बलात्कारी बाबा को चाहिए था पद्म अवार्ड, केन्द्र सरकार को भेजे थे 4200 आवेदन

बलात्कारी बाबा को चाहिए था पद्म अवार्ड, केन्द्र सरकार को भेजे थे 4208 आवेदन

नई दिल्ली। हमारे देश में स्वयंभू बाबाओं का जाल कितना तगड़ा इस बात का अंदाज अब तक कई मामलों में सामने आ चुका है। करोड़ों करोड़ लोग परामात्मा की खोज में दुष्टआत्माओं का न सिर्फ शिकार बन रहे हैं बल्कि इन दुष्टों और अपराधियों को अपना आराध्य बनाकर पूज रहे हैं। पूजा भी ऐसी कि प्राण चले जाए लेकिन बाबा का बाल बांका न हो चाहे, फिर चाहें बाबा बलात्कारी हो या हत्यारा।

यह सब बिल्कुल किसी ब्रांड ट्रस्ट की तरह है, कीमत कोई भी चुकानी पड़े सामान वही लेगे भले ही बाजार में बेहतर और सस्ते कितने भी विकल्प मौजूद हों। ऐसा ही कुछ बाबा करते हैं। जिसे चौकस मार्केटिंग कहना गलती नहीं होगा।

{ यह भी पढ़ें:- एक और बाबा हुआ बेनकाब, युवती को मंत्र का झांसा देकर कर दिया रेप }

खुद को ब्रांड बनाने के लिए बाबा क्या क्या करते हैं इस बात का खुलासा एक मीडिया रिपोर्ट में हुआ है। जिसमें बताया गया है कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय को पद्म अवार्ड दिए जाने को लेकर देश भर से आए 18768 आवेदनों में सबसे ज्यादा आवेदन बलात्कारी गुरूमीत राम रहीम के नाम से आए थे।

इस मीडिया रिपोर्ट में केन्द्रीय गृह मंत्रालय के हवाले से बताया गया है कि भारत सरकार को 2017 के पद्म अवार्ड के लिए चुने जाने के लिए मिले कुल प्रस्तावों में 4208 पर बाबा डॉ0 गुरुमीत राम रहीम इंसा का नाम लिखा मिला है। जिनमें से अधिकांश ​डेरा के मुख्यालय सिरसा से भेजे गए थे। इन आवेदनों में 5 आवेदन स्वयं डेरा प्रमुख की ओर से भेजे गए थे। जिनमें हिसार, सिरसा और श्रीगंगा नगर के पते दर्ज है।

{ यह भी पढ़ें:- डीजीपी सुलखान सिंह को मिला तीन महीने का सेवा विस्तार }

बलात्कारी बाबा के पद्म अवार्ड लेने की बौखलाहट के पीछे की मंशा स्पष्ट नजर आती है। शायद वह जानता था कि उसके खिलाफ चल रहे तमाम कानूनी मामलों में वह इस सम्मान को अपनी ढ़ाल के रूप में प्रयोग कर सकता है।

Loading...