रोमियो बना योगी का कोतवाल, बेटी की उम्र की छात्रा को व्हाट्सएप्प पर लिखता था- I LIKE YOU

लखनऊ| यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सूबे की सत्ता संभालते ही प्रदेश में लड़कियों के साथ होने वाली छेड़खानी की घटनाओं को रोकने के लिए एंटी रोमियो स्क्वॉड का गठन किया था| लेकिन जब एंटी रोमियो टीम का सदस्य ही रोमियो बन जाए तो पीड़िता कहां जाए| मामला बरेली का है, जहां एक छात्रा ने बदायूं में तैनात एक एसओ पर व्हाट्सएप्प के जरिये परेशान करने का आरोप लगाया है|




पीड़िता का आरोप है कि बिसौली के एसओ एसपी उपाध्याय उससे नजदीकी बढ़ाने के लिए लंबे समय से प्रताड़ित कर रहे है| आरोप है कि गांव में पड़ोसी से जमीन को लेकर उठे मामूली विवाद में पुलिस की गिरफ्त में आये युवती के प्रधान पिता की पैरवी करना इस बेटी को भारी पड़ गया| अपने पिता की फ़ोन पर पैरवी करने के बाद से थानेदार व्हाट्सएप्प पर लड़की को मैसेज करने लगा|




लड़की का ये भी आरोप है कि जब उसने पुलिस में शिकायत की बात की तो उसके पिता को झूठे केस में थाने ले जाकर प्रताड़ित भी किया गया| पीड़ित लड़की ने एसएसपी से लेकर डीएम तक से शिकायत की लेकिन जब उसकी किसी ने नहीं सुनी तो उसने आईजी से शिकायत की| वहीं लड़की के शिकायत के बाद हरकत में आए आईजी ने युवती द्वारा दिए गए सबूतों के आधार पर तुरंत ही एसओ को सस्पेंड कर दिया| आईजी के आदेश पर उपाध्याय के खिलाफ बिसौली थाने में एफआईआर भी दर्ज की गई है|

चैटिंग में कही ये बातें:

इंस्पेक्टर : आप मिलने नहीं आईं, मै तो आप का वेट कर रहा था, मैं तुम्हें मिस करता हूं
छात्रा : आपको शर्म नहीं आती, आप मेरे पापा की उम्र के हैं, ऐसी बात करते हुए
इंस्पेक्टर: आप तो गुस्सा कर रही हैं, हमें भी अपने साथ चाय पीने का मौका दीजिए
छात्रा: क्या बकवास है, आपने मेरे पापा की मदद की इसका मतलब ये नहीं कि आप कुछ भी बोलेंगे।
इंस्पेक्टर : मैं तुम्हें पसंद करता हूं
छात्रा: क्या …. हरकत है, मैं तुम्हें ब्लॉक कर दूंगी
इंस्पेक्टर- बहुत पछताएंगी आप, हम तो दोस्ती करना चाहते थे, आगे आपकी मर्जी
छात्रा- सारी चैट एसएसपी सर को फॉरवर्ड करती हूं
इंस्पेक्टर- मुझे धमकी मत देना, आप मेरा कुछ नहीं कर पाएंगी याद रखना