होम बड़ी खबर करोड़पति बाबा ने शिष्या को बनाया हवस का शिकार, कुछ ऐसी है...

करोड़पति बाबा ने शिष्या को बनाया हवस का शिकार, कुछ ऐसी है इसकी लाइफ स्टाइल

जोधपुर। राजस्थान के जोधपुर से कुछ दूरी पर स्थित रामचौकी आश्रम के महंत सुंदरदास पर उनकी एक शिष्या ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पीड़िता ने उत्तरी दिल्ली के सब्जी मंडी थाने में दुष्कर्म व जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि महिला महंत की शिष्या रही है। पहले महिला ने छेड़खानी की शिकायत की थी। बात दें, रामचौकी आश्रम जोधपुर से करीब पचास किलोमीटर दूरी पर स्थित है जो आम जनमानस के लिए हमेशा से रहस्य का विषय रहा है।

दरअसल, पुलिस सूत्रों की माने तो एक महिला ने गत दो अक्टूबर को बिराई स्थित राम चौकी के गादीपति महंत सुन्दरदास के खिलाफ छेड़छाड़ व दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था। वारदात तीन साल पहले की बताई जाती है। दिल्ली पुलिस मामले की जांच कर रही है। राम धाम चौकी के बिराई में होने व गादीपति के चौकी में रहने संबंधी तस्दीक करने के लिए सब्जी मण्डी थाने का एक सिपाही शनिवार को जिला जोधपुर ग्रामीण पुलिस के खेड़ापा थाने पहुंचा।

{ यह भी पढ़ें:- एक और बाबा हुआ बेनकाब, युवती को मंत्र का झांसा देकर कर दिया रेप }

जहां से एक अन्य सिपाही के साथ वह बिराई स्थित राम चौकी गया। करीब डेढ़-दो घंटे तक आश्रम व गादीपति के बारे में जानकारी लेने के बाद कांस्टेबल दिल्ली लौट गया। स्थानीय पुलिस ने दिल्ली पुलिस के एक सिपाही के जांच के लिए राम चौकी पहुंचने की पुष्टि की है।

कुछ इस तरह की लाइफ स्टाइल जीता है यह बाबा

{ यह भी पढ़ें:- दिल्ली की युवती का अपहरण कर 23 लोगों ने किया गैंगरेप, पड़ताल में जुटी पुलिस }

इस आश्रम के गादीपति महंत सुंदरदास अपनी शाही लाइफ स्टाइल के कारण हमेशा लोगों के बीच चर्चित रहा है। करोड़ों की सम्पति के मालिक ये महंत दो करोड़ रुपए के हीरों का हार पहनते है और करोड़ों रुपयों की 30 कारों का मालिक है। महंत कही भी अपने निजी हवाई जहाज से आते-जाते हैं।


बिराई में 300 बीघा में आश्रम, स्वयं के प्लेन से आना-जाना

बिराई में महंत सुंदरदास का 300 बीघा में आलीशान आश्रम है। जहां पिछले 30 वर्षों से लगातार कर विभिन्न तरह के निर्माण चल रहे है। आश्रम में बिना अनुमति कोई प्रवेश नहीं कर सकता। आश्रम में 400 से ज्यादा फ्लैट बने है। जिन्हें सेवकों को ढाई-ढाई लाख रुपए में दिया जाता है। जो सेवकों के मरणोपरांत वापस आश्रम की संपत्ति हो जाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- राम रहीम, फलाहारी के बाद यूपी में भी मिला एक और 'बाबा बलात्कारी' }

आश्रम में मूर्ति पूजा वर्जित है। सेवक महंत को ही भगवान मान पूजन करते हैं। महंत के पास खुद का प्लेन भी है।

Loading...