PM नरेंद्र मोदी ने वाराणसी के एक रिक्शा चालक को लिखा पत्र, जानिए पूरा मामला

rikashawala
PM नरेंद्र मोदी ने वाराणसी के एक रिक्शा चालक को लिखा पत्र, जानिए पूरा मामला

नई दिल्ली। वाराणसी (Varanasi) की गलियों में रिक्शा चलाने वाले मंगल केवट और उनके परिवार के लोग इन दिनों काफी खुश हैं। उनकी इस खुशी के दो कारण हैं। एक यह कि हाल ही में उनकी बेटी की शादी हुई है और दूसरी यह कि उनकी बेटी की शादी पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी शुभकामनाएं दी। पत्र में पीएम मोदी ने दुल्हन और उसके परिवार को भी अपनी ओर से आशीर्वाद और शुभकामनाएं दी है। पीएम मोदी की ओर से पत्र मिलने के बाद परिवार खुशी से झूम उठा।  

Rickshaw Driver Calls For Daughters Wedding Pm Modi Sends Congratulatory Message :

इस कारण पीएम ने भेजा पत्र

पत्र क्यों भेजा, ये सवाल आपके मन में भी कौंध रहा होगा। दरअसल, मंगल केवट ने अपनी बेटी की शादी में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रण पत्र भेजा था। जबकि आमंत्रण पत्र प्रधानमंत्री के दिल्ली और वाराणसी कार्यालय पर दिया गया था। वहीं पत्र भेजकर मंगल केवट अपनी बेटी की शादी की तैयारियों में जुट गए, लेकिन बेटी की शादी से कुछ घंटे पहले घर पर एक पत्र आया, जिसे देखकर मंगल केवट और उनके परिवार वालों की आंखों से खुशी के आंसू छलक आए। ये पत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का था। शादी से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पत्र भेजकर बेटी और उसके जीवनसाथी समेत पूरे परिवार को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं. खैर, जो कोई भी शादी में पहुंचा, मंगल केवट ने उसे पीएम का बधाई संदेश जरूर दिखाया।

कुछ ऐसी है मंगल केवट की कहानी

बनारस के राजघाट निवासी मंगल केवट की कहानी किसी नजीर से कम नहीं है। बनारस में गंगा किनारे कई लोग उन्हें गंगा पुत्र भी कहते हैं। रिक्शा चलाकर परिवार चलाने वाले मंगल पीएम से बेहद प्रभावित हैं। यही वजह है कि वह जो कुछ भी कमाते हैं, उसमें से कुछ हिस्सा मां गंगा के लिए खर्च करते हैं। अपने खर्च पर ही राजघाट पुल व उसके पास गंगा के किनारे प्रतिदिन स्वच्छता अभियान चलाते हैं। महापुरुषों की प्रतिमा को स्नान कराने के साथ लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने में भी जुटे रहते हैं। पिछले वर्ष वह रिक्शा चलाकर पीएम मोदी से मिलने नई दिल्ली जाने के लिए जिला अधिकारी से अनुमति मांगने पहुंचे थे।

पीएम ने दिलाई भाजपा की सदस्‍यतापिछले साल जब पीएम मोदी बीजेपी के सदस्यता अभियान की शुरुआत करने बनारस आए थे तो उन्होंने अपने हाथ से मंगल केवट को बीजेपी की सदस्यता दिलाई थी। इसके बाद से मंगल केवट का उत्साह चरम पर है और वह लगातार स्वच्छता अभियान चलाने में जुटे हैं।  
 

नई दिल्ली। वाराणसी (Varanasi) की गलियों में रिक्शा चलाने वाले मंगल केवट और उनके परिवार के लोग इन दिनों काफी खुश हैं। उनकी इस खुशी के दो कारण हैं। एक यह कि हाल ही में उनकी बेटी की शादी हुई है और दूसरी यह कि उनकी बेटी की शादी पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी शुभकामनाएं दी। पत्र में पीएम मोदी ने दुल्हन और उसके परिवार को भी अपनी ओर से आशीर्वाद और शुभकामनाएं दी है। पीएम मोदी की ओर से पत्र मिलने के बाद परिवार खुशी से झूम उठा।   इस कारण पीएम ने भेजा पत्र पत्र क्यों भेजा, ये सवाल आपके मन में भी कौंध रहा होगा। दरअसल, मंगल केवट ने अपनी बेटी की शादी में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रण पत्र भेजा था। जबकि आमंत्रण पत्र प्रधानमंत्री के दिल्ली और वाराणसी कार्यालय पर दिया गया था। वहीं पत्र भेजकर मंगल केवट अपनी बेटी की शादी की तैयारियों में जुट गए, लेकिन बेटी की शादी से कुछ घंटे पहले घर पर एक पत्र आया, जिसे देखकर मंगल केवट और उनके परिवार वालों की आंखों से खुशी के आंसू छलक आए। ये पत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का था। शादी से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पत्र भेजकर बेटी और उसके जीवनसाथी समेत पूरे परिवार को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं. खैर, जो कोई भी शादी में पहुंचा, मंगल केवट ने उसे पीएम का बधाई संदेश जरूर दिखाया। कुछ ऐसी है मंगल केवट की कहानी बनारस के राजघाट निवासी मंगल केवट की कहानी किसी नजीर से कम नहीं है। बनारस में गंगा किनारे कई लोग उन्हें गंगा पुत्र भी कहते हैं। रिक्शा चलाकर परिवार चलाने वाले मंगल पीएम से बेहद प्रभावित हैं। यही वजह है कि वह जो कुछ भी कमाते हैं, उसमें से कुछ हिस्सा मां गंगा के लिए खर्च करते हैं। अपने खर्च पर ही राजघाट पुल व उसके पास गंगा के किनारे प्रतिदिन स्वच्छता अभियान चलाते हैं। महापुरुषों की प्रतिमा को स्नान कराने के साथ लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने में भी जुटे रहते हैं। पिछले वर्ष वह रिक्शा चलाकर पीएम मोदी से मिलने नई दिल्ली जाने के लिए जिला अधिकारी से अनुमति मांगने पहुंचे थे। पीएम ने दिलाई भाजपा की सदस्‍यतापिछले साल जब पीएम मोदी बीजेपी के सदस्यता अभियान की शुरुआत करने बनारस आए थे तो उन्होंने अपने हाथ से मंगल केवट को बीजेपी की सदस्यता दिलाई थी। इसके बाद से मंगल केवट का उत्साह चरम पर है और वह लगातार स्वच्छता अभियान चलाने में जुटे हैं।