संघ प्रमुख को फिर आई राम मंदिर की याद, दिया ये बड़ा बयान

rss chief mohan bhagwat
संघ प्रमुख को फिर आई राम मंदिर की याद, दिया ये बड़ा बयान

महाराष्ट्र। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत को फिर से राम मंदिर बनाने की याद आ गई है। जिसको लेकर राम मंदिर मुदृदे पर फिर से बयानबाजी शुरु हो गई है। संघ प्रमुख ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया और इसके बाद आरएसएस नेता इन्द्रेश कुमार भी उनका समर्थन कर दिया। संघ प्रमुख ने कहा कि इस बात में कोई शक नही है कि हम मंदिर अयोध्या में ही बनाएंगे, जहां पर वो पहले बना था।

Rss Cheif Mohan Bhagwat Says About Ram Mandir :

बता दें कि आरएसएस प्रमुख महाराष्ट्र के पालघर जिले के दहानू में विराट हिंदू सम्मलेन को संबोधित कर रहे थे। अपने संबोधन में उन्होने कहा कि अगर अयोध्या में राम मंदिर से फिर से नही बनाया गया तो हमारी संस्कृति की जड़ें ही कट जाएंगी।

अपने संबोधन के दौरान उन्होने कहा कि राम मंदिर को भारत के मुस्लिमों ने नही तोड़ा था, क्योकि भारतीय नागरिक ऐसा कर ही नही सकते। उन्होने कहा कि भारतीयों का मनोबल तोड़ने के लिए विदेशी ताकतों ने मंदिर को तोड़ा था। उन्होने कहा कि अब हम आजाद है इसलिए अब फर्ज है कि जिसे नष्ट किया गया है, उसे फिर से बनाया जाए। उन्होेन बताया कि वो सिर्फ मंदिर नही था, बल्कि हमारी पहचान के प्रतीक थे।

ऊधर आरएसएस के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य और हिमालय परिवार के संरक्षक इंद्रेश कुमार ने कहा कि जिस तक मक्का—मदीना और वेटिकन चर्च दुनिया में एक ही है, उसी तरह राम जन्मस्थान भी एक ही है। इसलिए मंदिर वही पर बनना चाहिए। उन्होने कहा कि अगर मस्जिद बनानी है तो वो अयोध्या के बाहर बने। उन्होने आगे की कहा कि मंदिर बाबर के नाम नहीं बल्कि खुदा के नाम बने और इसे सभी को मिलकर बनाना चाहिए।

इंद्रेश कुमार ने कहा कि देश में तमाम जगह भगवान राम के मंदिर हैं, लेकिन उनकी जन्मभूमि अयोध्या ही है। ये एक ज्ञात तथ्य है, इसलिए मंदिर पर कोई विवाद नही है। उन्होने कहा कि इस्लाम के मुताबिक किसी विवाहिद जगह पर मस्जिद नही बनानी चाहिए। इसलिए उन लोगों को चाहिए कि मस्जिद अयोध्या से बाहर बनवाएं। आगे उन्होने कहा कि कोर्ट ने भी विवादित स्थल का पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण कराया है, जिसमें वहां इस्लाम के कोई साक्ष्य नही मिले हैं।

महाराष्ट्र। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत को फिर से राम मंदिर बनाने की याद आ गई है। जिसको लेकर राम मंदिर मुदृदे पर फिर से बयानबाजी शुरु हो गई है। संघ प्रमुख ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया और इसके बाद आरएसएस नेता इन्द्रेश कुमार भी उनका समर्थन कर दिया। संघ प्रमुख ने कहा कि इस बात में कोई शक नही है कि हम मंदिर अयोध्या में ही बनाएंगे, जहां पर वो पहले बना था।बता दें कि आरएसएस प्रमुख महाराष्ट्र के पालघर जिले के दहानू में विराट हिंदू सम्मलेन को संबोधित कर रहे थे। अपने संबोधन में उन्होने कहा कि अगर अयोध्या में राम मंदिर से फिर से नही बनाया गया तो हमारी संस्कृति की जड़ें ही कट जाएंगी।अपने संबोधन के दौरान उन्होने कहा कि राम मंदिर को भारत के मुस्लिमों ने नही तोड़ा था, क्योकि भारतीय नागरिक ऐसा कर ही नही सकते। उन्होने कहा कि भारतीयों का मनोबल तोड़ने के लिए विदेशी ताकतों ने मंदिर को तोड़ा था। उन्होने कहा कि अब हम आजाद है इसलिए अब फर्ज है कि जिसे नष्ट किया गया है, उसे फिर से बनाया जाए। उन्होेन बताया कि वो सिर्फ मंदिर नही था, बल्कि हमारी पहचान के प्रतीक थे।ऊधर आरएसएस के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य और हिमालय परिवार के संरक्षक इंद्रेश कुमार ने कहा कि जिस तक मक्का—मदीना और वेटिकन चर्च दुनिया में एक ही है, उसी तरह राम जन्मस्थान भी एक ही है। इसलिए मंदिर वही पर बनना चाहिए। उन्होने कहा कि अगर मस्जिद बनानी है तो वो अयोध्या के बाहर बने। उन्होने आगे की कहा कि मंदिर बाबर के नाम नहीं बल्कि खुदा के नाम बने और इसे सभी को मिलकर बनाना चाहिए।इंद्रेश कुमार ने कहा कि देश में तमाम जगह भगवान राम के मंदिर हैं, लेकिन उनकी जन्मभूमि अयोध्या ही है। ये एक ज्ञात तथ्य है, इसलिए मंदिर पर कोई विवाद नही है। उन्होने कहा कि इस्लाम के मुताबिक किसी विवाहिद जगह पर मस्जिद नही बनानी चाहिए। इसलिए उन लोगों को चाहिए कि मस्जिद अयोध्या से बाहर बनवाएं। आगे उन्होने कहा कि कोर्ट ने भी विवादित स्थल का पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण कराया है, जिसमें वहां इस्लाम के कोई साक्ष्य नही मिले हैं।