1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Reliance New Energy Solar Limited ने इस अमेरिकी कंपनी में किया निवेश, बैटरी निर्माण सुविधा स्थापित करने पर चर्चा

Reliance New Energy Solar Limited ने इस अमेरिकी कंपनी में किया निवेश, बैटरी निर्माण सुविधा स्थापित करने पर चर्चा

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी, रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड (RNESL) अमेरीकी कंपनी अंबरी इंक में 14 करोड़ 40 लाख डॉलर के निवेश करेगी। अमेरिका के मैसाचुसेट्स में स्थित अंबरी इंक के 4 करोड़ 23 लाख शेयर्स को रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड 5 करोड़ डॉलर में खरीदेगी। RNESL ने अपने रणीतिक निवेशकों पॉलसन एंड कंपनी इंक एवं बिल गेट्स और कुछ अन्य निवेशकों के साथ इस सौदे की घोषणा की है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

मुंबई। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी, रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड (RNESL) अमेरिकी कंपनी अंबरी इंक (Ambari Inc) में 14 करोड़ 40 लाख डॉलर के निवेश करेगी। अमेरिका के मैसाचुसेट्स में स्थित अंबरी इंक के 4 करोड़ 23 लाख शेयर्स को रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड 5 करोड़ डॉलर में खरीदेगी। RNESL ने अपने रणीतिक निवेशकों पॉलसन एंड कंपनी इंक एवं बिल गेट्स और कुछ अन्य निवेशकों के साथ इस सौदे की घोषणा की है। निवेश से कंपनी को वैश्विक स्तर पर अपने लंबी अवधि वाले एनर्जी स्टोरेज सिस्टम को विकसित करने में मदद मिलेगी।

पढ़ें :- रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में तेजी जारी: लगभग 4% की कूद

अंबरी इंक (Ambari Inc) के पास 4 से 24 घंटे तक काम करने वाले एनर्जी स्टोरेज सिस्टम्स (Energy Storage Systems) का पेटेंट है। ग्रिड स्केल की ‘Stationery Storage Application’ में इस्तेमाल होने वाली लीथियम-आयन बैटरी से जुड़ी लागत, सुरक्षा और लंबे समय तक न चलने जैसी समस्याओं से अंबरी की तकनीक छुटकारा दिला सकती है। इससे अक्षय ऊर्जा को आसानी से ग्रिड सिस्टम में इंटीग्रेट किया जा सकेगा। RNESL और अंबरी भारत में बड़े पैमाने पर बैटरी निर्माण सुविधा स्थापित करने पर भी चर्चा कर रहे हैं। यह रिलायंस की ग्रीन ऊर्जा इनीशियेटिव की लागत कम करने में मददगार होगा।

इस साल जून में शेयरधारकों (Shareholders) को संबोधित करते हुए, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन (Chairman of Reliance Industries) मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने जामनगर में धीरूभाई अंबानी (Dhirubhai Ambani) ग्रीन एनर्जी गीगा कॉम्प्लेक्स परियोजना (Green Energy Giga Complex Project) के हिस्से के रूप में एनर्जी स्टोरेज के लिए एक गीगा फैक्ट्री बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि “हम नई और उन्नत इलेक्ट्रो-केमिकल प्रौद्योगिकियों की खोजबीन कर रहे हैं, जिनका उपयोग ग्रिड बैटरी के तौर पर ऊर्जा को स्टोर करने के लिए किया जा सकता हो। हम नई पीढ़ी की स्टोरेज और ग्रिड कनेक्टिविटी (Grid Connectivity) के माध्यम से 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए बैटरी प्रौद्योगिकी (Battery Technology) में वैश्विक लीडर्स (Global Leaders) के साथ सहयोग करेंगे

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...