रोहित शेखर हत्याकांड: पति के कत्ल से पहले अपूर्वा हर दिन इनसे बांटती थी अपना दुख

rohit shekher murder
रोहित शेखर हत्याकांड: पति के कत्ल से पहले अपूर्वा हर दिन इनसे बांटती थी अपना दुख

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी को मौत के घाट उतारने वाली उसके पत्नी अपूर्वा को शुक्रवार को जेल भेज दिया गया। हत्या के बाद से चल रही पूछताछ में नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि पति की हत्यारोपी अपूर्वा शादी के बाद से हर दिन अपनी बहन अपर्णा से ज़रूर बात करती थी और अपनी हर एक बात उसे बताती थी। दोनों बहनों के बीच दोस्तों जैसा रिश्ता है। अपूर्वा ने अपर्णा को बताया था कि उसकी सास और पति उसका उत्पीड़न करते हैं और उंनदोनों से उनका रिश्ता सही नहीं है।

Rohit Shekhar Tiwari Murder Case Apoorva Sister Aparna :

अपर्णा से जब पूछताछ हुई तो पता चला कि रोहित और अपूर्वा के बीच शादी के दिन ही तनाव शुरू हो गया था। इस बारे में अपूर्वा हर दिन उससे बात करती थी। अपर्णा का आरोप है कि रोहित की मां उज्ज्वला उसकी बहन अपूर्वा को प्रताड़ित करती थी यही नहीं रोहित उसके साथ मारपीट भी करता था।
अपूर्वा कभी नहीं चाहती थी कि ये सारी बाते उसके माता-पिता को पता चले, लेकिन रोहित से झगड़ा होने के बाद अपूर्वा जब अपने घर इंदौर आ गई थी तभी उसके घरवालों को उनके रिश्ते में आई दरार के बारे में जानकारी मिली।

अपूर्वा की मां मंजुला शुक्ला को जब ये सारी बाते पता चली तो मां ने बेटी की खुशी के लिए कभी तांत्रिक से संपर्क साधा तो कभी पुजारी को बुलाया।
लेकिन शायद ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था। काफिसमय बाद जब 30 मार्च को अपूर्वा लौटकर दिल्ली आई तो रोहित खुद उसे एयरपोर्ट से लेकर घर आया था। वहीं उसी के कुछ दिन बाद 11 अप्रैल को उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव था, रोहित और उज्जवला को वोट डालने के लिए वहां जाना था। जब रोहित वहां गया तो वो अपनी उस महिला मित्र को भी साथ ले गया था और दोनों ने साथ में शराब भी पी जिसकी वजह से अपूर्वा नाराज थी और इसके बाद ही अपूर्वा ने रोहित को मौत के घाट उतार दिया। हालांकि पुलिस ने अब रोहित हत्याकांड में अपूर्वा को गिरफ्तार कर लिया है।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी को मौत के घाट उतारने वाली उसके पत्नी अपूर्वा को शुक्रवार को जेल भेज दिया गया। हत्या के बाद से चल रही पूछताछ में नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि पति की हत्यारोपी अपूर्वा शादी के बाद से हर दिन अपनी बहन अपर्णा से ज़रूर बात करती थी और अपनी हर एक बात उसे बताती थी। दोनों बहनों के बीच दोस्तों जैसा रिश्ता है। अपूर्वा ने अपर्णा को बताया था कि उसकी सास और पति उसका उत्पीड़न करते हैं और उंनदोनों से उनका रिश्ता सही नहीं है। अपर्णा से जब पूछताछ हुई तो पता चला कि रोहित और अपूर्वा के बीच शादी के दिन ही तनाव शुरू हो गया था। इस बारे में अपूर्वा हर दिन उससे बात करती थी। अपर्णा का आरोप है कि रोहित की मां उज्ज्वला उसकी बहन अपूर्वा को प्रताड़ित करती थी यही नहीं रोहित उसके साथ मारपीट भी करता था। अपूर्वा कभी नहीं चाहती थी कि ये सारी बाते उसके माता-पिता को पता चले, लेकिन रोहित से झगड़ा होने के बाद अपूर्वा जब अपने घर इंदौर आ गई थी तभी उसके घरवालों को उनके रिश्ते में आई दरार के बारे में जानकारी मिली। अपूर्वा की मां मंजुला शुक्ला को जब ये सारी बाते पता चली तो मां ने बेटी की खुशी के लिए कभी तांत्रिक से संपर्क साधा तो कभी पुजारी को बुलाया। लेकिन शायद ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था। काफिसमय बाद जब 30 मार्च को अपूर्वा लौटकर दिल्ली आई तो रोहित खुद उसे एयरपोर्ट से लेकर घर आया था। वहीं उसी के कुछ दिन बाद 11 अप्रैल को उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव था, रोहित और उज्जवला को वोट डालने के लिए वहां जाना था। जब रोहित वहां गया तो वो अपनी उस महिला मित्र को भी साथ ले गया था और दोनों ने साथ में शराब भी पी जिसकी वजह से अपूर्वा नाराज थी और इसके बाद ही अपूर्वा ने रोहित को मौत के घाट उतार दिया। हालांकि पुलिस ने अब रोहित हत्याकांड में अपूर्वा को गिरफ्तार कर लिया है।