HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. रामगोविंद चौधरी ने लखनऊ सूचना निदेशालय में लगने वाली वैक्सीन को बताया फर्जी, बोले- न्यू कोवाशील्ड कब हुई लांच?

रामगोविंद चौधरी ने लखनऊ सूचना निदेशालय में लगने वाली वैक्सीन को बताया फर्जी, बोले- न्यू कोवाशील्ड कब हुई लांच?

उत्तर प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से योगी सरकार पर सख्त कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि योगी सरकार के शब्दकोश में दायित्व बोध और दया नाम का शब्द नहीं है। ऐसी सरकार को केवल फटकार से नहीं समझाया जा सकता।

By संतोष सिंह 
Updated Date

बलिया। उत्तर प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से योगी सरकार पर सख्त कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि योगी सरकार के शब्दकोश में दायित्व बोध और दया नाम का शब्द नहीं है। ऐसी सरकार को केवल फटकार से नहीं समझाया जा सकता। इस सरकार को दायित्व बोध कराने और इसमें दया की प्रवृति विकसित करने के लिए इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई जरूरी है। हाईकोर्ट को प्रदेश के हित में इस निर्मम, निर्दयी सरकार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई पर विचार करना चाहिए।

पढ़ें :- कांग्रेस सांसद ने ऊर्जा मंत्री को लिखा पत्र, कहा-जनता अघोषित विद्युत कटौती के संकट से जूझ रही है

श्री चौधरी ने कहा कि जिलों को छोड़िए, इस समय टीकाकरण के नाम पर राजधानी लखनऊ के सूचना निदेशालय परिसर में एक ऐसा इंजेक्शन लग रहा है जिस पर न्यू कोवाशील्ड लिखा हुआ है, लेकिन इस नाम की जानकारी कोई अधिकारी नहीं दे रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 58 हजार 194 ग्राम पंचायतें हैं। इनमें निर्वाचित प्रधान हैं, सभासद है, बीडीसी हैं, जिला पंचायत सदस्य हैं। इस महामारी के खिलाफ जागरण और बचाव में इस बड़ी लोकतांत्रिक ताकत का उपयोग हो सकता है, लेकिन सरकार खुद कुछ करना नहीं चाहती है। दूसरे को कुछ करते हुए भी नहीं देखना चाहती है। सरकार के इस रवैये से चारों तरफ केवल आह आह सुनाई पड़ रहा है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि विपक्ष ही नहीं, अब भाजपा के विधायक भी बोलने लगे हैं कि हम सत्य कहेंगे तो हमारे ऊपर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा कायम हो जाएगा। कोई नहीं सुन रहा है, कहीं कोई व्यवस्था नहीं है, वेंटिलेटर नहीं है, ऑक्सीजन नहीं है, इंजेक्शन नहीं है। इसका दर्द तो केन्द्र सरकार और सूबे के मंत्री भी उजागर कर चुके हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश इस समय जानलेवा दौर से गुजर रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम इसका मुकाबला करने की जगह नदियों में उतराये शवों को लेकर यूपी बिहार का नाटक खेल रही है। इस नाटक को मूर्त रूप देने के लिए गाज़ीपुर के जमानियां में बिहार से शव लेकर गंगा तट पर आने वालों लोगों को परेशान किया गया। उन्होंने कहा है कि इस बदहाल स्थिति में भी योगी और उनकी टीम का अधिकतम समय अखबारों में हेड लाइन तय करने और उसे प्रचारित कराने में लग रहा है।

 

पढ़ें :- यूपी के इस जिले में कांवड़ यात्रा के चलते 26 जुलाई से दो अगस्त तक बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज, आदेश जारी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...