर विरोधी’, मेरे खिलाफ हिंदू विरोधी रच रहे हैं साजिश

धर्म संसद में संतों के विवादित बयानों का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी बीच योग गुरु स्वामी रामदेव के पिरान कलियर दरगाह जाने को लेकर धर्म संसद वाले संत उनके पीछे पड़ गए हैं। जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद और शांभवी पीठाधीश्वर स्वामी आनंद स्वरूप ने रामदेव को सनातन विरोधी करार दिया। इसके साथ ही माफी मांगने की मांग की है। इस मामले में रामदेव ने ट्वीट कर सफाई देते हुए कहा कि वो जन्म से ही पाखंड विरोधी हैं। कुछ हिंदू विरोधी उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

हरिद्वार। धर्म संसद में संतों के विवादित बयानों का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी बीच योग गुरु स्वामी रामदेव के पिरान कलियर दरगाह जाने को लेकर धर्म संसद वाले संत उनके पीछे पड़ गए हैं।

पढ़ें :- हरिद्वार धर्म संसद के खिलाफ SC में आज सुनवाई, कांग्रेसी नेता ने डाली दी थी अर्जी

जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद और शांभवी पीठाधीश्वर स्वामी आनंद स्वरूप ने रामदेव को सनातन विरोधी करार दिया। इसके साथ ही माफी मांगने की मांग की है। इस मामले में रामदेव ने ट्वीट कर सफाई देते हुए कहा कि वो जन्म से ही पाखंड विरोधी हैं। कुछ हिंदू विरोधी उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं।

बता दें कि स्वामी रामदेव पिछले दिनों दिल्ली से लौटते वक्त पिरान कलियर दरगाह पहुंचे थे। जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद ने हिंदू धर्म की आस्था के साथ इसे खिलवाड़ बताया है। उन्होंने कहा कि वह स्वामी रामदेव को आर्य समाजी मानते थे। अब उनकी नजर में रामदेव की छवि धूमिल हुई है। उन्होंने सनातन धर्म के साथ गद्दारी की है।

शांभवी पीठाधीश्वर स्वामी आनंद स्वरूप ने कहा कि मैं समझ नहीं पाता हूं कि रामदेव हैं क्या? वह स्वामी दयानंद जी के फॉलोअर हैं। पिरान कलियर जाने पर रामदेव को संत समाज से माफी मांगनी चाहिए। हालांकि, हरिद्वार के अखाड़ों के संतों ने खुलकर अभी तक स्वामी रामदेव के पिरान कलियर जाने पर कोई बयान नहीं दिया है, लेकिन चर्चा जरूर है।

इस मामले में स्वामी रामदेव ने ट्वीट कर कहा कि ‘मैं जन्म से ही पाखंड और अंधविश्वास का घोर विरोधी हूं। वेद धर्म और ऋषि धर्म के अनुरूप आचरण करना ही अपना संन्यास धर्म और सनातन धर्म मानता हूं। मुझसे प्रेम करने वाले कर्नाटक के दो सज्जन पिरान कलियर गए थे। कुछ लोग ईर्ष्या और षड्यंत्र पूर्वक मुझे बदनाम करने के लिए झूठे आरोप लगा रहे हैं। हिंदू विरोधी लोग दुष्प्रचार और षड्यंत्र करें तो यह समझ में आता है, लेकिन अपने ही लोग अपनों से बैर विरोध करें तो बहुत आश्चर्य होता है। रामदेव ने कहा कि ईश्वर हम ऋषियों की संतानों को संगठित रहने और प्रीतिपूर्वक जीने का आशीर्वाद दें।

  राष्ट्रपिता पर टिप्पणी करने वाला कालीचरण फर्जी संत : अखाड़ा परिषद

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्र पुरी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रति अभद्र टिप्पणी करने वाले कालीचरण को फर्जी संत बताया है। उन्होंने कहा कि कालीचरण का बयान निंदनीय है। सभी ने उनकी निंदा की है। सरकार कानून के हिसाब से कार्रवाई कर रही है। ऐसे फर्जी संतों के खिलाफ सरकार को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। अखाड़ा परिषद भी जल्द बैठक कर फर्जी संतों की सूची बनाकर सरकार को देगा और खुद भी कार्रवाई करेगा।

पढ़ें :- PM Narendra Modi Dehradun Visit : पीएम मोदी बोले- अब देवभूमि में बह रही है विकास की गंगा

श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल के अध्यक्ष श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह ने कहा कि संत समाज ने हमेशा समाज का मार्गदर्शन कर राष्ट्र को नई दिशा प्रदान की है। राष्ट्र की एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए संत समाज को एकजुट होकर प्रयास करने होंगे।

बाबा बलराम दास हठयोगी ने कहा कि संतों को बोलते समय ध्यान रखना चाहिए कि उनकी वाणी से किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचे। संत परंपरा से कोई संबंध नहीं रखने वाले कालीचरण जैसे फर्जी संत अनर्गल बयानबाजी कर सामाजिक सद्भाव खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। भगवा चोला पहनकर और अनर्गल बयानबाजी कर समाज को भ्रमित करने वाले फर्जी संतों के खिलाफ अखाड़ा परिषद को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।

इस दौरान कोठारी महंत जसविंदर सिंह, महंत अमनदीप सिंह, ज्ञानी महंत खेम सिंह, संत निर्भय सिंह, संत सिमरन सिंह, संत हरजोध सिंह, संत जसकरन सिंह, संत तलविंदर सिंह, संत सुखमन सिंह, संत विष्णु सिंह आदि मौजूद थे।

 

 

 

पढ़ें :- T-20 World Cup : योग गुरू बाबा रामदेव बोले- आतंक और मैच एक साथ नहीं 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...