1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. मंगलवार के दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय

मंगलवार के दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय

हर मंगलवार को हनुमान मंदिर जाकर सरसों के तेल का मिट्टी का दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। ऐसा माना जाता है कि इस दिन जरूरतमंदों को जरूरी चीजों का दान करने से धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

हिंदू धर्म में मंगलवार का दिन सबसे शुभ दिन माना जाता है। इस दिन हनुमान जी की पूजा की जाती है। भगवान शिव के अवतार माने जाने वाले हनुमान जी को रामभक्त हनुमान, बजरंगबली, पवनपुत्र, अंजनी पुत्र आदि नामों से जाना जाता है। शास्त्रों के अनुसार अगर आप सच्चे मन से इन नामों का जाप करेंगे तो आपकी मनोकामनाएं पूरी होंगी। इतना ही नहीं आपको जीवन में सकारात्मकता भी मिलेगी।

पढ़ें :- 27 जून 2022 का पंचांग: जाने आज का पंचांग, शुभ मुहूर्त और नक्षत्र की चाल के बारे में ...

यदि आपके काम में, जीवन में या धन संचय में बार-बार समस्या आती है, तो मंगलवार के दिन कुछ उपाय करें।

हर मंगलवार को हनुमान मंदिर जाकर सरसों के तेल का मिट्टी का दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।

ऐसा माना जाता है कि इस दिन जरूरतमंदों को जरूरी चीजों का दान करने से धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

स्नान करने के बाद गाय को भोजन कराना शुभ माना जाता है क्योंकि आपको देवी लक्ष्मी से विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है।

पढ़ें :- बजरंग बाण का नियमित पाठ करने से दूर होते हैं डर और संकट, यहां पढ़ें Bajrang Baan

धन की कमी न हो इसके लिए 11 पीपल के पत्ते लें, उन्हें पानी से साफ करें और पत्तों पर चंदन से ‘जय श्री राम’ लिखें। फिर इन पत्तों को हनुमान जी के मंदिर में चढ़ाएं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति को आर्थिक संकट से मुक्ति मिल जाती है।

इन मंत्रों का जाप करें

अगर आपके सभी कामों में कोई रुकावट आ रही है या आपकी शादी में देरी हो रही है, तो अपने मन, शरीर और आत्मा की सकारात्मकता के लिए इन मंत्रों का जाप करें।

कर्ज से मुक्ति के लिए सुबह उठकर ‘O हनुमंते नमः’ मंत्र का 108 बार जाप करें।

आदिदेव नमस्तुभ्यं सप्तसप्ते दिवाकर (आदिदेव नमस्तुभ्यं सप्तसप्त दिवाकर) त्वं रवे तारय स्वास्मानस्मात्संसार सगत

पढ़ें :- Mangalwar Lord Hanuman : मंगलवार को करें इन मंत्रों का जाप, जीवन में दुख दारिद्र का नाश होता है

– ओंम नमो हनुमते रुद्रावताराय विश्वरूप अमित विक्रमी प्रकरपराक्रमाय महाबली दैत्यपराक्रम प्रभाय राम प्रभाय प्रभाय रामस्वरूप (O नमो हनुमते रुद्रावताराय विश्वरूप अमित विक्रमाय प्रकटपरक्रामय महाबलय सूर्य कोटिससंप्रभय रामदुताय स्वाहा)

काम करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसाद को मंदिर में रखना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...