मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी गिरफ्तार, 354 करोड़ के बैंक घोटाले में है नाम

ratul puri
मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी गिरफ्तार, 354 करोड़ रुपये बैंक घोटाले में है नाम

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को मंगलवार सुबह गिरफ्तार किया है। रतुल पुरी पर 354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले का आरोप है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रतुल पुरी और अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। पुरी मोजरबेयर के पूर्व कार्यकारी निदेशक भी रह चुके हैं।

Ratul Puri Nephew Of Chief Minister Kamal Nath Arrested Named In Rs 354 Crore Bank Scam :

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की तरफ से दायर 354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था। जिसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने 14 अगस्त को पुरी को 20 अगस्त तक गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था। वहीं, रतुल पुरी की गिरफ्तारी के बाद उनके ​वकील दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे हैं। आज इस मामले की कोर्ट में सुनवाई होगी।

सूत्र बताते हैं प्रवर्तन निदेशाल के पास से 4 हजार करोड़ रुपये के एनपीए केस से जुड़ी काफी महत्वपूर्ण जानकारी है। साथ ही प्रवर्तन निदेशालय को पुरी के दुबई कनेक्शन की भी जानकारी मिली है। जिसमें पता चला है कि करीब 100 मिलियन डॉलर की रकम गलत तरीके से दुबई में निवेश की गई थी। वहीं, आज प्रवर्तन निदेशाल की टीम हाईकोर्ट में दलील रखेगी, जिसमें मुख्यमंत्री के भांजे रतुल पुरी समेत कई अन्य की मुश्किलें बढ़नी तय हो गयी है।

वहीं, इस मामले में मोजरबेयर का कहना है कि, प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई गिरफ्तारी दुर्भग्यपूर्ण है। मोजरबेयर ने कानूनी के अनुसार काम किया था। यह मामला अब, जब मोजरबेयर नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में है, राजनीति से प्रेरित है। बता दें कि, रतुल पुरी 3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले की जांच के दायरे में भी हैं। लेकिन अब प्रवर्तन निदेशालय ने उन्हें बैंक घोटाला मामले में गिरफ्तार किया है।

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को मंगलवार सुबह गिरफ्तार किया है। रतुल पुरी पर 354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले का आरोप है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रतुल पुरी और अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। पुरी मोजरबेयर के पूर्व कार्यकारी निदेशक भी रह चुके हैं। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की तरफ से दायर 354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था। जिसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने 14 अगस्त को पुरी को 20 अगस्त तक गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था। वहीं, रतुल पुरी की गिरफ्तारी के बाद उनके ​वकील दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे हैं। आज इस मामले की कोर्ट में सुनवाई होगी। सूत्र बताते हैं प्रवर्तन निदेशाल के पास से 4 हजार करोड़ रुपये के एनपीए केस से जुड़ी काफी महत्वपूर्ण जानकारी है। साथ ही प्रवर्तन निदेशालय को पुरी के दुबई कनेक्शन की भी जानकारी मिली है। जिसमें पता चला है कि करीब 100 मिलियन डॉलर की रकम गलत तरीके से दुबई में निवेश की गई थी। वहीं, आज प्रवर्तन निदेशाल की टीम हाईकोर्ट में दलील रखेगी, जिसमें मुख्यमंत्री के भांजे रतुल पुरी समेत कई अन्य की मुश्किलें बढ़नी तय हो गयी है। वहीं, इस मामले में मोजरबेयर का कहना है कि, प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई गिरफ्तारी दुर्भग्यपूर्ण है। मोजरबेयर ने कानूनी के अनुसार काम किया था। यह मामला अब, जब मोजरबेयर नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में है, राजनीति से प्रेरित है। बता दें कि, रतुल पुरी 3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले की जांच के दायरे में भी हैं। लेकिन अब प्रवर्तन निदेशालय ने उन्हें बैंक घोटाला मामले में गिरफ्तार किया है।