सबरीमाला मंदिर: महिला के जाने से हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, कैमरामैन को पीटा

सबरीमाला मंदिर: महिला के जाने से हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, कैमरामैन को पीटा
सबरीमाला मंदिर: महिला के जाने से हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, कैमरामैन को पीटा

केरल। केरल के सबरीमाला मंदिर में दूसरे दिन भी महिलाओं के प्रवेश रोकने को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। यहां सोमवार को एक महिला की एंट्री की खबर के बाद बवाल शुरू हो गया। महिला की उम्र के लेकर कन्फ्यूजन के चलते प्रदर्शनकारी वहां सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मियों से भिड़ गए। इसके अलावा कुछ मीडियाकर्मियों के भी जख्मी होने की खबर है।

Reports Of Womans Entry In Sabrimala Stir Protest Media Attacked :

मंगलवार की सुबह भी प्रदर्शन कर रहे श्रद्धालुओं ने मीडिया के लोगों को निशाना बनाया, जिसमें एक फोटो पत्रकार घायल हो गया। दरअसल श्रद्धालुओं को सूचना मिली थी कि सन्निधाम में एक महिला ने प्रवेश करने की कोशिश की है, जिसके बाद देखते ही देखते सैंकड़ों श्रद्धालु जमा हो गए और प्रदर्शन करने लगे। जिसके बाद चारों ओर अशांति की स्थिति बन गई।

हालांकि, पुलिस ने बाद में बताया कि 52 साल की एक महिला ने मंदिर परिसर में प्रवेश करने की कोशिश की थी। पर श्रद्धालुओं के विरोध को देखते हुए सुरक्षावश उस महिला को वापस लौटना पड़ा। इससे पहले सोमवार को भी 50 से कम उम्र की कोई महिला मंदिर में प्रवेश नहीं पा सकी। बताया जाता है कि इसी बीच प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पंबा बेस कैंप के पास पत्रकारों पर हमला कर दिया। जिसमें एक कैमरापर्सन घायल हो गया।

क्या था सुप्रीम कोर्ट का फैसला?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 साल की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोकने की सदियों पुरानी परंपरा को गलत बताते हुए उसे खत्म कर दिया था और सभी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रवेश करने की इजाजत दी थी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 17 अक्टूबर को पहली बार कपाट खुले थे और अब खुल रहे हैं।

केरल। केरल के सबरीमाला मंदिर में दूसरे दिन भी महिलाओं के प्रवेश रोकने को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। यहां सोमवार को एक महिला की एंट्री की खबर के बाद बवाल शुरू हो गया। महिला की उम्र के लेकर कन्फ्यूजन के चलते प्रदर्शनकारी वहां सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मियों से भिड़ गए। इसके अलावा कुछ मीडियाकर्मियों के भी जख्मी होने की खबर है।मंगलवार की सुबह भी प्रदर्शन कर रहे श्रद्धालुओं ने मीडिया के लोगों को निशाना बनाया, जिसमें एक फोटो पत्रकार घायल हो गया। दरअसल श्रद्धालुओं को सूचना मिली थी कि सन्निधाम में एक महिला ने प्रवेश करने की कोशिश की है, जिसके बाद देखते ही देखते सैंकड़ों श्रद्धालु जमा हो गए और प्रदर्शन करने लगे। जिसके बाद चारों ओर अशांति की स्थिति बन गई।हालांकि, पुलिस ने बाद में बताया कि 52 साल की एक महिला ने मंदिर परिसर में प्रवेश करने की कोशिश की थी। पर श्रद्धालुओं के विरोध को देखते हुए सुरक्षावश उस महिला को वापस लौटना पड़ा। इससे पहले सोमवार को भी 50 से कम उम्र की कोई महिला मंदिर में प्रवेश नहीं पा सकी। बताया जाता है कि इसी बीच प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पंबा बेस कैंप के पास पत्रकारों पर हमला कर दिया। जिसमें एक कैमरापर्सन घायल हो गया।

क्या था सुप्रीम कोर्ट का फैसला?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 साल की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोकने की सदियों पुरानी परंपरा को गलत बताते हुए उसे खत्म कर दिया था और सभी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रवेश करने की इजाजत दी थी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 17 अक्टूबर को पहली बार कपाट खुले थे और अब खुल रहे हैं।