1. हिन्दी समाचार
  2. रिलायंस को 39,880 करोड़ रुपये का मुनाफा, बावजूद इसके 10 फीसदी सैलरी कट की घोषणा

रिलायंस को 39,880 करोड़ रुपये का मुनाफा, बावजूद इसके 10 फीसदी सैलरी कट की घोषणा

Reliance Announces Rs 39880 Crore Profit Despite 10 Salary Cut

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने (आरआईएल) लॉकडाउन की वजह से मिल रही चुनौती से निपटने के लिए अपने कर्मचारियों की सैलरी में 10 फीसदी कटौती करने की घोषणा की है। दिलचस्प यह है कि रिलायंस को वित्त वर्ष 2019-20 में 39,880 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था,बावजूद इस सैलरी कट से रिलायंस को सालाना सिर्फ 600 करोड़ की बचत होगी। गौरतलब है कि यह सैलरी कट सिर्फ हाइड्रोकार्बन कारोबार (रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल) के कर्मचारियों की होगी और सालाना 15 लाख रुपये से ज्यादा वेतन वालों की होगी।साथ ही सीनियर एग्जीक्यूटिव्स के वेतन में 30 से 50 फीसदी की कटौती होगी।

पढ़ें :- 16 जनवरी 2021 का राशिफल: इस राशि के जातकों को मिलने वाला है रुका हुआ धन, जानिए अपनी राशि का हाल

खुद चेयरमैन मुकेश अंबानी एक पैसे की सैलरी नहीं लेने वाले हैं, जबकि उनका सालाना वेतन 15 करोड़ रुपये है। वित्त वर्ष 2019-20 में आरआईएल ने कर्मचारियों को विभिन्न तरह का फायदा देने पर करीब 6,067 करोड़ खर्च किए हैं। आरआईएल की कमाई रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल कारोबार से होती है। कंपनी ने मार्च तिमाही में कर्मचारियों की सैलरी पर 1,506 करोड़ खर्च किया था। रिलायंस जियो और रिलायंस रिटेल सहित पूरे रिलायंस इंडस्ट्रीज का 2019-20 में कर्मचारियों की सैलरी पर खर्च 14,075 करोड़ रुपये था।

जानकारों का कहना है कि कंपनी 10 फीसदी सैलरी कट से इतना कम पैसा बचा रही है कि वह इसके लिए बहुत मायने नहीं रखता। इससे साल में 600 करोड़ रुपये की बचत होगी जो कि महीने में 50 करोड़ रुपये होती है। जानकार इस कटौती का तर्क समझ नहीं पा रहे। वित्त वर्ष 2019-20 में रिलायंस इंडस्ट्रीज की आय 6.6 लाख करोड़ थी और शेयर बाजार में उसका वैल्यूएशन 9 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है।

खुद रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने वित्त वर्ष 2020-21 में कोई सैलरी न लेने का फैसला किया है। पिछले कई साल से वह 15 करोड़ रुपये सालाना की सैलरी लेते रहे हैं। कोरोना की वजह से रिलायंस के मुनाफे में कमी आई है। कंपनी ने हाल में जियो प्लेटफॉर्म्स की 9.9 फीसदी हिस्सेदारी फेसबुक बेचने का ऐलान किया है। वित्त वर्ष 2020 की चौथी तिमाही में कंपनी का सालाना आधार पर मुनाफा करीब 39 फीसदी घटकर 6,348 करोड़ रुपये रहा। जबकि तीसरी तिमाही में आरआईएल का मुनाफा रिकॉर्ड 11,640 करोड़ रुपये रहा था। वहीं पिछले साल समान अवधि में कंपनी का मुनाफा 10,362 करोड़ रुपये रहा था।

पढ़ें :- महराजगंज:जनता ने मौका दिया तो क्षेत्र का होगा समग्र विकास: रवींद्र जैन

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...