दिल्ली में 8 जून से खुलेंगे धार्मिक स्थल, मंदिर में नही बजेंगी घंटियां, गुरुद्वारों में बैठने पर पाबंदी

Religious places
दिल्ली में 8 जून से खुलेंगे धार्मिक स्थल, मंदिर में नही बजेंगी घंटियां, गुरुद्वारों में बैठने पर पाबंदी

नई दिल्ली: आठ जून को दिल्ली के सभी धार्मिक स्थल खोल दिए जाएंगे. कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए सरकार के दिशानिर्देशों के हिसाब से धार्मिक स्थलों को तैयार किया जा रहा है. जब ये धार्मिक स्थल खुलेंगे तो कोरोना के इस दौर में नज़ारा कुछ अलग होगा. धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं के आने-जाने से लेकर दर्शन तक सब कुछ नियमों के तहत होगा. मंदिरों में न तो घंटियां बजेंगी न ही प्रसाद चढ़ेगा. गुरुद्वारों में अंदर बैठने की इजाजत नहीं होगी. सभी स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना जरूरी होगा.

Religious Places To Open In Delhi From June 8 Bells Will Not Ring In Temple Ban On Sitting In Gurdwaras :

झंडेवालान मंदिर के ट्रस्टी राजकुमार गोयल ने बताया कि मंदिर में सैनिटाइज टनल लगाई गई है. मंदिर में चढ़ावा नहीं चढ़ेगा और न ही प्रसाद मिलेगा. भक्तों का मंदिर के बाहर टेम्परेचर चेक किया जाएगा. उन्होंने बताया कि मंदिर में घंटियां बजाने पर पाबंदी होगी. मंदिर में घंटियां कपड़े से बांध दी गई हैं. सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाए गए हैं. मंदिर को लगातार सैनिटाइज किया जाएगा. दस साल से छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं और 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के आने पर पाबंदी रहेगी.

दिल्ली के बंगला साहिब गुरुद्वारे में भी आने वालों को नियमों का पालन करना होगा. दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी के एग्जीक्यूटिव मेंबर भूपेंद्र सिंह खुल्लर ने बताया कि ”सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाएगा. प्रसाद हम बंद नहीं करेंगे, यह इम्युनिटी बढ़ाएगा. लोगों को अंदर बैठने की अनुमति नहीं होगी.”

भुल्लर ने कहा कि जूते गुरुद्वारा परिसर में नहीं लाए जा सकेंगे. जूते लोग या तो अपनी गाड़ी में रखें या कहीं और उतारें. सिर ढंकने के लिए कपड़ा या रूमाल घर से लाना होगा. गुरुद्वारे के कई हिस्सों को बंद किया गया है. टेम्परेचर मशीन लगाई गई है. संगत को लाइन से निकालने के लिए पूरे इतंजाम किए गए हैं. सैनिटाइज़ेशन मशीन लगाई गई है.

नई दिल्ली: आठ जून को दिल्ली के सभी धार्मिक स्थल खोल दिए जाएंगे. कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए सरकार के दिशानिर्देशों के हिसाब से धार्मिक स्थलों को तैयार किया जा रहा है. जब ये धार्मिक स्थल खुलेंगे तो कोरोना के इस दौर में नज़ारा कुछ अलग होगा. धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं के आने-जाने से लेकर दर्शन तक सब कुछ नियमों के तहत होगा. मंदिरों में न तो घंटियां बजेंगी न ही प्रसाद चढ़ेगा. गुरुद्वारों में अंदर बैठने की इजाजत नहीं होगी. सभी स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना जरूरी होगा. झंडेवालान मंदिर के ट्रस्टी राजकुमार गोयल ने बताया कि मंदिर में सैनिटाइज टनल लगाई गई है. मंदिर में चढ़ावा नहीं चढ़ेगा और न ही प्रसाद मिलेगा. भक्तों का मंदिर के बाहर टेम्परेचर चेक किया जाएगा. उन्होंने बताया कि मंदिर में घंटियां बजाने पर पाबंदी होगी. मंदिर में घंटियां कपड़े से बांध दी गई हैं. सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाए गए हैं. मंदिर को लगातार सैनिटाइज किया जाएगा. दस साल से छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं और 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के आने पर पाबंदी रहेगी. दिल्ली के बंगला साहिब गुरुद्वारे में भी आने वालों को नियमों का पालन करना होगा. दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी के एग्जीक्यूटिव मेंबर भूपेंद्र सिंह खुल्लर ने बताया कि ''सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाएगा. प्रसाद हम बंद नहीं करेंगे, यह इम्युनिटी बढ़ाएगा. लोगों को अंदर बैठने की अनुमति नहीं होगी.'' भुल्लर ने कहा कि जूते गुरुद्वारा परिसर में नहीं लाए जा सकेंगे. जूते लोग या तो अपनी गाड़ी में रखें या कहीं और उतारें. सिर ढंकने के लिए कपड़ा या रूमाल घर से लाना होगा. गुरुद्वारे के कई हिस्सों को बंद किया गया है. टेम्परेचर मशीन लगाई गई है. संगत को लाइन से निकालने के लिए पूरे इतंजाम किए गए हैं. सैनिटाइज़ेशन मशीन लगाई गई है.