महिलाओं में शारीरिक सम्बन्ध बनाने की इच्छा को कम करते है आँसू

cryingisgood

महिलाये कमजोर दिल होती है। महिलाएं भले ही पुरुषों से अपनी बात मनवाने के लिए आसुओं को अपना हथियार मानती हों लेकिन उनका यह हथियार उलटवार भी कर सकता है। महिलाओं के आंसू पुरुषों में सेक्स की इच्छा को कम करते हैं। महिलाओं के आंसुओं में ऐसे रसायन होते हैं जो पुरुषों के भीतर कामोत्तेजना को कम करते हैं।

Reduces The Desire To Have Physical Relationships Among Women :

सेक्स इच्छा को कम करते है आंसू:

महिलाओं के आंसुओं का यह रसायन कामोत्तेजना से जुड़े हारमोन ‘टेस्टोसटेरॉन” को कम करता है और उनके मस्तिष्क में सेक्स के प्रति रुचि को भी कम करता है। इस शोध के दौरान अनुसंधानकर्ताओं ने रोने के दौरान महिलाओं के आंसुओं को इकट्ठा किया। इसके बाद पुरुषों को अलग-अलग महिलाओँ की तस्वीरें दिखाई गईं जिस दौरान उन्हें साधारण नमक और महिलाओं के आंसुओं से निकला नमक सुंघाया गया।

कैसे होता है आंसुओं का असर:

जिन पुरुषों की नाक के नीचे महिलाओं के आंसुओं से निकला नमक रखा गया था उन्होंने अलग-अलग महिलाओं की तस्वीरें देखकर भी कोई कामोत्तेजक प्रतिक्रिया नहीं दिखाई। इस प्रक्रिया के दौरान पुरुषों में ‘टेस्टोसटेरॉन” का स्तर 13 फ़ीसदी तक कम हो गया। प्रत्येक मनुष्य दूसरे व्यक्ति को कुछ सिगनल देता है जिसके आधार पर दूसरे व्यक्ति का व्यवहार तय होता है।

महिलाये कमजोर दिल होती है। महिलाएं भले ही पुरुषों से अपनी बात मनवाने के लिए आसुओं को अपना हथियार मानती हों लेकिन उनका यह हथियार उलटवार भी कर सकता है। महिलाओं के आंसू पुरुषों में सेक्स की इच्छा को कम करते हैं। महिलाओं के आंसुओं में ऐसे रसायन होते हैं जो पुरुषों के भीतर कामोत्तेजना को कम करते हैं।सेक्स इच्छा को कम करते है आंसू:महिलाओं के आंसुओं का यह रसायन कामोत्तेजना से जुड़े हारमोन 'टेस्टोसटेरॉन" को कम करता है और उनके मस्तिष्क में सेक्स के प्रति रुचि को भी कम करता है। इस शोध के दौरान अनुसंधानकर्ताओं ने रोने के दौरान महिलाओं के आंसुओं को इकट्ठा किया। इसके बाद पुरुषों को अलग-अलग महिलाओँ की तस्वीरें दिखाई गईं जिस दौरान उन्हें साधारण नमक और महिलाओं के आंसुओं से निकला नमक सुंघाया गया।कैसे होता है आंसुओं का असर:जिन पुरुषों की नाक के नीचे महिलाओं के आंसुओं से निकला नमक रखा गया था उन्होंने अलग-अलग महिलाओं की तस्वीरें देखकर भी कोई कामोत्तेजक प्रतिक्रिया नहीं दिखाई। इस प्रक्रिया के दौरान पुरुषों में 'टेस्टोसटेरॉन" का स्तर 13 फ़ीसदी तक कम हो गया। प्रत्येक मनुष्य दूसरे व्यक्ति को कुछ सिगनल देता है जिसके आधार पर दूसरे व्यक्ति का व्यवहार तय होता है।