उपेंद्र कुशवाहा के बिगड़े बोल, ‘सीता माता’ को लेकर की अभद्र टिप्पणी

upendra
उपेंद्र कुशवाहा के बिगड़े बोल, 'सीता माता' को लेकर की अभद्र टिप्पणी

नई दिल्ली। दरभंगा में आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए विवादित बयान दे डाला है। एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने बीजेपी के खिलाफ बयान दिया, जिससे विवाद पैदा हो गया है। कुशवाहा ने कहा कि बीजेपी रामलीला की उस नकली सीता की तरह है, जो पर्दे के आगे रहती है तो उसके सामने सिर झुकते हैं और पर्दे के पीछे जाकर वह सिगरेट पीती है।

Rlsp Leader Upendra Kushwaha Controversial Remarks About Sita Mata And Bjp :

कुशवाहा ने कहा, ‘हम तो बहुत नजदीक से देखकर आए हैं न, एनडीए में रहकर आए हैं। इतने सालों में बाहर से देखते रहे लेकिन अब तो अंदर जाकर देखकर आए हैं, क्या है इनके अंदर, क्या है इनके बाहर।’ उन्होंने आगे कहा, ‘रामलीला में मंच सजता है, पर्दा लगा होता है। पर्दा जब उठता है तो एक व्यक्ति माता सीता का रूप धारण करके आता है। देवी का रूप धारण करके, माताएं-बहनें जो देखती हैं सीता तो सिर झुका लेती हैं, इतना सम्मान…’।

‘पर्दे के पीछे सिगरेट पीती है सीता’

कुशवाहा ने कहा, ‘पर्दे के बाहर सीता का रूप और पर्दे के पीछे जाकर देखिए तो वही सीता जी सिगरेट पी रही होती हैं। बस यही भारतीय जनता पार्टी का चेहरा है।’ उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी में अंदर सब कर्म-कुकर्म होता है और बाहर भगवान-देवी के रूप में हैं। उन्होंने कहा, ‘देवी का रूप जनता के सामने मंच पर होता है और सिगरेट वाला रूप हम अंदर देखकर आए हैं।’

नई दिल्ली। दरभंगा में आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए विवादित बयान दे डाला है। एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने बीजेपी के खिलाफ बयान दिया, जिससे विवाद पैदा हो गया है। कुशवाहा ने कहा कि बीजेपी रामलीला की उस नकली सीता की तरह है, जो पर्दे के आगे रहती है तो उसके सामने सिर झुकते हैं और पर्दे के पीछे जाकर वह सिगरेट पीती है। कुशवाहा ने कहा, 'हम तो बहुत नजदीक से देखकर आए हैं न, एनडीए में रहकर आए हैं। इतने सालों में बाहर से देखते रहे लेकिन अब तो अंदर जाकर देखकर आए हैं, क्या है इनके अंदर, क्या है इनके बाहर।' उन्होंने आगे कहा, 'रामलीला में मंच सजता है, पर्दा लगा होता है। पर्दा जब उठता है तो एक व्यक्ति माता सीता का रूप धारण करके आता है। देवी का रूप धारण करके, माताएं-बहनें जो देखती हैं सीता तो सिर झुका लेती हैं, इतना सम्मान...'। 'पर्दे के पीछे सिगरेट पीती है सीता' कुशवाहा ने कहा, 'पर्दे के बाहर सीता का रूप और पर्दे के पीछे जाकर देखिए तो वही सीता जी सिगरेट पी रही होती हैं। बस यही भारतीय जनता पार्टी का चेहरा है।' उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी में अंदर सब कर्म-कुकर्म होता है और बाहर भगवान-देवी के रूप में हैं। उन्होंने कहा, 'देवी का रूप जनता के सामने मंच पर होता है और सिगरेट वाला रूप हम अंदर देखकर आए हैं।'