नीच शब्द को लेकर बिहार में मचा बवाल, RLSP समर्थकों पर पुलिस ने भांजी लाठियां

lathicharge on rlsp supporters
नीच शब्द को लेकर बिहार में बवाल, RLSP समर्थकों पर पुलिस ने भांजी लाठियां

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार द्वारा कथित तौर पर RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा को ‘नीच’ कहने पर मचा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसके विरोध में शनिवार को इसके विरोध में अखिल भारतीय कुशवाहा महासंघ ने पटना में राजभवन तक मार्च निकाला। प्रदर्शनकारी मार्च करते हुए गांधी मैदान के जेपी गोलंबर से डाक बंगला चौराहा पहुंचे वहां स्थिती खराब हो गई। पहले तो पुलिस ने उन्हे रोंकने का प्रयास किया, लेकिन जब नाराज लोग नहीं मानें तो पुलिस ने उन पर जमकर लाठियां बरसाईं। जिससे करीब एक दर्जन लोगों को गंभीर रूप से चोटे आई है।

Rlsp Protest Against Cm Nitish Kumar Police Charge Lathi On Protesters :

बता दें कि हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने उपेन्द्र कुशवाहा से जुड़े सवाल के जवाब में कहा था कि बातचीत के स्तर को नीचे मत ले जाइए। इसके बाद उपेन्द्र कुशवाहा ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार ने उन्हें नीच कहा है। उन्होंने कहा कि मैं नीतीश कुमार को बड़ा भाई मानता हूं, इसके बावजूद उन्होने मुझे नीच क्यों कहा?

उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि जब तक नीतिश कुमार सार्वजनिक रूप से स्पष्टीकरण नहीं देंगे, तब तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इसी के विरोध में शनिवार को अखिल भारतीय कुशवाहा महासंघ ने पटना में प्रदर्शन किया। नाराज लोग नीतिश कुमार मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे, जिसके बाद लोगों पर पुलिस ने जमकर लाठी भांजी।

इस मामले में पुलिस ने सफाई देते हुए कहा कि पहले भीड़ ने पुलिस टीम पर पथराव करते हुए बैरिकेडिंग तोड़ दी थी। लिहाजा भीड़ को तितर-बितर करने के लिए मजबूरन लाठी चार्ज करना पड़ा। जबकि अखिल भारतीय कुशवाहा महासंघ का कहना है कि पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर जानबूझ कर लाठी चार्ज किया, जिसमें एक दर्जन लोग घायल हो गए।

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार द्वारा कथित तौर पर RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा को 'नीच' कहने पर मचा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसके विरोध में शनिवार को इसके विरोध में अखिल भारतीय कुशवाहा महासंघ ने पटना में राजभवन तक मार्च निकाला। प्रदर्शनकारी मार्च करते हुए गांधी मैदान के जेपी गोलंबर से डाक बंगला चौराहा पहुंचे वहां स्थिती खराब हो गई। पहले तो पुलिस ने उन्हे रोंकने का प्रयास किया, लेकिन जब नाराज लोग नहीं मानें तो पुलिस ने उन पर जमकर लाठियां बरसाईं। जिससे करीब एक दर्जन लोगों को गंभीर रूप से चोटे आई है। बता दें कि हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने उपेन्द्र कुशवाहा से जुड़े सवाल के जवाब में कहा था कि बातचीत के स्तर को नीचे मत ले जाइए। इसके बाद उपेन्द्र कुशवाहा ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार ने उन्हें नीच कहा है। उन्होंने कहा कि मैं नीतीश कुमार को बड़ा भाई मानता हूं, इसके बावजूद उन्होने मुझे नीच क्यों कहा? उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि जब तक नीतिश कुमार सार्वजनिक रूप से स्पष्टीकरण नहीं देंगे, तब तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इसी के विरोध में शनिवार को अखिल भारतीय कुशवाहा महासंघ ने पटना में प्रदर्शन किया। नाराज लोग नीतिश कुमार मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे, जिसके बाद लोगों पर पुलिस ने जमकर लाठी भांजी। इस मामले में पुलिस ने सफाई देते हुए कहा कि पहले भीड़ ने पुलिस टीम पर पथराव करते हुए बैरिकेडिंग तोड़ दी थी। लिहाजा भीड़ को तितर-बितर करने के लिए मजबूरन लाठी चार्ज करना पड़ा। जबकि अखिल भारतीय कुशवाहा महासंघ का कहना है कि पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर जानबूझ कर लाठी चार्ज किया, जिसमें एक दर्जन लोग घायल हो गए।