1. हिन्दी समाचार
  2. रिया चक्रवर्ती ने सुशांत की बहन प्रियंका समेत डॉ. तरुण कुमाार पर दर्ज कराया धोखाधड़ी का केस

रिया चक्रवर्ती ने सुशांत की बहन प्रियंका समेत डॉ. तरुण कुमाार पर दर्ज कराया धोखाधड़ी का केस

Riya Chakraborty Filed A Case Of Cheating On Sushants Sister Priyanka And Dr Tarun Kumar

By सोने लाल 
Updated Date

नई दिल्ली। सुशांत सिंह राजपूत केस में आए दिन नए खुलासे होते रहते हैं। लेकिन यहां तो ममला ही कुछ और हो गया है। रिया चक्रवर्ती ने सुशांत सिंह की बहन प्रियंका सिंह और राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल के डॉक्टर तरुण कुमाार समेत कई अन्य लोगों के खिलाफ फर्जी मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन बनाने का केस दर्ज कराया है। रिया ने जालसाजी, एनडीपीएस एक्ट और टेली मेडिसिन प्रैक्टिस गाइडलाइंस 2020 के खिलाफ केस दर्ज कराया है।

पढ़ें :- उपचुनाव: 56 विधानसभा सीटों पर इस दिन होगी वोटिंग, 10 नवंबर को आयेंगे नतीजे

रिया के वकील सतीश मनेशिंद के मुताबिक, 8 जून को सुशांत सिंह राजपूत को उनकी बहन प्रियंका सिंह ने राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल के डॉक्टर तरुण कुमार से फर्जी मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन भेजा था। उस प्रिस्क्रिप्शन में उन दवाओं का जिक्र था, जो एनडीपीएस एक्ट के तहत आता है और इसकी मनाही है।

रिया के वकील सतीश मानेशिंदे की माने तो प्रियंका सिंह के इसी प्रिस्क्रिप्शन को लकर सुशांत और रिया के बीच झगड़ा हुआ था। सतीश मानेशिंद ने कहा था, ‘उसकी बहन प्रियंका ने दिल्ली से मैसेज भेजा कि ये प्रिस्क्रिप्शन है। तो प्रिस्क्रिप्शन देखने के बाद रिया को पता चला कि ये प्रिस्क्रिप्शन डॉक्टर ने इन्हें एग्जामिन किए बिना भेजा है। इसीलिए इनके बारे में बातचीत हो गई और उस वक्त रिया ने बोला कि अगर बॉम्बे में हम डॉक्टर को मिलकर आ चुके हैं और वो डॉक्टर मिलकर दवाएं दे रहे हैं तो आप अगर वो दवाएंं नहीं ले रहे हो तो इसे नहीं लेना चाहिए।

रिया के वकील सतीश मानेशिंद ने बताया था कि सुशांत ने कहा कि नहीं अगर मेरी बहन बोल रही है तो मैं वही दवाएं लूंगा। इसके बाद दोनों की बहस हुई, तब सुशांत ने उसे बोला कि आप निकल जाओ बैग लेकर, अभी पता चलता है कि वो जो प्रिस्क्रिप्शन 12.30 या 12.40 बजे उन्होंने भेजा था वो फर्जी है। क्योंकि उसमें लिखा है कि सुशांत ओपीडी पेशेंट है। सुशांत बॉम्बे में था वो ओपीडी पेशेंट कैसे बन सकता है।

रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मनेशिंद ने कहा था, ‘नंबर दो वो डॉक्टर ने कभी सुशांत को एग्जामिन किया ही नहीं है। अगली बात ये है कि जिस डॉक्टर ने सुशांत को दवा प्रिस्क्राइब की थी वो कार्डियोलॉजिस्ट है। वो साइकैट्रिस्ट नहीं है। ऐसे डॉक्टर का तो लाइसेंस कैंसिल किया जाना चाहिए। फर्जी कागजात हैं और परिवार भी इसमें इनवॉल्व है।

पढ़ें :- कृषि कानून को लेकर राहुल का केंद्र पर हमला, कहा-देश के भविष्य के लिए इन कानूनों का विरोध करना पड़ेगा

इस पर सुशांत सिंह के पिता के वकील विकास सिंह पहले ही सफाई दे चुके हैं। उन्होंने कहा था, ‘8 तारीख को जब सुशांत बहुत घबराए हुए थे तो उन्होंने अपनी बहन को फोन किया था। बहन जो दवा खुद घबराहट के लिए खाया करती थी उसने वही दवा सुशांत को बोला कि खा लो, जब शायद उन्होंने कहा कि बिना प्रिस्क्रिप्शन के ये दवा नहीं मिलेगी तो उन्होंने ओरल प्रिस्क्रिप्शन करके वो दवा दिलवाई।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...