लखनऊ में शोध छात्र का कम्प्यूटर और ईमेल हैक , बिटक्वाइन में मांगी गयी रंगदारी

f

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गुड़म्बा इलाके में रहने वाले एक शोध छात्र का पूरा कम्प्यूटर का डाटा विदेश में बैठे हैकरों ने हैक कर लिया। इसके बाद हैकर ने छात्र को ई.मेल भेजकर 1200 डालर की रंगदारी की मांग की। रुपये न देने पर हैकरों ने उसका सारा डाटा नष्ट करने और सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी भी दी। डरे सहमे छात्रा ने इस संबंध में गुड़म्बा थाने में एफआईआर दर्ज करायी है। वहीं उसने साइबर क्राइम सेल से भी इस मामले में मदद मांगी है।

Research Scholar Computer And Email Hacked :

गुड़म्बा बहादुरपुर कुर्सी रोड इलाके में बृजेन्द्र कुमार वर्मा अपने परिवार संग रहता है। मौजूदा समय में वह अम्बेडकर सेन्ट्रल विवि मेें रिर्सच का छात्र है। बृजेन्द्र कुमार ने बताया कि बीती 2 सितम्बर जब उसने रेडीफ का मेल एकाउंट खुला तो उसमें 27 अगस्त से लेकर 2 सितम्बर के बीच कई ढेर सारे ई.मेल जंग फोल्डर में पड़े थे। छात्र ने जब उन ई.मेल को खोल कर चेक किया तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गयी।

ई.मेल विदेश में बैठे हैकरों ने भेजे थे। हैकरों ने ई.मेल में लिखा था कि उन्होंने उसेक कम्प्यूटर में मौजूद पूरा डाटा हैक कर लिया है। साथ उनके पास छात्र के ई.मेल का पासवर्ड भी है। हैकरों ने छात्र के मेल का पासवर्ड भी ई.मेल में लिखकर भेजा था। कम्प्यूटर और मेल हैकिंग की बात पता चलते ही छात्र के पैरों तले जमीन खिसक गयी।  छात्र बृजेन्द्र कुमार ने बताया कि हैकरों ने उसका पूरा डाटा नष्ट करने और साथ ही वीडियोए फोटोग्राफ और अन्य जानकारियों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी थी।

हैकरों ने छात्र से 1200 डालर की रंगदारी की मांग की थी। हैकरों ने रंगदारी की रकम बिटक्वाइन में मांगी थी जो इंटरनेट की दुनिया में प्रयोग होती है। हैकिंग से परेशान छात्र ने सबसे पहले साइबर क्राइम सेल से सम्पर्क किया। साइबर क्राइम सेल में तैनात लोगों ने छात्र को कार्रवाई का भरोसा दिलाया और इस संबंध में अपनी एफआईआर दर्ज कराने के लिए कहा।

छात्र ने बताया कि उसने यूपीकॉप एप के माध्यम से इस मामले में एफआईआर दर्ज करायी है। हैकिंग का शिकार हुए छात्र ने बताया कि इस घटना से वह काफी डरा और सहम है। उसने अपने पूरा कम्प्यूटर फारमेंट करने के साथ ही अपने सारे पासवर्ड भी डीलिट कर नये पासवर्ड बना लिये हैं। छात्र का कहना है कि डर के चलते 2 सितम्बर से उसने अपना कम्प्यूटर भी नहीं आन किया है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गुड़म्बा इलाके में रहने वाले एक शोध छात्र का पूरा कम्प्यूटर का डाटा विदेश में बैठे हैकरों ने हैक कर लिया। इसके बाद हैकर ने छात्र को ई.मेल भेजकर 1200 डालर की रंगदारी की मांग की। रुपये न देने पर हैकरों ने उसका सारा डाटा नष्ट करने और सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी भी दी। डरे सहमे छात्रा ने इस संबंध में गुड़म्बा थाने में एफआईआर दर्ज करायी है। वहीं उसने साइबर क्राइम सेल से भी इस मामले में मदद मांगी है। गुड़म्बा बहादुरपुर कुर्सी रोड इलाके में बृजेन्द्र कुमार वर्मा अपने परिवार संग रहता है। मौजूदा समय में वह अम्बेडकर सेन्ट्रल विवि मेें रिर्सच का छात्र है। बृजेन्द्र कुमार ने बताया कि बीती 2 सितम्बर जब उसने रेडीफ का मेल एकाउंट खुला तो उसमें 27 अगस्त से लेकर 2 सितम्बर के बीच कई ढेर सारे ई.मेल जंग फोल्डर में पड़े थे। छात्र ने जब उन ई.मेल को खोल कर चेक किया तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गयी। ई.मेल विदेश में बैठे हैकरों ने भेजे थे। हैकरों ने ई.मेल में लिखा था कि उन्होंने उसेक कम्प्यूटर में मौजूद पूरा डाटा हैक कर लिया है। साथ उनके पास छात्र के ई.मेल का पासवर्ड भी है। हैकरों ने छात्र के मेल का पासवर्ड भी ई.मेल में लिखकर भेजा था। कम्प्यूटर और मेल हैकिंग की बात पता चलते ही छात्र के पैरों तले जमीन खिसक गयी।  छात्र बृजेन्द्र कुमार ने बताया कि हैकरों ने उसका पूरा डाटा नष्ट करने और साथ ही वीडियोए फोटोग्राफ और अन्य जानकारियों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी थी। हैकरों ने छात्र से 1200 डालर की रंगदारी की मांग की थी। हैकरों ने रंगदारी की रकम बिटक्वाइन में मांगी थी जो इंटरनेट की दुनिया में प्रयोग होती है। हैकिंग से परेशान छात्र ने सबसे पहले साइबर क्राइम सेल से सम्पर्क किया। साइबर क्राइम सेल में तैनात लोगों ने छात्र को कार्रवाई का भरोसा दिलाया और इस संबंध में अपनी एफआईआर दर्ज कराने के लिए कहा। छात्र ने बताया कि उसने यूपीकॉप एप के माध्यम से इस मामले में एफआईआर दर्ज करायी है। हैकिंग का शिकार हुए छात्र ने बताया कि इस घटना से वह काफी डरा और सहम है। उसने अपने पूरा कम्प्यूटर फारमेंट करने के साथ ही अपने सारे पासवर्ड भी डीलिट कर नये पासवर्ड बना लिये हैं। छात्र का कहना है कि डर के चलते 2 सितम्बर से उसने अपना कम्प्यूटर भी नहीं आन किया है।