1. हिन्दी समाचार
  2. राजधानी में बदला चिकनकारी का दौर, कलीदार से ‘ए’ लाइन पहुंचा फ़ैशन

राजधानी में बदला चिकनकारी का दौर, कलीदार से ‘ए’ लाइन पहुंचा फ़ैशन

Replacement Of Chicken Making Work In The Capital Fashion Reached From Kalidaar To A Line

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की पहचान उसकी कारीगरी चिकनकारी से है। लखनवी चिकनकारी के कपड़ों की बात ही अलग है। मलमल और हल्के कपड़ों पर चिकनकारी वाले परिधान तन को सुकून देने के साथ ही भीड़ में भी अलग दिखाते हैं। यही कारण है कि लखनऊ शहर अपनी चिकनकारी के लिए दुनियाभर में मशहूर है।

पढ़ें :- पढाई का ऐसा जुनून रोज बॉर्डर पार करके स्कूल जाते है बच्चे, साथ रखते हैं पासपोर्ट

यही नहीं आम हो या खास, यहां आने वाला हर व्यक्ति यहां से लौटते समय चिकन के कपड़े ले जाना नहीं भूलता। लखनवी चिकन में हो रहे नए प्रयोग कद्रदानों को और भी लुभा रहे हैं। साधारण चिकनकारी वाले लेडीज वियर ही नहीं, जेंट्स के लिए कुर्ता-पैजामा भी फैशन से कदमताल मिलाते हुए हर उम्र के लोगों को लुभा रहे हैं।

दरअसल, लखनवी चिकन में लेडीज वियर में पहले साड़ी, सलवार सूट, कुर्ती व जेंट्स वियर में कुर्ता-पैजामा मिलते थे। पर, अब रेंज में काफी विस्तार हो रहा है। चौक में मैन्यूफैक्चरर मो. हमजा जुबैर कहते हैं, फैशन को देखते हुए चिकन में भी विस्तार हो रहा है। प्योर जॉर्जेट, विस्कोस जार्जेट, कॉटन चंदेरी, टसर फैब्रिक व प्रिंटेड फैब्रिक पर चिकनकारी के नई वैराइटी इंडियन व वेस्टर्न वियर में तैयार हो रही है।

change in trends

लखनवी चिकनकारी को पसंद करने वाले और फ़ैशन को मद्देनजर रखते हुए इसमें समय के साथ बदलाव चाहते हैं, इसी के चलते इसमें नए प्रयोग कर बदलाव किया जा रहा है। अमीनाबाद स्थित एक दुकान के ओनर श्याम का कहना है, ‘फैशन के साथ कदम मिलाने के लिए लेडीज स्ट्रेचबल पैंट, लैगिंग, प्लाजो, लेडीज ट्राउजर, डिजाइनर कुर्ती, टॉप, एडिशनल वर्क के साथ गोटा-पत्ती सूट और साड़ी जैसी वेस्टर्न व इंडियन वियर की वैराइटी तैयार कराते हैं।’

साथ ही श्याम कहते हैं ‘पिछले कुछ वर्षो में फिल्मी शादियों में चिकन खूब पहना जा रहा है। यही वजह है कि अब मिडिल व अपर मिडिल क्लास शादियों में भी चिकन के कपड़ों की मांग बढ़ी है। मैंने जब चिकन का काम शुरू किया था, तब से आज बहुत बदलाव आया है।’

पढ़ें :- यूपी : 31661 सहायक शिक्षकों की भर्ती का योगी सरकार ने जारी किया आदेश

वहीं लखनऊ शॉप की मशहूर सेवा चिकन की जनरल सेक्रेट्री व पद्मश्री रूना बनर्जी कहती हैं, ‘मैं भी बचपन से चिकन के कपड़े पहनकर बड़ी हुई हूं। चार कली वाला चिकन का कुर्ता खूब पहना है।उसका चार्म अब खत्म हो रहा है, मगर सेवा में आज भी मिलता है। कलीदार कुर्ते की जगह अब ‘ए’ लाइन के कुर्तो ने ले ली है। पिछले 35 वर्षो से चिकन इंडस्ट्री में मैंने बहुत बदलाव देखे हैं।परंपरागत डिजाइन के साथ हम भी फैशनेबल परिधान तैयार कर रहे हैं।’

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...