RCom के 7000 कर्मचारी होंगे बेरोजगार, 2जी और डीटीएच सर्विस 30 नवंबर से होगी बंद

मुंबई। देश के टेलीकॉम सेक्टर में क्रांति लाने वाली कंपनी रिलाइंस कम्युनिकेशन (Reliance Communication) अपने 7000 हजार कर्मचारियों की छुट्टी करने जा रही है। पिछले तीन सालों से लगातार घाटे में जा रही आरकॉम (RCom) के एक अधिकारी ने बताया है कि कंपनी महीने भर पहले ही अपने कर्मचारियों को नोटिस दे चुकी है। कंपनी अपनी 2जी और डीटीएच सर्विस को 30 नवंबर के बाद जारी रख पाने की स्थिति में नहीं है। हालांकि कंपनी अपनी ब्राडबैंड ​सर्विस, 3जी और 4जी सर्विस जारी रखेगी।

Rcom Noticed 7000 Employees To Leave 2g And Dth Services Will Not Be Able After 30th November Reliance Communication :

कंपनी के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर गुरदीप सिंह ने कहा है कि कंपनी अपनी वायरलेस सर्विस को 30 नवंबर के बाद जारी रख पाने की स्थिति में नहीं है। इसलिए उन्हें अपना यह बिजनेस बन्द करना पड़ रहा है।

टॉवर बिजनेस को भी बेंचने की तैयारी में है आरकॉम —

आरकॉम के बिजनेस की बात की जाए तो कंपनी की वायरलेस सेवाओं में शामिल 2जी और डीटीएच से कंपनी को तगड़ा नुकसान मिला है। कंपनी बुरी तरह से कर्ज में डूबी है, लेकिन आरकॉम के पास देशभर में टॉवरों का बड़ा नेटवर्क है। अपने टॉवर नेटवर्क के जरिए कंपनी अच्छा मुनाफा कमा रही है, लेकिन कंपनी इस कारोबार में अपनी हिस्सेदारी को खत्म कर बैंकों से लिए कर्ज को चुकाने की तैयारी कर रही है। जिसके लिए कनाडा की एक कंपनी से बातचीत जारी है।

बाजार के जानकारों की माने तो अनिल धीरू भाई अंबानी ग्रुप की सबसे बड़ी और मुनाफे वाली कंपनी रही आरकॉम को सबसे तगड़ा झटका उनके बड़े भाई मुकेश अंबानी के टेलीकॉम सेक्टर में आने के बाद लगा। पहले से घाटे में चल रही आरकॉम को रिलाइंस जियो के बाजार में आने के बाद भारी नुकसान हुआ। इसी दौरान कंपनी को अपनी सीडीएमए सर्विस को भी बंद किया, जिससे कंपनी के उपभोक्ता बेस तेजी से नीचे आया। वहीं दूसरी ओर रिलाइंस जियो ने जिस तरह के आॅफर शुरू किए उससे देश भर के टेलीकॉम सेक्टर की कंपनियों की जड़ें हिल गईं।

मुंबई। देश के टेलीकॉम सेक्टर में क्रांति लाने वाली कंपनी रिलाइंस कम्युनिकेशन (Reliance Communication) अपने 7000 हजार कर्मचारियों की छुट्टी करने जा रही है। पिछले तीन सालों से लगातार घाटे में जा रही आरकॉम (RCom) के एक अधिकारी ने बताया है कि कंपनी महीने भर पहले ही अपने कर्मचारियों को नोटिस दे चुकी है। कंपनी अपनी 2जी और डीटीएच सर्विस को 30 नवंबर के बाद जारी रख पाने की स्थिति में नहीं है। हालांकि कंपनी अपनी ब्राडबैंड ​सर्विस, 3जी और 4जी सर्विस जारी रखेगी। कंपनी के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर गुरदीप सिंह ने कहा है कि कंपनी अपनी वायरलेस सर्विस को 30 नवंबर के बाद जारी रख पाने की स्थिति में नहीं है। इसलिए उन्हें अपना यह बिजनेस बन्द करना पड़ रहा है। टॉवर बिजनेस को भी बेंचने की तैयारी में है आरकॉम — आरकॉम के बिजनेस की बात की जाए तो कंपनी की वायरलेस सेवाओं में शामिल 2जी और डीटीएच से कंपनी को तगड़ा नुकसान मिला है। कंपनी बुरी तरह से कर्ज में डूबी है, लेकिन आरकॉम के पास देशभर में टॉवरों का बड़ा नेटवर्क है। अपने टॉवर नेटवर्क के जरिए कंपनी अच्छा मुनाफा कमा रही है, लेकिन कंपनी इस कारोबार में अपनी हिस्सेदारी को खत्म कर बैंकों से लिए कर्ज को चुकाने की तैयारी कर रही है। जिसके लिए कनाडा की एक कंपनी से बातचीत जारी है। बाजार के जानकारों की माने तो अनिल धीरू भाई अंबानी ग्रुप की सबसे बड़ी और मुनाफे वाली कंपनी रही आरकॉम को सबसे तगड़ा झटका उनके बड़े भाई मुकेश अंबानी के टेलीकॉम सेक्टर में आने के बाद लगा। पहले से घाटे में चल रही आरकॉम को रिलाइंस जियो के बाजार में आने के बाद भारी नुकसान हुआ। इसी दौरान कंपनी को अपनी सीडीएमए सर्विस को भी बंद किया, जिससे कंपनी के उपभोक्ता बेस तेजी से नीचे आया। वहीं दूसरी ओर रिलाइंस जियो ने जिस तरह के आॅफर शुरू किए उससे देश भर के टेलीकॉम सेक्टर की कंपनियों की जड़ें हिल गईं।