1. हिन्दी समाचार
  2. संवेदनहीनता: सड़क थी खराब तो नही आई एंबुलेंस, पत्नी को 6 KM कंधे पर पहुंचाया अस्पताल

संवेदनहीनता: सड़क थी खराब तो नही आई एंबुलेंस, पत्नी को 6 KM कंधे पर पहुंचाया अस्पताल

Road Was Bad Ambulance Did Not Come Husband Took Wife To Shoulder And Brought Her To Hospital

इरोड। तमिलनाडु के इरोड में एकबार फिर सरकार की नाकामियों की वजह से संवेदनहीनता देखने को मिला।यहां के सुंदरपुर में एक गर्भवती महिला प्रसव पीड़ा से परेशान थी तो परिजनों ने एंबुलेंस के लिए 108 को फोन किया। लेकिन बारिश की वजह से सड़कें खस्ताहाल हालत में होने से एंबुलेंस सुंदरपुर की सड़कों पर नहीं आ सकी। सुंदरपुर से नजदीकी अस्पताल की दूरी करीबन 6 KM थी लेकिन महिला के पति ने उसे अपने कंधे पर उठाकर अस्पताल पंहुचाया।

पढ़ें :- यूपीः विधान परिषद चुनाव में BJP के दस और SP के दो प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित

मामला सोमवार शाम का बताया जा रहा है, यहां के रहने वाले मधेश की पत्नी को कुमारी को प्रसव पीड़ा हुई तो पति ने 108 को फोन किया लेकिन खराब सड़कों की वजह से एंबुलेंस नही पंहुच सकी। एक तरफ अस्पताल की दूरी, दूसरी तरफ लगातार कुमारी का बढ़ता दर्द, जब पति को लगा कि कहीं कोई अनहोनी न हो जाये तो उसने ग्रामीणों की मदद से बांस और कपड़े का एक पालना बनाया और कुमारी को उसी से उठाकर अस्पताल ले गये जहां कुमारी ने एक बच्चे को जन्म दिया। इस दौरान लगभग ढाई घंटे लग गये।

इससे पहले भी कई बार कंधे पर मरीज को ढोकर अस्पताल ले जाने की तस्वीर सामने आ चुकी हैं लेकिन आज भी देश में कुछ ऐसे गांव हैं जहां एंबुलेंस पंहुचना ही मुमकिन नही है। वहीं इस मामले में एंबुलेंस सेवा में भी लापरवाही की गयी है। पति का कहना है कि जब वह पालना से पत्नी को 6 किमी दूर मैदानी इलाके में ले गये तो वहां भी एंबुलेंस नही पंहुची, इसके बाद एक प्राथमिक अस्पताल में ही पत्नी को ले गये।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...