रामपुर: बालीवुड अभिनेत्री जया प्रदा के खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी, जानिए वजह

jaya prada
रामपुर: बालीवुड अभिनेत्री जया प्रदा के खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी, जानिए वजह

रामपुर। बालीवुड अभिनेत्री और पूर्व सांसद जयाप्रदा कानूनी पचड़े में फंस गईं हैं। लोकसभा चुनाव 2019 में रामपुर से बीजेपी की प्रत्याशी रहीं फिल्म अभिनेत्री जया प्रदा के खिलाफ रामपुर में आचार संहिता के मामले में कोर्ट में पेश न होने पर गैर जमानती वारंट जारी हो गए हैं। इस मामले की अगली सुनवाई 20 अप्रैल को होगी। वहीं कैमरी थाने में दर्ज आचार संहिता के मुकदमे में अगली सुनवाई 27 मार्च को होगी।

Rampur Nbw Released Against Bollywood Actress Jaya Prada Know The Reason :

बता दें कि जया प्रदा दस वर्ष तक रामपुर से समाजवादी पार्टी की सांसद रहीं हैं। विगत लोकसभा चुनाव में वह भाजपा की उम्मीदवार थीं। उनको सपा—बसपा गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी आजम खां से शिकस्त मिली थी। इस दौरान स्वार थाने में उनके खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज हुआ। उन पर आरोप है कि लोकसभा चुनाव के दौरान स्वार के ग्राम नूरपुर में उन्होंने सड़क का लोकार्पण किया था।

इस प्रकरण में मजिस्ट्रेट ने आचार संहिता उल्लंघन करने पर मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद इस मामले में चार्जशीट लगा दी थी। इस मामले में वह कोर्ट में हाजिर नहीं हो रही थी। शुक्रवार को वह सुनवाई की तारीख पर उपस्थित नहीं हुईं। इस पर एमपी एमएलए स्पेशल कोर्ट ने उनके खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी कर दिए।

इसके अलावा केमरी थाने में भी उनके खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा हुआ था। ग्राम पिपलिया मिश्र में चुनावी सभा के दौरान जयाप्रदा ने आजम खां और मायावती को लेकर टिप्पणी की थी। इस मामले में भी पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद चार्जशीट लगा दी थी। इस मामले में अदालत ने वारंट जारी करते हुए सुनवाई के लिए 27 मार्च लगाई है।

रामपुर। बालीवुड अभिनेत्री और पूर्व सांसद जयाप्रदा कानूनी पचड़े में फंस गईं हैं। लोकसभा चुनाव 2019 में रामपुर से बीजेपी की प्रत्याशी रहीं फिल्म अभिनेत्री जया प्रदा के खिलाफ रामपुर में आचार संहिता के मामले में कोर्ट में पेश न होने पर गैर जमानती वारंट जारी हो गए हैं। इस मामले की अगली सुनवाई 20 अप्रैल को होगी। वहीं कैमरी थाने में दर्ज आचार संहिता के मुकदमे में अगली सुनवाई 27 मार्च को होगी। बता दें कि जया प्रदा दस वर्ष तक रामपुर से समाजवादी पार्टी की सांसद रहीं हैं। विगत लोकसभा चुनाव में वह भाजपा की उम्मीदवार थीं। उनको सपा—बसपा गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी आजम खां से शिकस्त मिली थी। इस दौरान स्वार थाने में उनके खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज हुआ। उन पर आरोप है कि लोकसभा चुनाव के दौरान स्वार के ग्राम नूरपुर में उन्होंने सड़क का लोकार्पण किया था। इस प्रकरण में मजिस्ट्रेट ने आचार संहिता उल्लंघन करने पर मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद इस मामले में चार्जशीट लगा दी थी। इस मामले में वह कोर्ट में हाजिर नहीं हो रही थी। शुक्रवार को वह सुनवाई की तारीख पर उपस्थित नहीं हुईं। इस पर एमपी एमएलए स्पेशल कोर्ट ने उनके खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी कर दिए। इसके अलावा केमरी थाने में भी उनके खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा हुआ था। ग्राम पिपलिया मिश्र में चुनावी सभा के दौरान जयाप्रदा ने आजम खां और मायावती को लेकर टिप्पणी की थी। इस मामले में भी पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद चार्जशीट लगा दी थी। इस मामले में अदालत ने वारंट जारी करते हुए सुनवाई के लिए 27 मार्च लगाई है।