मायावती के करीबी रिटायर IAS के पास से मिली 225 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति, इन पर भी होगी कार्रवाई

income tax
मायावती के करीबी रिटायर आईएएस के पास से मिली 225 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति, इन पर भी होगी कार्रवाई

लखनऊ। रिटायर आईएएस नेतराम के पास से 225 करोड़ से ज्यादा की सं​पत्ति छापेमारी में मिली है। इसके साथ ही दो करोड़ का कैश, कई लग्गजरी कारें समेत अन्य सामान बरामद हुआ है। रिटायर आईएएस बसपा शासनकाल में मायावती के प्रमुख सचिव थे। बताया जा रहा है कि रिटायर होने के बाद भी वह मायावती के करीबियों में गिने जाते थे, साथ ही वह बसपा पार्टी से लोकसभा चुनाव भी लड़ने की तैयारी में थे। हालांकि बरामद सम्पत्यिों के बारे में जांच जारी है।

Retired Ias Resident In Income Tax Raids Seized Property Worth Crores :

रिटायर आईएएस के घर छापेमारी में उनकी 30 मुखौटा कम्पनियों का खुलासा हुआ। इसके साथ ही नेतराम और उनके करीबियों के हवाला लिंक भी सामने आए हैं। सूत्रों की माने तो नेतराम इस बार बसपा पार्टी से लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रहे थे। बरामद रूपये चुनाव के समय खर्च होने के लिए रखे गये थे।

इसके साथ ही उनके मुखौटा कंपनियों के बारे में आयकर की टीम जांच पड़ताल कर रही है। आयकर विभाग के सूत्रों की माने तो नेतराम ने 95 करोड़ रुपये की फर्जी शेयर कैपिटल के जरिये छह प्रॉपर्टी खरीदी जिनमें से एक दिल्ली की लुटियंस जोन में केजी मार्ग और दूसरी दक्षिण दिल्ली के पॉश इलाके जीके-1 में स्थित है। उनकी एक संपत्ति मुंबई और तीन कोलकाता में हैं।

इसके अलावा 225 करोड़ रुपये की अतिरिक्त प्रॉपर्टी से संबंधित दस्तावेज भी मिले हैं, जिसकी जांच पड़ताल की जा रही है। आयकर सूत्रों की माने तो नेतराम की 30 मुखौटा कंपनियों में उनके करीबी लोग ही डायरेक्टर समेत अन्य पदों पर थे, जिसके जरिए वह काले धन को सफेद करने का काम करते थे।

आयकर की टीम इस मामले में नेतराम के करीबी और रिश्तेदारों से भी पूछताछ कर जांच पड़ताल कर रही है। सूत्रों की माने तो नेतराम इन कंपनियों के जरिए कालेधन को सफेद करने का भी काम करते थे। आयकर सूत्रों की माने तो इनक अलग—अलग मकानों में छापेमारी की गयी, जिसके बाद करोड़ रूपये की नकदी बरामद हुई है।

लखनऊ। रिटायर आईएएस नेतराम के पास से 225 करोड़ से ज्यादा की सं​पत्ति छापेमारी में मिली है। इसके साथ ही दो करोड़ का कैश, कई लग्गजरी कारें समेत अन्य सामान बरामद हुआ है। रिटायर आईएएस बसपा शासनकाल में मायावती के प्रमुख सचिव थे। बताया जा रहा है कि रिटायर होने के बाद भी वह मायावती के करीबियों में गिने जाते थे, साथ ही वह बसपा पार्टी से लोकसभा चुनाव भी लड़ने की तैयारी में थे। हालांकि बरामद सम्पत्यिों के बारे में जांच जारी है।

रिटायर आईएएस के घर छापेमारी में उनकी 30 मुखौटा कम्पनियों का खुलासा हुआ। इसके साथ ही नेतराम और उनके करीबियों के हवाला लिंक भी सामने आए हैं। सूत्रों की माने तो नेतराम इस बार बसपा पार्टी से लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रहे थे। बरामद रूपये चुनाव के समय खर्च होने के लिए रखे गये थे।

इसके साथ ही उनके मुखौटा कंपनियों के बारे में आयकर की टीम जांच पड़ताल कर रही है। आयकर विभाग के सूत्रों की माने तो नेतराम ने 95 करोड़ रुपये की फर्जी शेयर कैपिटल के जरिये छह प्रॉपर्टी खरीदी जिनमें से एक दिल्ली की लुटियंस जोन में केजी मार्ग और दूसरी दक्षिण दिल्ली के पॉश इलाके जीके-1 में स्थित है। उनकी एक संपत्ति मुंबई और तीन कोलकाता में हैं।

इसके अलावा 225 करोड़ रुपये की अतिरिक्त प्रॉपर्टी से संबंधित दस्तावेज भी मिले हैं, जिसकी जांच पड़ताल की जा रही है। आयकर सूत्रों की माने तो नेतराम की 30 मुखौटा कंपनियों में उनके करीबी लोग ही डायरेक्टर समेत अन्य पदों पर थे, जिसके जरिए वह काले धन को सफेद करने का काम करते थे।

आयकर की टीम इस मामले में नेतराम के करीबी और रिश्तेदारों से भी पूछताछ कर जांच पड़ताल कर रही है। सूत्रों की माने तो नेतराम इन कंपनियों के जरिए कालेधन को सफेद करने का भी काम करते थे। आयकर सूत्रों की माने तो इनक अलग—अलग मकानों में छापेमारी की गयी, जिसके बाद करोड़ रूपये की नकदी बरामद हुई है।