फेरीवाले को करोड़पति लड़की से हुआ प्यार, पढ़ें दिलचस्प कहानी

Road Side Shopkeeper Fell In Love With Millionaire Girl

झांसी। कहावत तो सुनी ही होगी प्यार अंधा होता है इस स्टोरी को पढ़कर आपको भी यकीन हो जाएगा कि यह बात बिल्कुल सही है। अनपढ़ फेरीवाले ताहिर को शहर की एमए पास एक करोड़पति लड़की से पहली नज़र में प्यार हो गया। वह उस लड़की के प्यार में इस कदर पागल था कि कुछ भी कर गुजरने में उसे तनिक भी संकोच न था। लड़के ने लड़की से शादी का प्रस्ताव भी रखा था पर लड़की ने मना कर दि‍या तो इस प्रेमी ने कुएं में छलांग लगा दी और जैसे-तैसे जान बच गयी, लेकिन उस घटना के एक महीने बाद ही ताहिर ने फिर नींद की गोलियां खा ली। इस पागलपन को देख लड़की ने युवक से शादी कर ली।




दरअसल, पूरा मामला झांसी के शीपरी बाजार थाना क्षेत्र के रहने वाली शबाना और ताहिर का है। साल 2005 की बात है, शबाना नये साल के पहले दिन अपने घर के गेट पर खड़ी थी, ठीक उसी समय वहां से मो. ताहिर कपड़े बेचने के लि‍ए गुजरा, शबाना पर नजर पड़ते ही उसे प्यार हो गया। शबाना बताती हैं, ‘जब ताहिर ने मुझे देखा तो वह पहली ही नजर में दिल दे बैठा और उसके बाद ताहिर मेरे घर रिश्ता लेकर पहुँच गया।’




शबाना का कहना है, ‘मेरे मम्मी-पारा को जब पता चला कि लड़का कपड़ों की फेरी लगाता है तो साफ मना कर दिया पर ताहिर की ऐसी दीवानगी देख मैं उस पर फिदा हो गई और अपने मां-बाप की इच्छा के बगैर उससे शादी कर ली।”

झांसी। कहावत तो सुनी ही होगी प्यार अंधा होता है इस स्टोरी को पढ़कर आपको भी यकीन हो जाएगा कि यह बात बिल्कुल सही है। अनपढ़ फेरीवाले ताहिर को शहर की एमए पास एक करोड़पति लड़की से पहली नज़र में प्यार हो गया। वह उस लड़की के प्यार में इस कदर पागल था कि कुछ भी कर गुजरने में उसे तनिक भी संकोच न था। लड़के ने लड़की से शादी का प्रस्ताव भी रखा था पर लड़की ने मना कर दि‍या तो इस प्रेमी ने कुएं में छलांग लगा दी और जैसे-तैसे जान बच गयी, लेकिन उस घटना के एक महीने बाद ही ताहिर ने फिर नींद की गोलियां खा ली। इस पागलपन को देख लड़की ने युवक से शादी कर ली। दरअसल, पूरा मामला झांसी के शीपरी बाजार थाना क्षेत्र के रहने वाली शबाना और ताहिर का है। साल 2005 की बात है, शबाना नये साल के पहले दिन अपने घर के गेट पर खड़ी थी, ठीक उसी समय वहां से मो. ताहिर कपड़े बेचने के लि‍ए गुजरा, शबाना पर नजर पड़ते ही उसे प्यार हो गया। शबाना बताती हैं, ‘जब ताहिर ने मुझे देखा तो वह पहली ही नजर में दिल दे बैठा और उसके बाद ताहिर मेरे घर रिश्ता लेकर पहुँच गया।’ शबाना का कहना है, 'मेरे मम्मी-पारा को जब पता चला कि लड़का कपड़ों की फेरी लगाता है तो साफ मना कर दिया पर ताहिर की ऐसी दीवानगी देख मैं उस पर फिदा हो गई और अपने मां-बाप की इच्छा के बगैर उससे शादी कर ली।"