तोहफा : रेलवे लोको पायलट और ​रनिंग स्टाफ को मिलेगा दोगुना अलाउंस

railway loko pilot
तोहफा : रेलवे लोको पायलट और ​रनिंग स्टाफ को मिलेगा दोगुना अलाउंस

नई दिल्ली। नए साल में रेलवे के एक लाख से अधिक लोको पायलट, सहायक लोको पायलट व रनिंग स्टाफ को बढ़ी हुई रनिंग अलाउंस की सौगात मिलने जा रही है। डेढ साल की जद्दोजहद के बाद रेलवे बोर्ड ने अलाउंस दो गुना कर दिया है। बताया जा रहा है कि इस फैसले के बाद लोको पायलट व गार्ड की प्रति माह 12 से 25 हजार रुपये कमाई बढ़ जाएगी। हालाकि पहले से ही घाटे में चल रही रेलवे पर इससे और भी ज्यादा बोझ गढ़ जाएगा।

Running Allowance Of Loco Pilot Assistant Loco Pilot And Guard Is Now Double In Railway :

बता दें कि रेलवे बोर्ड ने ड्राइवर-गार्ड का रनिंग अलाउंस 525 रूपए कर दिया है, जो पहले मात्र 255 रूपए ही था। रेलवे के विभिन्न श्रेणी के कर्मचारियों को अलाउंस जुलाई 2017 में दे दिया गया था। लेकिन रनिंग स्टाफ को लेकर रेल यूनियन व रेलवे बोर्ड में खींचतान चल रही थी। जिसके बाद जून 2018 में रेलवे बोर्ड ने रनिंग अलाउंस को दोगुना करने का आदेश दे दिया।

रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक इसी माह रेलवे बोर्ड के उक्त फैसले पर वित्त मंत्रालय की मुहर लग जाएगी। जिसके बाद बढ़े हुए अलाउंस मिलने शुरु हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि यात्री ट्रेनों व मालगाड़ी के लोको पायलट व गार्ड के रनिंग अलाउंस में एक अथवा दो रुपये का अंतर होता है।

नई दिल्ली। नए साल में रेलवे के एक लाख से अधिक लोको पायलट, सहायक लोको पायलट व रनिंग स्टाफ को बढ़ी हुई रनिंग अलाउंस की सौगात मिलने जा रही है। डेढ साल की जद्दोजहद के बाद रेलवे बोर्ड ने अलाउंस दो गुना कर दिया है। बताया जा रहा है कि इस फैसले के बाद लोको पायलट व गार्ड की प्रति माह 12 से 25 हजार रुपये कमाई बढ़ जाएगी। हालाकि पहले से ही घाटे में चल रही रेलवे पर इससे और भी ज्यादा बोझ गढ़ जाएगा। बता दें कि रेलवे बोर्ड ने ड्राइवर-गार्ड का रनिंग अलाउंस 525 रूपए कर दिया है, जो पहले मात्र 255 रूपए ही था। रेलवे के विभिन्न श्रेणी के कर्मचारियों को अलाउंस जुलाई 2017 में दे दिया गया था। लेकिन रनिंग स्टाफ को लेकर रेल यूनियन व रेलवे बोर्ड में खींचतान चल रही थी। जिसके बाद जून 2018 में रेलवे बोर्ड ने रनिंग अलाउंस को दोगुना करने का आदेश दे दिया। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक इसी माह रेलवे बोर्ड के उक्त फैसले पर वित्त मंत्रालय की मुहर लग जाएगी। जिसके बाद बढ़े हुए अलाउंस मिलने शुरु हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि यात्री ट्रेनों व मालगाड़ी के लोको पायलट व गार्ड के रनिंग अलाउंस में एक अथवा दो रुपये का अंतर होता है।