पटना : कांग्रेस कार्यालय पर कार्यकर्ताओं का जमकर हंगामा, उम्मीदवारों के चयन पर उठे सवाल

congress rucks
पटना : कांग्रेस कार्यालय पर कार्यकर्ताओं का जमकर हंगामा, उम्मीदवारों के चयन पर उठे सवाल

नई दिल्ली। पटना स्थित कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय पर हुई हार के मंथन को लेकर बैठक में कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा काटा। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कांग्रेस नेताओं ने सीटो के तालमेल और उम्मीदवारों के चयन पर सवाल उठाए। बता दे कि कांग्रेस मौजूदा वक्त हार की समीक्षा कर रही है। ये सिलसिला पूरे देश में चल रहा है।

Ruckus Created At Congress Meeting At Patna :

बता दें कि दिल्ली से बिहार की सभी 40 सीटों का बूथवार डाटा मांगा गया था। जिसके बाद ये देखा जाएगा कि कहा—कहा पार्टी का परफार्मेंस सबसे ज्यादा कहां खराब रहा है। इसके अलावा गठबंधन वाली सीटों पर पार्टी की क्या स्थिती रही है। जिसके बाद पिछले चुनावों से इसकी तुलना की जाएगी। बता दें कि राज्य में कांग्रेस की गाड़ी नब्बे के दशक से पटरी से उतरी जो अब तक ट्रैक पर नहीं लौटी है।

बताते चलें कि वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस जहां 37 सीटों पर लड़ी और दो जीती। ​जबकि 2014 में राजद संग हुए गठबंधन में 12 सीटों पर चुनाव लड़ा। इस दौरान कांग्रेस के खाते में सिर्फ दो सीटे आई थी। इस बार यह संख्या महज नौ थी और कांग्रेस सिर्फ किशनगंज सीट जीत पाई।

नई दिल्ली। पटना स्थित कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय पर हुई हार के मंथन को लेकर बैठक में कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा काटा। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कांग्रेस नेताओं ने सीटो के तालमेल और उम्मीदवारों के चयन पर सवाल उठाए। बता दे कि कांग्रेस मौजूदा वक्त हार की समीक्षा कर रही है। ये सिलसिला पूरे देश में चल रहा है। बता दें कि दिल्ली से बिहार की सभी 40 सीटों का बूथवार डाटा मांगा गया था। जिसके बाद ये देखा जाएगा कि कहा—कहा पार्टी का परफार्मेंस सबसे ज्यादा कहां खराब रहा है। इसके अलावा गठबंधन वाली सीटों पर पार्टी की क्या स्थिती रही है। जिसके बाद पिछले चुनावों से इसकी तुलना की जाएगी। बता दें कि राज्य में कांग्रेस की गाड़ी नब्बे के दशक से पटरी से उतरी जो अब तक ट्रैक पर नहीं लौटी है। बताते चलें कि वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस जहां 37 सीटों पर लड़ी और दो जीती। ​जबकि 2014 में राजद संग हुए गठबंधन में 12 सीटों पर चुनाव लड़ा। इस दौरान कांग्रेस के खाते में सिर्फ दो सीटे आई थी। इस बार यह संख्या महज नौ थी और कांग्रेस सिर्फ किशनगंज सीट जीत पाई।