बंदियों की पत्नियों व बच्चों को मिलेगी पेंशन

करनाल: समाज कल्याण विभाग ने जिला समाज कल्याण अधिकारी सत्यवान ढिलोड़ के नेतृत्व में जेल में बंद कैदियों की बेसहारा पत्नी व बच्चों को पेंशन सुविधा प्रदान करने के लिये एक कैंप का आयोजन किया। उन्होंने बताया कि हरियाणा में पहली बार किसी जेल में इस प्रकार का आयोजन किया गया। जिन व्यक्तियों को दो वर्ष या इससे अधिक की सजा हो चुकी है उस व्यक्ति की पत्नी व दो बच्चों, जिनकी आयु 21 वर्ष से अधिक न हो के लिए क्रमश: 1400 व 500-500 रुपये की मासिक पेंशन का प्रावधान है।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित सीजेएम सूर्यचंद्र कांत ने कहा कि सरकार की इस योजना से कैदियों की बेसहारा पत्नी व बच्चों को भी सम्मान से जीने का अधिकार मिलेगा। उन्होंने कहा कि कैदियों के परिवारों को यदि इस संदर्भ में कोई समस्या आती है तो जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (डीएलएसएके) पैरा लीगल वालंटियर उनकी मदद करेंगे। जेल अधीक्षक ने कहा कि बंदियों के परिवारों के लिए सरकार का यह कल्याणकारी कदम है। इस काम में जेल प्रशासन कैदी बंदियों की पूरी मदद करेगा।