1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. कोरोना महामारी से प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपये का राहत पैकेज

कोरोना महामारी से प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपये का राहत पैकेज

केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस कर कोविड प्रभावित सेक्टर के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपये का ऐलान किया है। इस दौरान कोरोना महामारी से प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने के लिए कई बड़े ऐलान किए जा रहे हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस कर कोविड प्रभावित सेक्टर के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपये का ऐलान किया है। इस दौरान कोरोना महामारी से प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने के लिए कई बड़े ऐलान किए जा रहे हैं। वित्तमंत्री ने इसके अलावा हेल्थ सेक्टर के लिए 50 हजार करोड़ रुपये का ऐलान किया है। ये रकम नॉन मेट्रो मेडिकल इंफ्रा के लिए खर्च किए जाएंगे। बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर से कई सेक्टर्स संकट में हैं, और सरकार से लगातार मदद की मांग की जा रही है।

पढ़ें :- सुप्रीम कोर्ट की केरल सरकार को फटकार, कहा- जीवन के अधिकार से बड़ा कुछ नहीं, जानें क्या है मामला
Jai Ho India App Panchang

पहला राहत पैकेज

हेल्थ सेक्टर से जुड़ा है एक राहत पैकेज दिया जा रहा है। इस पैकेज के मेडिकल सेक्टर को लोन गारंटी दी जाएगी। हेल्थ सेक्टर के लिए 50 हजार करोड़ रुपए वअन्य सेक्टर्स के लिए 60 हजार करोड़ रुपए। इसके तहत 100 करोड़ तक का लोन 7.95 फीसद ब्याज पर दिया जाएगा, वहीं अन्य सेक्टर्स के लिए ब्याज 8.25 फीसदी से ज्यादा नहीं होगी।

दूसरा राहत पैकेज

पढ़ें :- मुनव्वर राना ने बताया कि आखिर मुसलमान क्यूं पैदा करते हैं 8 बच्चे

सबसे पहले इस स्कीम में 3 लाख करोड़ रुपए की घोषणा की गई थी। ECLGS 1.0, 2.0, 3.0 में अब तक 2.69 लाख करोड़ रुपए का वितरण किया जा चुका है। ECLGS में 1.5 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त दिए जाएंगे। यानी अब इस स्कीम का कुल दायरा 4.5 लाख करोड़ रुपए हो गया है। अब तक शामिल किए गए सभी सेक्टर्स को इसका लाभ मिलेगा।

तीसरा राहत पैकेज

क्रेडिट गारंटी स्कीम के तहत छोटे कारोबारी, इंडिविजुअल एनबीएफसी माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूट से 1.25 लाख तक का लोन ले सकेंगे।इसका मुख्य मकसद नए लोन को वितरण करना है। इस पर बैंक के एमसीएलआर पर अधिकतम 2 फीसदी जोड़कर ब्याज लिया जा सकेगा। इस लोन की अवधि 3 साल होगी और सरकार गारंटी देगी।इस स्कीम का लाभ करीब 25 लाख लोगों को मिलेगा। 89 दिन के डिफॉल्टर समेत सभी प्रकार के उधार लेने वाले इसके लिए योग्य होंगे।

टूरिस्ट गाइड और ट्रेवल टूरिज्म को भी वित्तीय मदद

केंद्र सरकार की तरफ से कोविड महामारी से प्रभावित रजिस्टर्ड टूरिस्ट गाइड और ट्रेवल टूरिज्म स्टेकहोल्डर्स को वित्तीय मदद देने का ऐलान किया गया है। इसमें लाइसेंधारी टूरिस्ट गाइड को 1 लाख रुपए और टूरिस्ट एजेंसी को 10 लाख रुपए का लोन दिया जाएगा। इस लोन को 100 फीसदी गारंटी दी जाएगी। इस लोन पर कोई प्रोसेसिंग चार्ज नहीं होगा। 31 मार्च 2022 या फिर पहले पांच लाख पर्यटकों को भारत आने पर वीजा शुल्क नहीं देना होगा।

पढ़ें :- महाराष्ट्र सरकार कोरोना वायरस की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार : उद्धव ठाकरे

ये ​हुए बड़े ऐलान

  • 31 मार्च 2022 तक मुफ्त पर्यटक वीजा दिया जाएगा
  • अन्य क्षेत्रों के लिए 60 हजार करोड़ रुपये का पैकेज
  • 11 हजार टूरिस्ट गाइड का मदद दी जाएगी
  • पहले 5 लाख टूरिस्ट को वीजा शुल्क नहीं दिया जाएगा।
  • छोटे कर्ज लेने वालों को राहत मिलेगी।
  • टूर एजेंसियों को 11 लाख रुपये तक का कर्ज मिलेगा
  • रबी में गेहूं की 4.32 करोड़ टन खरीदी हुई।
  • किसानों को 50 हजार करोड़ रुपये का भुगतान किया गया।
  • आत्मनिर्भर भारत योजना की मियाद 31 मार्च 2022 बढ़ाई गई

तीन साल के लिए क्रेडिट गारंटी योजना जारी की गई है। 25 लाख छोटे कारोबारियों को 1.25 लाख रुपये तक का कर्ज मिलेगा।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...