आज से बदलेंगे ये नियम, जाने आपकी जेब पर कितना पड़ेगा असर

आज से बदलेंगे ये नियम, जाने आपकी जेब पर कितना पड़ेगा असर
आज से बदलेंगे ये नियम, जाने आपकी जेब पर कितना पड़ेगा असर

नई दिल्ली। एक तरफ जहां पूरा देश कोरोना वायरस के संकट से जूझ रहा है वहीं 1 जुलाई यानि आज से कई सारे नियमों में भी बदलाव किए जा रहे हैं। 1 जुलाई से अनलॉक-2 की प्रक्रिया भी शुरू हुई है, जिसमें कुछ ऐसे भी बदलाव होंगे जिनका सीधा असर आम जनता की जेब पर पड़ेगा। आइए जानते हैं क्या-क्या हो रहे हैं बदलाव….

Rules Changed From 1st July :

एटीएम से पैसे निकालन

अब एक निश्चित सीमा से अधिक बार एटीएम से पैसे निकालने पर प्रति ट्रांजेक्शन 20 रुपए अतिरिक्त चार्ज लगेगा।

मिनिमम बैलेंस से जुड़ा नियम

कोरोना वायरस के मद्देनजर निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया था कि किसी को भी 30 जून तक न्यूनतम बैलेंस रखने की अनिवार्यता नहीं होगी लेकिन अब 1 जुलाई से फिर से पुरानी व्यवस्था लागू हो जाएगी।

रसोई गैस की कीमतों में होगी बढ़ोत्तरी

तेल मार्केटिंग कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी रसोई गैस और हवाई ईंधान एटीएफ के दामों में बदलाव करती हैं। पिछले कुछ महीनों से कीमतें लगातार बढ़ रही है। आज इनकी कीमतों में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है।

म्यूचुअल फंड खरीदने पर स्टांप ड्यूटी

1 जुलाई से म्यूचुअल फंड से जुड़ा एक बदलाव हुआ है, जिसके तहत अब म्यूचुअल फंड खरीदने पर आपको उस पर स्टांप ड्यूटी देनी पड़ेगी। यानी अगर आप SIP या STP में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो स्टांप ड्यूटी देने के लिए तैयार रहिए। बता दें कि नए नियम के मुताबिक म्यूचुअल फंड खरीदने पर कुल निवेश का 0.005 फीसदी स्टांप ड्यूटी देनी होगी।

नई कंपनियों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आसान

अगर आप कोई नई कंपनी खोलना चाह रहे हैं तो आज से आप घर बैठे ही सिर्फ आधार से कंपनी का रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। मौजूदा समय में कंपनी का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए तमाम दस्तावेज जमा करने होते हैं, जिससे ये प्रक्रिया कठिन बन जाती है। सरकार की ओर से इसके दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं।

पीएनबी सेविंग अकाउंट पर कम ब्याज

पंजाब नेशनल बैंक ने सेविंग अकाउंट पर दिए जाने वाले ब्याज में 0.50 फीसदी की कटौती की है और नई दरें 1 जुलाई से प्रभावी हो गई हैं। अब पीएनबी बचत खाते पर सालाना 3.25 फीसदी ब्याज मिलेगा। अब पीएनबी के बचत खाते में 50 लाख रुपए तक पर 3 फीसदी और उससे अधिक की रकम पर 3.5 फीसदी का ब्याज मिलेगा।

पीएफ का पैसा निकालना आसान नहीं

कोरोना वायरस महामारी के चलते लॉकडाउन होने और लोगों को कैश की किल्लत से जूझते हुए देखने के बाद मोदी सरकार ने ईपीएफ अकाउंट होल्डर्स को एक खास सुविधा दी थी। इस सुविधा के तहत लोग अपने पीएफ खाते से एक तय रकम निकाल सकते हैं, ताकि अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा कर सकें। खुद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसका ऐलान किया था, लेकिन अब वह मियाद खत्म हो गई है। कोरोना की वजह से पीएफ अकाउंट से पैसे निकालने की छूट 30 जून 2020 तक बढ़ा दी गई थी। बता दें EPF खाते से निकाली जाने वाली राशि अंशधारक के तीन महीने के मूल वेतन और महंगाई भत्ते के योग या उसके खाते में जमा हुई कुल राशि के तीन चौथाई में से जो भी कम हो, उससे अधिक नहीं हो सकती थी।

PPF और सुकन्या समृद्धि योजना का मिनिमम अमाउंट

सरकार ने PPF और सुकन्या समृद्धि योजना के खाताधारकों को राहत दी है। जो लोग भी इन खातों में न्यूनतम किस्त 2019-20 के लिए जमा नहीं कर पाए हैं, वह 30 जून 2020 तक किस्त भर सकते थे। अच्छी बात ये है कि इसे देरी से भरी गई किस्त नहीं माना जाना था। साथ ही कोई पेनाल्टी या फिर रिवाइवल फीस भी नहीं वसूली जानी थी, लेकिन अब तब जिन्होंने पैसे जमा नहीं किए हैं, उन्हें ये सारी छूट नहीं मिलेंगी। बता दें कि PPF अकाउंट के लिए यह मिनिमम डिपॉजिट एक वित्त वर्ष में 500 रुपये है, जबकि सुकन्या समृद्धि स्कीम के लिए 250 रुपये है।

‘सबका विश्वास योजना’ से जुड़ा फायदा नहीं

सरकार ने PPF और सुकन्या समृद्धि योजना के खाताधारकों को राहत दी है। जो लोग भी इन खातों में न्यूनतम किस्त 2019-20 के लिए जमा नहीं कर पाए हैं, वह 30 जून 2020 तक किस्त भर सकते थे। अच्छी बात ये है कि इसे देरी से भरी गई किस्त नहीं माना जाना था। साथ ही कोई पेनाल्टी या फिर रिवाइवल फीस भी नहीं वसूली जानी थी, लेकिन अब तब जिन्होंने पैसे जमा नहीं किए हैं, उन्हें ये सारी छूट नहीं मिलेंगी। बता दें कि PPF अकाउंट के लिए यह मिनिमम डिपॉजिट एक वित्त वर्ष में 500 रुपये है, जबकि सुकन्या समृद्धि स्कीम के लिए 250 रुपये है।

‘सबका विश्वास योजना’ से जुड़ा फायदा नहीं

मोदी सरकार की इस योजना के तहत सर्विस टैक्स और केंद्रीय उत्पाद शुल्क से जुड़े पुराने लंबित विवादित मामलों का निपटारा किया जाना था। इसकी आखिरी तारीख 30 जून थी। 1 जुलाई से अब इस योजना का फायदा उन लोगों को नहीं मिल सकेगा, जो अब तक इस स्कीम का फायदा नहीं उठा पाए हैं।

नई दिल्ली। एक तरफ जहां पूरा देश कोरोना वायरस के संकट से जूझ रहा है वहीं 1 जुलाई यानि आज से कई सारे नियमों में भी बदलाव किए जा रहे हैं। 1 जुलाई से अनलॉक-2 की प्रक्रिया भी शुरू हुई है, जिसमें कुछ ऐसे भी बदलाव होंगे जिनका सीधा असर आम जनता की जेब पर पड़ेगा। आइए जानते हैं क्या-क्या हो रहे हैं बदलाव.... एटीएम से पैसे निकालन अब एक निश्चित सीमा से अधिक बार एटीएम से पैसे निकालने पर प्रति ट्रांजेक्शन 20 रुपए अतिरिक्त चार्ज लगेगा। मिनिमम बैलेंस से जुड़ा नियम कोरोना वायरस के मद्देनजर निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया था कि किसी को भी 30 जून तक न्यूनतम बैलेंस रखने की अनिवार्यता नहीं होगी लेकिन अब 1 जुलाई से फिर से पुरानी व्यवस्था लागू हो जाएगी। रसोई गैस की कीमतों में होगी बढ़ोत्तरी तेल मार्केटिंग कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी रसोई गैस और हवाई ईंधान एटीएफ के दामों में बदलाव करती हैं। पिछले कुछ महीनों से कीमतें लगातार बढ़ रही है। आज इनकी कीमतों में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है। म्यूचुअल फंड खरीदने पर स्टांप ड्यूटी 1 जुलाई से म्यूचुअल फंड से जुड़ा एक बदलाव हुआ है, जिसके तहत अब म्यूचुअल फंड खरीदने पर आपको उस पर स्टांप ड्यूटी देनी पड़ेगी। यानी अगर आप SIP या STP में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो स्टांप ड्यूटी देने के लिए तैयार रहिए। बता दें कि नए नियम के मुताबिक म्यूचुअल फंड खरीदने पर कुल निवेश का 0.005 फीसदी स्टांप ड्यूटी देनी होगी। नई कंपनियों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आसान अगर आप कोई नई कंपनी खोलना चाह रहे हैं तो आज से आप घर बैठे ही सिर्फ आधार से कंपनी का रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। मौजूदा समय में कंपनी का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए तमाम दस्तावेज जमा करने होते हैं, जिससे ये प्रक्रिया कठिन बन जाती है। सरकार की ओर से इसके दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। पीएनबी सेविंग अकाउंट पर कम ब्याज पंजाब नेशनल बैंक ने सेविंग अकाउंट पर दिए जाने वाले ब्याज में 0.50 फीसदी की कटौती की है और नई दरें 1 जुलाई से प्रभावी हो गई हैं। अब पीएनबी बचत खाते पर सालाना 3.25 फीसदी ब्याज मिलेगा। अब पीएनबी के बचत खाते में 50 लाख रुपए तक पर 3 फीसदी और उससे अधिक की रकम पर 3.5 फीसदी का ब्याज मिलेगा। पीएफ का पैसा निकालना आसान नहीं कोरोना वायरस महामारी के चलते लॉकडाउन होने और लोगों को कैश की किल्लत से जूझते हुए देखने के बाद मोदी सरकार ने ईपीएफ अकाउंट होल्डर्स को एक खास सुविधा दी थी। इस सुविधा के तहत लोग अपने पीएफ खाते से एक तय रकम निकाल सकते हैं, ताकि अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा कर सकें। खुद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसका ऐलान किया था, लेकिन अब वह मियाद खत्म हो गई है। कोरोना की वजह से पीएफ अकाउंट से पैसे निकालने की छूट 30 जून 2020 तक बढ़ा दी गई थी। बता दें EPF खाते से निकाली जाने वाली राशि अंशधारक के तीन महीने के मूल वेतन और महंगाई भत्ते के योग या उसके खाते में जमा हुई कुल राशि के तीन चौथाई में से जो भी कम हो, उससे अधिक नहीं हो सकती थी। PPF और सुकन्या समृद्धि योजना का मिनिमम अमाउंट सरकार ने PPF और सुकन्या समृद्धि योजना के खाताधारकों को राहत दी है। जो लोग भी इन खातों में न्यूनतम किस्त 2019-20 के लिए जमा नहीं कर पाए हैं, वह 30 जून 2020 तक किस्त भर सकते थे। अच्छी बात ये है कि इसे देरी से भरी गई किस्त नहीं माना जाना था। साथ ही कोई पेनाल्टी या फिर रिवाइवल फीस भी नहीं वसूली जानी थी, लेकिन अब तब जिन्होंने पैसे जमा नहीं किए हैं, उन्हें ये सारी छूट नहीं मिलेंगी। बता दें कि PPF अकाउंट के लिए यह मिनिमम डिपॉजिट एक वित्त वर्ष में 500 रुपये है, जबकि सुकन्या समृद्धि स्कीम के लिए 250 रुपये है। 'सबका विश्वास योजना' से जुड़ा फायदा नहीं सरकार ने PPF और सुकन्या समृद्धि योजना के खाताधारकों को राहत दी है। जो लोग भी इन खातों में न्यूनतम किस्त 2019-20 के लिए जमा नहीं कर पाए हैं, वह 30 जून 2020 तक किस्त भर सकते थे। अच्छी बात ये है कि इसे देरी से भरी गई किस्त नहीं माना जाना था। साथ ही कोई पेनाल्टी या फिर रिवाइवल फीस भी नहीं वसूली जानी थी, लेकिन अब तब जिन्होंने पैसे जमा नहीं किए हैं, उन्हें ये सारी छूट नहीं मिलेंगी। बता दें कि PPF अकाउंट के लिए यह मिनिमम डिपॉजिट एक वित्त वर्ष में 500 रुपये है, जबकि सुकन्या समृद्धि स्कीम के लिए 250 रुपये है। 'सबका विश्वास योजना' से जुड़ा फायदा नहीं मोदी सरकार की इस योजना के तहत सर्विस टैक्स और केंद्रीय उत्पाद शुल्क से जुड़े पुराने लंबित विवादित मामलों का निपटारा किया जाना था। इसकी आखिरी तारीख 30 जून थी। 1 जुलाई से अब इस योजना का फायदा उन लोगों को नहीं मिल सकेगा, जो अब तक इस स्कीम का फायदा नहीं उठा पाए हैं।