#IPL2019: विराट मैच रेफरी के कमरे में घुसे और जमकर दी गालियां, जानें क्या है मामला

virat kohali
#IPL2019: विराट मैच रेफरी के कमरे में घुसे और जमकर दी गालियां, जानें क्या है मामला

मुंबई। मुंबई इंडियंस (MI) के खिलाफ गुरुवार को हुए आइपीएल (IPL 2019) के घरेलू मैच में छह रन से हार के बाद आरसीबी (RCB) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) मैच रेफरी के कमरे में गए और उन्होंने रेफरी को गालियां दीं।एक अंग्रेजी चैनल ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया कि मैच के बाद पुरस्कार समारोह पूरा होते ही कोहली मैच रेफरी मनु नायर के कमरे में गए और खराब अंपायरिंग को लेकर गालियां दीं।

Rcb Vs Mi No Ball Controversy Virat Kohli Abused Match Referee After Barging Into His Room :

दरअसल, इस मैच में बेंगलुरु को आखिरी गेंद पर जीतने के लिए 7 रनों की दरकार थी और गेंदबाज थे लसिथ मलिंगा। मलिंगा ने आखिरी गेंद फेंकी, शिवम दुबे ने लॉन्ग ऑन पर शॉट खेला लेकिन कोई भी बल्लेबाज रन के लिए नहीं दौड़ा। इसके बाद मुंबई के जीत की घोषणा हो गई।

हालांकि, मलिंगा की यह आखिरी गेंद नो बॉल थी जिस पर अंपायर एस. रवि की नजर नहीं पड़ी। रिप्ले में देखने के बाद जब इस बात का पता कप्तान कोहली को लगा तो पहले तो उन्होंने अंपायर को आंखें खुली रखने की सलाह दी। इसके बाद अंपायर के रूम में जाकर उन्हें अपशब्द कहे और नाराजगी जताते हुए अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल भी किया।

उन्होंने अंपायर से कहा, ‘अगर अंपायर की इस गलती पर अगर कोई कार्रवाई नहीं हो सकती है तो मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के तहत मुझ पर जुर्माना भी लग जाता है तो मुझे भी इस बात की परवाह नहीं होगी. क्या यही तरीका है अंपायरिंग का?’

बता दें कि मलिंगा की इस गेंद का जब रिप्ले देखा गया तो उसमें मलिंगा के पैर क्रीज से बाहर दिखाई दे रहे थे। इसके बाद अंपायर द्वारा यह गेंद नो बॉल दी जानी चाहिए थी। अगर यह गेंद नो बॉल होती तो कोहली की टीम को फ्री हिट मिलता और स्ट्राइक पर खतरनाक बल्लेबाजी कर रहे एबी डिविलियर्स होते। वो बड़ा शॉट लगाकर मैच में जीत दर्ज कर सकते थे।

मुंबई। मुंबई इंडियंस (MI) के खिलाफ गुरुवार को हुए आइपीएल (IPL 2019) के घरेलू मैच में छह रन से हार के बाद आरसीबी (RCB) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) मैच रेफरी के कमरे में गए और उन्होंने रेफरी को गालियां दीं।एक अंग्रेजी चैनल ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया कि मैच के बाद पुरस्कार समारोह पूरा होते ही कोहली मैच रेफरी मनु नायर के कमरे में गए और खराब अंपायरिंग को लेकर गालियां दीं।

दरअसल, इस मैच में बेंगलुरु को आखिरी गेंद पर जीतने के लिए 7 रनों की दरकार थी और गेंदबाज थे लसिथ मलिंगा। मलिंगा ने आखिरी गेंद फेंकी, शिवम दुबे ने लॉन्ग ऑन पर शॉट खेला लेकिन कोई भी बल्लेबाज रन के लिए नहीं दौड़ा। इसके बाद मुंबई के जीत की घोषणा हो गई।

हालांकि, मलिंगा की यह आखिरी गेंद नो बॉल थी जिस पर अंपायर एस. रवि की नजर नहीं पड़ी। रिप्ले में देखने के बाद जब इस बात का पता कप्तान कोहली को लगा तो पहले तो उन्होंने अंपायर को आंखें खुली रखने की सलाह दी। इसके बाद अंपायर के रूम में जाकर उन्हें अपशब्द कहे और नाराजगी जताते हुए अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल भी किया।

उन्होंने अंपायर से कहा, 'अगर अंपायर की इस गलती पर अगर कोई कार्रवाई नहीं हो सकती है तो मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के तहत मुझ पर जुर्माना भी लग जाता है तो मुझे भी इस बात की परवाह नहीं होगी. क्या यही तरीका है अंपायरिंग का?'

बता दें कि मलिंगा की इस गेंद का जब रिप्ले देखा गया तो उसमें मलिंगा के पैर क्रीज से बाहर दिखाई दे रहे थे। इसके बाद अंपायर द्वारा यह गेंद नो बॉल दी जानी चाहिए थी। अगर यह गेंद नो बॉल होती तो कोहली की टीम को फ्री हिट मिलता और स्ट्राइक पर खतरनाक बल्लेबाजी कर रहे एबी डिविलियर्स होते। वो बड़ा शॉट लगाकर मैच में जीत दर्ज कर सकते थे।