1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. ‘Real Life Tarzan’ नहीं रहा,जंगल में 40 साल रहा स्वस्थ, इंसानों के बीच 8 साल जी पाया

‘Real Life Tarzan’ नहीं रहा,जंगल में 40 साल रहा स्वस्थ, इंसानों के बीच 8 साल जी पाया

किस्सों, कहानियों जंगल के हीरो टर्जन (Jungle Hero Turzen) की जिंदगी बहुत ही रोमांचकारी और प्रेरित करने वाली होती है। जंगल के हीरों की कहानियां इतनी लुभावनी होती हैं कि इस पर कई फिल्मकार फिल्में भी बना चुके हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Real Life Tarzan: किस्सों, कहानियों जंगल के हीरो टर्जन (Jungle Hero Turzen) की जिंदगी बहुत ही रोमांचकारी और प्रेरित करने वाली होती है। जंगल के हीरों की कहानियां इतनी लुभावनी होती हैं कि इस पर कई फिल्मकार फिल्में भी बना चुके हैं। अब कहानियों किस्सों से निकलकर रियल लाईफ में टर्जन की भूमिका अदा करने वाले ‘हो वैन लैंग’ (‘Ho Van Lang’) के बारे दुख भरी खबर आ रही है।

पढ़ें :- अब सऊदी अरब में चलेगी योग की पाठशाला, सभी यूनिवर्सिटी में लागू होगा पाठ्यक्रम

कुछ साल पहले वियतनाम (Vietnam) से भी ऐसी खबरें सामने आई थी, जहां एक ‘असली’ टार्जन ( ‘real’ Tarzan) मिला था। लेकिन, अब उसकी मौत हो गई है। जंगल में पले-बढ़े ‘रियल लाइफ टार्जन (Real Life Tarzan)’ की इंसानों के बीच सिर्फ 8 साल गुजारने के बाद मौत हो गई। आधुनिक दुनिया से अलग जंगल में 40 साल तक जिंदगी बिताने वाले हो वैन लैंग (Ho Van Lang) के बारे में लोगों को 8 साल पहले पता चला था और फिर इंसानी सभ्यता के बीच लाया गया था।

इंसानी दुनिया से दूर रहे
जानकारी के मुताबिक, ‘रियल लाइफ टार्जन’ का नाम ‘हो वैन लैंग’ (Ho Van Lang)था। लैंग ने तकरीबन 41 साल जंगलों में बिताए। इसके बाद उन्हें इंसानों के बीच लाया गया था। लेकिन, आठ वर्षों तक ही वह इंसानों के बीच रह सके। पिछले सोमवार को कैंसर के कारण उसकी मौत हो गई। रिपोर्ट के अनुसार, 1972 में लैंग के पिता ‘हो वान थान’ वियतनाम की ओर से लड़ाई लड़ रहे थे। अमेरिकी बमबारी में उनके आधे परिवार की मौत हो गई थी। जान बचाने के लिए हो वान अपने बेटे लैंग को लेकर जंगलों में रहने के लिए चले गए थे। दोनों काफी समय तक इंसानी दुनिया से दूर रहे और जंगल में ही अपना जीवन बिताया।

                 

दुनिया को अलविदा कह दिया            

पढ़ें :- यूक्रेन का 15 फीसदी भूभाग कल से होगा रूस का हिस्सा , जनमत संग्रह के बाद संसद में पुतिन कर सकते हैं बड़ा ऐलान

बताया जाता है कि दोनों जंगली चीजों को खाकर ही अपना जीवन चला रहे थे। इतना ही नहीं महिलाओं की उपस्थिति से भी वे अनजान थे। जब उनके बारे में लोगों को पता चला तो उन्हें इंसानों के बीच लाने का फैसला किया गया। साल 2013 के बाद से दोनों इंसानों के बीच रहने लगे थे। लेकिन, लैंग इंसानी सभ्यता में सही से एडजस्ट नहीं कर पा रहे थे और निरंतर उनकी हालत बिगड़ती चली गई। आखिरकार, बीते सोमवार उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...