रोहतास बिल्डर की योजनाओं की जांच के लिए रेरा ने बनाई कमेटी, 25 जुलाई को देगी रिपोर्ट

rohtaas builder
रोहतास बिल्डर की योजनाओं की जांच के लिए रेरा ने बनाई कमेटी

Rera Forms Committee To Check Rohtaas Builder Projects

लखनऊ। हजारों लोगों का प्लॉट और मकान देने का झांसा देकर अरबो रूपयों का गबन करने के आरोपों के बाद रोहतसा बिल्डर की सभी योजनाओं की नए सिरे से जांच की जाएगी। शिकायतकर्ताओ ने बताया था कि कंपनी ने उनसे रूपए लिए और बाद में न तो उन्हे प्लॉट मिला और न ही कंपनी उनका पैसा वापस कर रही है।

बता दें कि इस मामले की पूरी जांच के लिए रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी की तीन विशेषज्ञ इंजीनियरों की टीम रोहतास प्रोजेक्टस लिमिटेड और इंडेस टाउन प्लानर की सभी आवासीय योजनाओं की जांच करेगी। बताया जा रहा है कि इन कंपनियों ने लुभावने विज्ञापन देकर राजधानी व आसपास के जिलों में रहने वाले लोगों से अरबो रूपए ले लिए। प्लॉट न मिलने के बाद खरीददार ​बीते छह माह से कई बार धरना प्रदर्शन कर चुके है।

शिकायतकर्ताओ के मुताबिक कंपनी ने उन्हे रायबरेली रोड पर प्लॉट देने के साथ ही विभूतिखण्ड और सुलतापुर रोड पर मकान व फ्लैट देने के नाम पर पैसा जमा कराया था। मकान व प्लाट न मिलने के बाद खरीददारों ने इसकी शिकायत रेरा के अलावा प्रमुख सचिव आवास व मुख्यमंत्री से की, जिसके बाद रेरा ने बिल्डर के उपर कसना शुरु कर दिया। रेरा के सचिव अबरार सिदृदीकी ने बताया कि मामले की विस्तृत जांच के लिए जांच टीम में एलडीए के अधिशासी अभियंता और ग्राम नियोजन विभाग के नगर नियोजक को शामिल किया है।

अब टीम ये जांच करेंगी कि कंपनी ने कितने लोगों से पैसा लिया है, कितनों को मकान मिला है और कितने लोगों का पैसा फंसा हुआ है। इसके साथ ही जांच कमेटी कंप्लीशन सर्टीफिकेट की भी जांच करेगी। बताया जा रहा है कि आवंटियों ने बिल्डर के फर्जीवाड़े के तमाम साक्ष्य भी प्रस्तुत किए है, जिनकी मदद से जांच में ज्यादा दिक्कत नही आएगी। उनके मुताबिक जांच कमेटी आगामी 25 जुलाई तक हर हाल में जांच रिपोर्ट उन्हे सौंप देगी, जिसके बाद रेरा कंपनी के​ खिलाफ कार्रवाई करेगी।

लखनऊ। हजारों लोगों का प्लॉट और मकान देने का झांसा देकर अरबो रूपयों का गबन करने के आरोपों के बाद रोहतसा बिल्डर की सभी योजनाओं की नए सिरे से जांच की जाएगी। शिकायतकर्ताओ ने बताया था कि कंपनी ने उनसे रूपए लिए और बाद में न तो उन्हे प्लॉट मिला और न ही कंपनी उनका पैसा वापस कर रही है। बता दें कि इस मामले की पूरी जांच के लिए रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी की तीन विशेषज्ञ इंजीनियरों की टीम…