गुजरातः मंदिर के लिए पाटीदार समुदाय ने 3 घंटे के अंदर जुटाए 150 करोड़ रुपये

गुजरातः मंदिर के लिए पाटीदार समुदाय ने 3 घंटे के अंदर जुटाए 150 करोड़ रुपये
गुजरातः मंदिर के लिए पाटीदार समुदाय ने 3 घंटे के अंदर जुटाए 150 करोड़ रुपये

नई दिल्ली। अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में आरक्षण के लिए गुजरात में सार्वजनिक प्रदर्शन करने वाला पाटीदार समुदाय एक बार फ‍िर चर्चा में है। रविवार को यहां पाटीदार समुदाय ने तीन घंटे के अंदर 150 करोड़ रुपये जुटाए, यानी हर घंटे यहां 84 लाख रुपये आए। यहां 40 एकड़ पर विश्व उमियाधाम मंदिर और सामुदायिक कॉम्प्लेक्स बन रहा है, जिसके लिए रुपये जमा करने की अपील की गई थी। इस प्रॉजेक्ट को साल 2024 तक पूरा होना है।

Religious Ahmedabad Temple Patidars Pledge For Rs 150 Crore In 3 Hours Gujrat :

उमियाधाम में कड़वा पाटीदारों की कुलदेवी उमिया माता का भव्य मंदिर बनेगा। इसके साथ यहां अस्पताल, स्पोर्ट्स और कल्चर कॉम्प्लेक्स, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट और लड़के-लड़कियों के लिए हॉस्टल भी बनाए जाएंगे। इस प्रोजेक्ट की लागत करीब एक हजार करोड़ रुपए है। अमेरिका में होटल चलाने वाले सीके पटेल इसके संयोजक हैं। उन्होंने बताया कि उमिया फाउंडेशन ने 100 करोड़ रुपए जुटाने की अपील की थी, पर 150 करोड़ का दान मिला। किसी सामाजिक कार्य के लिए इतने कम समय में सबसे ज्यादा रकम जमा की गई है।

पटेल भाइयों का बड़ा योगदान

प्रॉजेक्ट कॉर्डिनेटर और बीजेपी के सदस्य सीके पटेल ने कहा, ‘विश्व उमिया फाउंडेशन ने इस प्रॉजेक्ट के लिए 100 करोड़ रुपये जुटाने की अपील की थी। रविवार को उन्हें 150 करोड़ रुपये मिले।’ उन्होंने बताया कि मुंबई में रह रहे एक पटेल भाइयों ने सबसे बड़ी रकम 51 करोड़ रुपये का योगदान दिया है। ये पटेल भाई मेहसाणा के नदासा गांव के रहने वाले हैं। मंगल (93) और नारन पटेल (88) दोनों भाई मुंबई में जमीन के व्यवसाय से जुड़े हैं। उनके मुंबई के वाकेश्वर, गोरेगांव और दादर क्षेत्रों में प्रॉजेक्ट चल रहे हैं। परिवार का कहना है कि उन्होंने उमिया माता के मंदिर के लिए सात साल पहले गोरेगांव में जमीन दान दी थी। इन दोनों भाइयों ने हरिद्वार में उमिया माता के मंदिर के लिए 71 लाख रुपये भी दान दिए थे।

नई दिल्ली। अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में आरक्षण के लिए गुजरात में सार्वजनिक प्रदर्शन करने वाला पाटीदार समुदाय एक बार फ‍िर चर्चा में है। रविवार को यहां पाटीदार समुदाय ने तीन घंटे के अंदर 150 करोड़ रुपये जुटाए, यानी हर घंटे यहां 84 लाख रुपये आए। यहां 40 एकड़ पर विश्व उमियाधाम मंदिर और सामुदायिक कॉम्प्लेक्स बन रहा है, जिसके लिए रुपये जमा करने की अपील की गई थी। इस प्रॉजेक्ट को साल 2024 तक पूरा होना है।उमियाधाम में कड़वा पाटीदारों की कुलदेवी उमिया माता का भव्य मंदिर बनेगा। इसके साथ यहां अस्पताल, स्पोर्ट्स और कल्चर कॉम्प्लेक्स, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट और लड़के-लड़कियों के लिए हॉस्टल भी बनाए जाएंगे। इस प्रोजेक्ट की लागत करीब एक हजार करोड़ रुपए है। अमेरिका में होटल चलाने वाले सीके पटेल इसके संयोजक हैं। उन्होंने बताया कि उमिया फाउंडेशन ने 100 करोड़ रुपए जुटाने की अपील की थी, पर 150 करोड़ का दान मिला। किसी सामाजिक कार्य के लिए इतने कम समय में सबसे ज्यादा रकम जमा की गई है।

पटेल भाइयों का बड़ा योगदान

प्रॉजेक्ट कॉर्डिनेटर और बीजेपी के सदस्य सीके पटेल ने कहा, 'विश्व उमिया फाउंडेशन ने इस प्रॉजेक्ट के लिए 100 करोड़ रुपये जुटाने की अपील की थी। रविवार को उन्हें 150 करोड़ रुपये मिले।' उन्होंने बताया कि मुंबई में रह रहे एक पटेल भाइयों ने सबसे बड़ी रकम 51 करोड़ रुपये का योगदान दिया है। ये पटेल भाई मेहसाणा के नदासा गांव के रहने वाले हैं। मंगल (93) और नारन पटेल (88) दोनों भाई मुंबई में जमीन के व्यवसाय से जुड़े हैं। उनके मुंबई के वाकेश्वर, गोरेगांव और दादर क्षेत्रों में प्रॉजेक्ट चल रहे हैं। परिवार का कहना है कि उन्होंने उमिया माता के मंदिर के लिए सात साल पहले गोरेगांव में जमीन दान दी थी। इन दोनों भाइयों ने हरिद्वार में उमिया माता के मंदिर के लिए 71 लाख रुपये भी दान दिए थे।