कोयला घोटाला: झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री समेत चार दोषी करार, गुरुवार को हो सकती है सजा

madhu-koda

Ranchi Coal Scam Former Chief Minister Madhu Koda And Three Others Convicted

नई दिल्ली। कोयला घोटाले में दिल्ली एक विशेष अदालत ने झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा को दोषी करार दिया है। इस मामले में अदालत ने पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता, झारखण्ड के मुख्य सचिव अशोक कुमार बसु और एक अन्य को साजिश और आपराधिक षड्यंत्र रचने का दोषी पाया है। इस मामले में अदालत गुरुवार को सजा सुनाएगी।

इन लोगों को सेक्शन 120बी और आपराधिक साजिश के मामले में दोषी ठहराया गया है। सीबीआई के आरोपपत्र में मधु कोड़ा, एचसी गुप्ता, ए के बसु, दो लोक सेवक बसंत कुमार भट्टाचार्य, बिपिन बिहारी सिंह, वीआईएसयूएल के निदेशक वैभव तुलस्यान, कोड़ा के कथित करीबी विजय जोशी और चार्टर्ड अकाउंटेंट नवीन कुमार तुलस्यान का नाम था।

इन अभियुक्तों पर विन्नी आयरन एंड स्टील के लिए रजहरा कोल ब्लॉक आवंटन की अनुशंसा करने में गड़बड़ी करने का आरोप था। इस कोल ब्लॉक में 17.09 मिलियन मैट्रिक टन कोयले के भंडार का अनुमान है। आरोप पत्र के अनुसार इस कंपनी को कोल ब्लॉक आवंटित करने के लिए झारखंड के उद्योग मंत्रालय ने किसी तरह की अनुशंसा नहीं की थी।

ये है पूरा मामला-

यह केस झारखंड में राजहरा नॉर्थ कोल ब्लॉक के आलॉटमेंट से जुड़ा है। यह ब्लॉक को कोलकाता की विनी आयरन एंड स्टील उद्योग लिमिटेड (वीआईएसयूएल) को अलॉट किया गया था। आरोप है कि इसमें गड़बड़ियां की गईं। सीबीआई ने कहा था कि कंपनी ने 8 जनवरी, 2007 को राजहरा नॉर्थ कोयला ब्लॉक के आवंटन के लिए आवेदन किया था। सीबीआई ने आरोप लगाया कि झारखंड सरकार और इस्पात मंत्रालय ने वीआईएसयूएल को कोयला खंड आवंटन करने की सिफारिश नहीं की बल्कि 36वीं अनुवीक्षण समिति (स्क्रींनिग कमेटी) ने आरोपित कंपनी को खंड आवंटित करने की सिफारिश की थी।

नई दिल्ली। कोयला घोटाले में दिल्ली एक विशेष अदालत ने झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा को दोषी करार दिया है। इस मामले में अदालत ने पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता, झारखण्ड के मुख्य सचिव अशोक कुमार बसु और एक अन्य को साजिश और आपराधिक षड्यंत्र रचने का दोषी पाया है। इस मामले में अदालत गुरुवार को सजा सुनाएगी। इन लोगों को सेक्शन 120बी और आपराधिक साजिश के मामले में दोषी ठहराया गया है। सीबीआई के आरोपपत्र में मधु…