PM मोदी की बागपत रैली पर चुनाव आयोग पहुंची RLD, तत्काल रोक की मांग

PM मोदी की बागपत रैली पर चुनाव आयोग पहुंची RLD, तत्काल रोक की मांग
PM मोदी की बागपत रैली पर चुनाव आयोग पहुंची RLD, तत्काल रोक की मांग

Rld Demands Ec To Ban Pm Modi Baghpat Rally

नई दिल्ली। कैराना लोकसभा और फूलपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव को लेकर सियासी दांव पेंच शुरू हो गए हैं। 28 मई को कैराना और फूलपुर में मतदान होना है। चुनाव प्रचार धीरे-धीरे रंग पकड़ता दिख रहा है। उत्तर प्रदेश के बागपत में 27 मई को पीएम मोदी की रैली पर आरएलडी ने ऐतराज जताया है। राष्ट्रीय लोकदल ने कहा कि यह कैराना चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश है। आरएलडी ने मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की है।

गौरतलब है कि 28 मई को कैराना में लोकसभा उपचुनाव होना है। पीएम मोदी का संबोधन चुनावी गणित को बिगाड़ सकता है। इसी डर के चलते राष्ट्रीय लोकदल ने ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के उद्घाटन कार्यक्रम पर रोक की मांग की है। पीएम मोदी के कार्यक्रम पर रोक लगाने की मांग को लेकर रालोद ने चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है।

27 मई को बागपत में मोदी की रैली क्यों?

27 मई को नरेंद्र मोदी बागपत में ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे। 10 मई को सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया था कि किसी भी सूरत में मई के अंत तक 135 किलोमीटर लंबी इस एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया जाए। कैराना के लिए जहां बीजेपी अपने स्टार प्रचारक को उतार रही है वहीं दूसरी तरफ विपक्ष आपसी एकता बनाए हुए है।

‘चुनाव आयोग ने नहीं मानी मांग तो जाएंगे कोर्ट’

रालोद के प्रदेश प्रवक्ता अजयवीर चौधरी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया, ‘आदर्श आचार संहिता के मुताबिक किसी भी जिले में चुनाव होने के दौरान उस जिले से सटी सीमाओं को सील कर दिया जाता है। ऐसी स्थिति में जब 28 मई को कैराना में लोकसभा का उपचुनाव है तो उससे ठीक एक दिन पहले 27 मई को कैराना से सटे बागपत जिले में पीएम मोदी की रैली को इजाजत कैसे दी जा सकती है। यह आचार संहिता का उल्लंघन है। इस संबंध में चुनाव आयोग से मांग की गई है कि पीएम मोदी की 27 मई की रैली को रद्द किया जाए। अगर चुनाव आयोग उनकी मांग नहीं मानता है तो फिर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जाएगा।’

गौरतलब है कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने बनकर तैयार ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे के शुरू न होने पर नाराजगी जताई थी। शीर्ष कोर्ट ने कहा था कि इसकी शुरुआत के लिए PMO की हरी झंडी का इंतजार क्यों किया जा रहा है? सुप्रीम कोर्ट ने NHAI को कहा था कि इस महीने के अंत तक यानी 31 मई तक प्रधानमंत्री इसका उद्घाटन करें या न करें, 1 जून से हर हाल में एक्सप्रेस-वे को जनता के लिए खोल दिया जाए।

नई दिल्ली। कैराना लोकसभा और फूलपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव को लेकर सियासी दांव पेंच शुरू हो गए हैं। 28 मई को कैराना और फूलपुर में मतदान होना है। चुनाव प्रचार धीरे-धीरे रंग पकड़ता दिख रहा है। उत्तर प्रदेश के बागपत में 27 मई को पीएम मोदी की रैली पर आरएलडी ने ऐतराज जताया है। राष्ट्रीय लोकदल ने कहा कि यह कैराना चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश है। आरएलडी ने मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की है। गौरतलब…